scorecardresearch
 

जेएनयू विवाद: अब तक क्या-क्या हुआ

दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी से उपजा विवाद हर दिन गहराता जा रहा है. जहां कुछ लोग यूनिवर्सिटी को बंद करने की सलाह दे रहे हैं वहीं कुछ लोग जेएनयू छात्रों की गिरफ्तारी के खिलाफ केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस ने अन्य आरोपियों की तलाश में अन्य राज्यों में छापे मारे. पढ़िए जेएनयू केस में अब तक क्या हुआ.

X
जेएनयू में राष्ट्रविरोधी नारों को लेकर हुआ विवाद जेएनयू में राष्ट्रविरोधी नारों को लेकर हुआ विवाद

दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी से उपजा विवाद हर दिन गहराता जा रहा है. जहां कुछ लोग यूनिवर्सिटी को बंद करने की सलाह दे रहे हैं उनका दावा है कि इस विश्वविद्यालय में राष्ट्र-विरोधी तत्वों को जन्म देती है. वहीं कुछ लोग जेएनयू छात्रों की गिरफ्तारी के खिलाफ केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. दूसरी तरफ दिल्ली पुलिस ने अन्य आरोपियों की तलाश में अन्य राज्यों में छापे मारे. पढ़िए जेएनयू केस में अब तक क्या हुआ.

1. जर्नलिस्ट, जेएनयू छात्रों और टीचर्स को पीटने के मामले में सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को तत्काल सुनवाई होगी. ये घटना उस वक्त हुई थी जब सोमवार को देशद्रोह के मामले में कन्हैया को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया था.

2. जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में कुछ छात्रों द्वारा देश विरोधी नारे लगाने पर हैकर्स के एक ग्रुप ने नाराजगी जाहिर की है. ब्लैक ड्रैगन नाम के एक ग्रुप ने वेबसाइट पर संदेश छोड़ा है, 'जैसा कि तुमने कहा कि "कश्मीर की आजादी तक जंग रहेगी-जंग रहेगी." तुम्हें लगता है कि जेएनयू के कैंपस के अंदर भौंकने भर से कश्मीर तुम्हें मिल जाएगा.'

3.बुधवार को JNUSU अध्यक्ष कन्हैया कुमार की पुलिस हिरासत खत्म हो जाएगी. उनकी आज पटियाला हाउस कोर्ट में पेशी होगी.

4. प्रेस क्लब में देशविरोधी नारेबाजी के आरोपी एएसआर गिलानी ने ये स्वीकार किया है कि वह पहले दो बार इस तरह की बैठकों में हिस्सा ले चुके हैं. उन्होंने एक छात्र मुदस्सर के नाम रका खुलासा किया जो इस तरह की बैठके आयोजित करने के लिए लोगों को प्रेरित करता था. मुदस्सर को उन्होंने अपना परिचित बताया.

5. जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में नौ फरवरी को अफजल गुरु की बरसी पर देशविरोधी नारेबाजी से बढ़े विवाद पर दिल्ली पुलिस ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली है. जिसमें कहा गया है कि देशविरोधी नारे लगाने वालों के खिलाफ पर्याप्त सबूत थे कि वह राष्ट्रविरोधी गतिविधि में शामिल हैं. क्योंकि दुर्गापूजा के दौरान कैंपस में इन लोगों ने महिषासुर की पूजा की और हॉस्टल के मेस में ये लोग बीफ मांगते हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि नौ फरवरी को हुए राष्ट्रविरोधी प्रदर्शन में लेफ्ट संगठन डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स यूनियन का हाथ था. जबकि डेमोक्रेटिक स्टूडेंट्स फ्रंट जेएनयू में राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में पहले भी शामिल रहा है.

6. देश विरोधी नारे लगाने के आरोप में गिरफ्तार हुए जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार से हुई पुलिस पूछताछ की जानकारी सामने आई है. कन्हैया ने पूछताछ के दौरान यह स्वीकार किया है कि उसने आरएसएस और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निंदा की थी, लेकिन देश विरोधी नारे लगाने की बात से इनकार किया है.

7. जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में नौ फरवरी को हुए देशविरोधी नारेबाजी से बढ़े विवाद पर दिल्ली पुलिस ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली है. दिल्ली पुलिस कमिश्नर बी एस बस्सी के मुताबिक उनके पास जेएनयूएसयू अध्यक्ष कन्हैया कुमार और डीयू के पूर्व प्रोफेसर एसएआर गिलानी को गिरफ्तार करने के लिए जरूरी सबूत थे. उन्होंने आने वाले दिनों में और गिरफ्तारियों की बात भी कही.

8. बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने मांग की है कि जेएनयू को मई में फाइनल परीक्षा के बाद चार महीने के लिए बंद कर दिया जाना चाहिए ताकि छात्रावासों को ऐसे छात्रों से मुक्त किया जा सके जिनकी भारतीय संविधान में निष्ठा नहीं है. संविधान में निष्ठा रखने वाले छात्रों को ही एफिडेविट पर दस्तखत कर वापस आने की इजाजत देनी चाहिए.

9. बीजेपी नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने जेएनयू में देश विरोधी गतिविधियों को लेकर उठे विवाद पर पार्टी से इतर अपनी राय पेश की है. ट्विटर पर उन्होंने छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को निर्दोष बताते हुए लिखा कि कन्हैया के भाषण में कुछ भी देश विरोधी नहीं है.

10. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने जेएनू विवाद को लेकर पीएम मोदी को चिट्ठी लिखी. उन्होंने लिखा, 'पटियाला हाउस कोर्ट में जो भी हुआ वह सिस्टम की विफलता को उजागर करता है. जिस तरह छात्रों, पत्रकारों और प्रोफेसरों पर हमला किया गया वह चौंका देने वाला है. अगर लोग कोर्ट में भी सुरक्षित नहीं है तो और कहां होंगे.'

11. दिल्ली पुलिस ने कन्हैया कुमार को 12 फरवरी को देशद्रोह और आपराधिक साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें