scorecardresearch
 

दिल्लीः जामिया के 50 छात्रों की रिहाई के बाद तड़के 4 बजे खत्म हुआ PHQ के बाहर प्रदर्शन

जामिया में हुई झड़प में 6 पुलिसकर्मी और 11 छात्र घायल हैं. 24 छात्रों को हल्की चोटें आई हैं. जामिया में बवाल के चलते दिल्ली के 15 मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए गए. यहां मेट्रो नहीं रोकी जा रही. इधर जामिया के बाद अलीगढ़ के एएमयू में भी बवाल हुआ है. वहां भी पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे हैं. एहतियातन अलीगढ़ और सहारनपुर में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है.

पुलिस एक्शन के खिलाफ PHQ पर प्रदर्शन करते छात्र (Courtesy- PTI) पुलिस एक्शन के खिलाफ PHQ पर प्रदर्शन करते छात्र (Courtesy- PTI)

  • जामिया मिलिया में पुलिस कार्रवाई के खिलाफ PHQ के बाहर नारेबाजी
  • नागरिकता कानून पर जामिया इलाके में प्रदर्शनकारियों ने कई बसें फूंकीं
  • जामिया इलाके में हिंसा के बाद भारी पुलिस बल तैनात, हालात काबू में
  • हिरासत में लिए गए जामिया के सभी 50 छात्रों को पुलिस ने किया रिहा

नागरिकता कानून के विरोध में रविवार को दिल्ली के जामिया इलाके में जमकर हिंसा हुई. रविवार शाम प्रदर्शनकारियों ने कई बसें और बाइक फूंक दी. उपद्रवियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा और आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. इसके बाद पुलिसकर्मियों ने अराजक तत्वों के जामिया मिलिया विश्वविद्यालय में घुसे होने के संदेह पर कैंपस से सभी छात्रों को बाहर निकाल दिया.

उधर विश्वविद्यालय प्रशासन और छात्रों का आरोप है कि पुलिस ने उनके साथ बर्बरता की. पुलिस के विरोध में रात 9 बजे से पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर जामिया और जेएनयू के छात्र प्रदर्शन करने जमा हो गए. पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर छात्रों का विरोध प्रदर्शन तड़के साढ़े चार बजे तक चला. इसके बाद छात्र पुलिस हेडक्वार्टर से रवाना हुए.

वहीं, इस घटना पर राजनीति भी जमकर शुरू हो गई. कांग्रेस ने रात 11.30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मोदी सरकार को पुलिस कार्रवाई के लिए दोषी ठहराया. रात 12 बजे के करीब वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सलमान खुर्शीद छात्रों को समर्थन देने पुलिस हेडक्वार्टर पहुंचे. वहीं, जामिया में हुई झड़प में साउथ ईस्ट डीसीपी चिन्मय बिस्वाल, एडिशनल डीसीपी साउथ, 2 एसीबी, 5 एसएचओ और इंसपेक्टर समेत कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

इसके अलावा होली फैमिली अस्पताल में कुल 51 छात्र भर्ती कराए गए थे. जिनमें से 41 छात्रों को मामूली उपचार के बाद वापस भेज दिया गया है. जबकि 10 अन्य छात्र अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं. 

injured-student-list_121619121139.jpg

जामिया में बवाल के चलते दिल्ली के 15 मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए गए. यहां मेट्रो नहीं रोकी जा रही. वहीं जामिया के आसपास के इलाकों में उत्पात की घटना को देखते हुए सोमवार को सभी स्कूल बंद रखने के आदेश दिए गए हैं.

दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने कहा- घायल छात्रों को रिहा करे पुलिस

वहीं, देर रात दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने कालकाजी पुलिस स्टेशन के एसएचओ को निर्देश दिया कि वो जामिया मिलिया के हिरासत में लिए गए छात्रों को रिहा करें. साथ ही छात्रों को इलाज के लिए अच्छे अस्पताल में भर्ती कराएं. अगर छात्रों को लेकर किसी भी तरह की कोई दिक्कत सामने आती है, तो इसके लिए एसएचओ व्यक्तिगत तौर पर जिम्मेदार होंगे. इसके बाद पुलिस ने हिरासत में लिए गए जामिया के सभी 35 छात्रों को रिहा कर दिया. इसके अलावा न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी पुलिस स्टेशन में हिरासत में रखे गए छात्रों को भी छोड़ दिया गया. पुलिस ने बताया कि हिरासत में लिए गए सभी 50 छात्रों को रिहा कर दिया गया है.

अलीगढ़ में 10-15  लोग हिरासत में लिए गए

इधर जामिया के बाद अलीगढ़ के एएमयू में भी बवाल हुआ है. वहां भी पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे हैं. एहतियातन अलीगढ़, सहारनपुर और मेरठ में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. इस घटना के बाद उत्तर प्रदेश के DIG समेत अन्य पुलिस अधिकारी रविवार रात अलीगढ मुस्लिम युनिवर्सिटी पहुंचे. इस दौरान 10-15 असामाजिक तत्वों को हिरासत में भी लिया गया. इसके अलावा 16 दिसंबर को अलीगढ़ के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को बंद करने का फैसला लिया गया है. वहीं, यूपी के पुलिस महानिरीक्षक (लॉ एंड ऑर्डर) प्रवीण कुमार ने कहा कि पूरे उत्तर प्रदेश में पूरी तरह से शांति है.

अन्य राज्यों में भी प्रदर्शन जारी

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ दिल्ली के अलावा पश्चिम बंगाल, पटना, बैंगलोर, गुवाहटी, उत्तराखंड और अलीगढ़ में भी पूरे दिन प्रदर्शन जारी रहा. पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में रविवार को लगातार तीसरे दिन विरोध प्रदर्शन को देखते हुए राज्य सरकार ने प्रदेश के छह जिलों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी है.

वहीं यूपी के अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में भी रविवार शाम छात्रों ने जबरदस्त हंगामा किया. पुलिस ने उन्हें रोकने के लिए लाठीचार्ज किया. साथ ही आंसू गैस का भी इस्तेमाल किया. हालात के मद्देनजर विश्वविद्यालय, 5 जनवरी तक के लिए बंद कर दिया गया है.वहीं इंटरनेट सेवा 16 दिसंबर की रात 10 बजे तक के लिए बंद कर दी गई है.

रविवार शाम जामिया इलाके में हिंसक हो गया CAA का विरोध प्रदर्शन

नागरिकता संशोधन कानून पर देश की राजधानी दिल्ली के जामिया इलाके में एक बार फिर से हिंसा हुई. रविवार शाम जामिया में प्रदर्शन काफी उग्र हो गया. पुलिस के मुताबिक प्रदर्शनकारियों ने कई बसों में आग लगा दी. आग बुझाने के लिए दमकल की 4 गाड़ियां मौके पर पहुंची थीं. बसों में लगी आग बुझाने के दौरान ही प्रदर्शनकारियों ने गाड़ियों पर हमला कर दिया, जिसमें एक फायरमैन को काफी चोटें आई हैं. जामिया की लाइब्रेरी में भी तोड़-फोड़ की गई है. कुछ देर अराजकता की स्थिति रहने के बाद पुलिस ने अब इलाके में फ्लैग मार्च किया है. अब हालात नियंत्रण में है. इलाके में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है. डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने कहा है कि स्थिति अब नियंत्रण में है.

प्रदर्शनकारियों ने बसों में लगाई आग

इससे पहले तोड़ फोड़, नोएडा से न्यूफ्रेंड्स कॉलोनी की तरफ आ रही बसों में की गई. कुछ सरकारी बसों में यात्री बैठे हुए थे, तभी अचानक भीड़ ने लाठी-डंडों और पत्थरों से बस पर हमला कर दिया. कई बसों और बाइकों में आग लगा दी. जिसके बाद बाहर खड़े राहगीर भी मौके से भागते नजर आए. प्रदर्शन दिल्ली के ओखला, जामिया और कालिंदी कुंज वाले इलाके में हुआ. हिंसक झड़प में 6 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

जामिया हिंसा की जगह से कुछ ही देर बाद गुजरा प्रियंका गांधी का काफिला

जामिया प्रशासन का पुलिस पर आरोप

इससे पहले जामिया के छात्र जामिया मिलिया इस्लामिया के बाहर नारेबाजी कर रहे थे. रविवार को जामिया प्रशासन ने बयान जारी करते हुए स्पष्ट कर दिया है आज हो रहे प्रदर्शन में उनके विश्वविद्यालय के छात्र शामिल नहीं है. जामिया यूनिवर्सिटी के चीफ प्रॉक्टर वसीम रिजवी ने पुलिस पर आरोप लगाया कि छात्रों से पुलिस ने मारपीट की है. उनका कहना है कि पुलिस जबरन कैंपस में घुसी है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उप राज्यपाल से बात की है. 

CAA पर जामिया में प्रदर्शन, CM केजरीवाल बोले- हिंसा स्वीकार नहीं

दिल्ली पुलिस बोली- हम पर पथराव किया गया

डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने आज तक से बात करते हुए कहा कि कानून-व्यवस्था बनाने के लिए हमने उग्र भीड़ को तितर-बितर किया है. कैंपस के अंदर से हम पर पथराव किया गया. प्रॉक्टर को जांच करनी चाहिए कि कौन लोग हैं जिन्होंने हम पर पथराव किया है. अभी हालात सामान्य है. कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है.  4 हजार से पांच हजार लोग सुबह से प्रदर्शन कर रहे थे.

अमानतुल्लाह खान ने हिंसा में हाथ होने से किया इनकार

जामिया में बवाल अब राजनीतिक रूप लेता जा रहा है. बीजेपी नेता मनोज तिवारी और कपिल मिश्रा ने AAP (आम आदमी पार्टी) नेता अमानतुल्लाह खान पर हिंसा भड़काने का आरोप लगया है. इसके जवाब में आजतक से बात करते हुए अमानतुल्लाह खान ने स्पष्ट किया है कि वो इस प्रदर्शन में शामिल नहीं थे. उन्होंने बातचीत के दौरान कहा कि वो जामिया इलाके में ही नागरिकता कानून के विरोध में आयोजित एक अन्य कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे थे. पुलिस चाहे तो सीसीटीवी कैमरा देख सकती है. मेरा उस हिंसा में कोई हाथ नहीं है.

जामियाः BJP के आरोप पर आप MLA अमानतुल्लाह बोले- जहां हिंसा हुई, वहां मैं नहीं था

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की गाइडलाइन

आम लोगों को ट्रैफिक जाम से बचाने के लिए पुलिस ने ट्विटर पर निर्देश जारी किया है. ट्रैफिक पुलिस ने कहा है कि ओखला अंडरपास से सरिता विहार इलाके में प्रदर्शन की वजह से ट्रैफिक बाधित हुआ है. ट्रैफिक पुलिस ने कहा कि इस रोड से जाने से यात्री बचें. न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी के अपोजिट मथुरा रोड को भी प्रदर्शनकारियों ने जाम कर दिया है.

उन्होंने लिखा है- जो भी बदरपुर से आ रहे हों वो कृपया कर सीआरआरआई की तरफ से मोदी फ्लाईओवर का रास्ता लें जो नेहरु प्लेस की तरफ जाता है. जो आश्रम चौक से आ रहे हैं वो रिंग रोड, मूलचंद फ्लाईओवर, बीआरटी कॉरिडोर या डीएनडी फ्लाईओवर के रास्ते से निकलें. 

मेट्रो सेवा भी प्रभावित

दिल्ली पुलिस की गाइडलाइन के बाद दिल्ली मेट्रो ने सुखदेव विहार के आने और जाने वाले रास्तों को बंद कर दिया है. वहीं आश्रम के गेट नंबर तीन को भी बंद कर दिया है. फिलहाल सुखदेव विहार पर मेट्रो ट्रेन रुक नहीं रही है.

बाद में जामिया मिलिया इस्लामिया, ओखला विहार और जसोला विहार शाहीन बाग मेट्रो स्टेशन को भी बंद कर दिया गया है. इन सभी स्टेशनों पर मेट्रो नहीं रुक रही है.

रात नौ बजते-बजते पटेल चौक और विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन में भी एंट्री और बाहर निकलने का रास्ता बंद कर दिया गया है. इसके अलावा शिवाजी स्टेडियम और जीटीबी नगर मेट्रो स्टेशन को भी बंद कर दिया गया है. वसंत विहार, मुनिरका, आरके पुरम मेट्रो स्टेशन को भी बंद कर दिया गया है. मेट्रो ट्रेन इन सभी स्टेशनों पर नहीं रुक रही है.

जामिया विश्वविद्यालय ने रद्द की स्नातक और स्नातकोत्तर की सेमेस्टर परीक्षा

गौरतलब है कि जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय ने अपने परिसर में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) 2019 के खिलाफ हो रहे विरोध प्रदर्शन की वजह से स्नातक और स्नातकोत्तर की सेमेस्टर परीक्षाओं को रद्द करने के बाद अब शनिवार से शीतकालीन अवकाश घोषित कर दिया है.

शीतकालीन अवकाश घोषित

विश्वविद्यालय अब 6 जनवरी 2020 को खुलेगा. विश्वविद्यालय के जन संपर्क अधिकारी अजीम अहमद ने कहा कि सभी सेमेस्टर परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है. आने वाले समय में नए तिथियों की घोषणा की जाएगी और 16 दिसंबर 2019 से 5 जनवरी 2020 तक शीतकालीन अवकाश घोषित कर दिया गया है. विश्वविद्यालय अब 6 जनवरी 2020 को खुलेगा.

इससे पहले विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक कार्यालय की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया, "यूजी व पीजी कोर्स के सभी विषम सेमेस्टर के छात्रों को सूचित किया जाता है कि 14 दिसंबर को होने वाली परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं. स्थगित किए गए पेपरों की अगली तिथि बाद में अधिसूचित कर दी जाएगी.

पुलिस-छात्रों के बीच हुई थी झड़प

शुक्रवार को, ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (एआईएसए) द्वारा शुक्रवार को संसद तक मार्च निकालने की कोशिश की गई, जिस वजह से पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को आगे बढ़ने से रोकने के लिए लाठीचार्ज भी किया, जिसके बाद प्रदर्शन हिंसक हो गया. कई मीडियाकर्मी भी छात्र-पुलिसकर्मी की झड़प में घायल हो गए. विरोध प्रदर्शन के बाद सोशल मीडिया पर कई संदेश प्रसारित किए गए, जिसमें छात्रों से चल रही परीक्षाओं सहित सभी शैक्षणिक गतिविधियों का बहिष्कार करने के लिए कहा गया.

पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किए जाने के बाद कई छात्र घायल हो गए, जिसके बाद उन्हें होली फैमिली अस्पताल में भर्ती कराया गया. स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए लगभग 50 प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया और जैतपुर व बदरपुर पुलिस थानों में ले जाया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें