scorecardresearch
 

खाड़ी से डिपोर्ट तीन ISIS संदिग्ध NIA की 10 दिन की रिमांड पर

दुनिया भर में खौफ का पर्याय बने आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) से कनेक्शन के शक में एक खाड़ी देश से तीन भारतीयों को वापस भेजा गया है. इन तीनों पर आईएस के ऑनलाइन दुष्प्रचार में शामिल होने का शक है.

दुबई से डिपोर्ट किए गए हैं ISIS के तीन संदिग्ध दुबई से डिपोर्ट किए गए हैं ISIS के तीन संदिग्ध

दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने शनिवार को खाड़ी देशों से डिपोर्ट किए गए तीन संदिग्धों को 10 दिन की एनआईए रिमांड पर भेज दिया. दुनिया भर में खौफ का पर्याय बने आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) से कनेक्शन के शक में एक खाड़ी देश से तीन भारतीयों को वापस भेजा गया है. इन तीनों पर आईएस के ऑनलाइन दुष्प्रचार में शामिल होने का शक है.

पटियाला हाउस कोर्ट में हुई पेशी
कर्नाटक के अदनान हुसैन, महाराष्ट्र के मोहम्मद फरहान और जम्मू-कश्मीर के शेख अजहर अल इस्लाम को एनआईए ने यहां एक मामला दर्ज करने के बाद गिरफ्तार किया . एनआईए ने तीनों को शनिवार की शाम पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया, कोर्ट ने एनआईए की मांग पर तीनों को दस दिन की रिमांड पर भेज दिया.

अबु धाबी मॉड्यूल के सदस्य थे
आधिकारियों ने बताया कि अदनान, फरहान और इस्लाम पर आरोप है कि वे भारत सहित अन्य मित्र देशों में आतंकवादी हमलों की साजिश रचने और उन्हें अंजाम देने की फिराक में थे. इसके लिए वे युवाओं का ब्रेन वॉश कर उन्हें अपने साथ मिला लेते थे. शक है कि ये तीनों युवक आईएसआईएस के अबु धाबी मॉड्यूल के सदस्य थे. एनआईए इनसे पूछताछ कर ये पता लगाने की कोशिश करेगी कि भारत में इनके कितने सहयोगी मौजूद हैं.

पिछले दिनों हुई हैं कई गिरफ्तारियां
पिछले दो महीने में ही एनआईए और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने आईएसआईएस से संबंध रखने के आरोप में कई संदिग्धों को गिरफ्तार किया है. इससे साफ जाहिर है कि एक तरफ जहां आईएसआईएस देश में अपनी जड़े जमाने में लगा हुआ है वहीं सुरक्षा एजेंसियां अपना दमखम लगाकर उन्हें हर हाल में रोकने में जुटी हैं.

सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट
उधर, युवाओं को लुभाने की इस्लामिक स्टेट की बढ़ती कोशिशों के बीच केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि सुरक्षा एजेंसियां इस आतंकवादी संगठन की ओर से होने वाले किसी भी तरह के खतरे से निपटने में सक्षम हैं. राजनाथ ने यूपी के ग्रेटर नोएडा में एक समारोह के बाद कहा, 'हम किसी भी खतरे से निपटने की क्षमता रखते हैं. हम इसका सामना करेंगे.'

मुख्तार अब्बास नकवी को ISIS ने दी धमकी
इससे पहले शुक्रवार को बीजेपी के वरिष्ठ नेता मुख्तार अब्बास नकवी को आतंकी संगठन आईएसआईएस की तरफ से एक धमकीभरा पत्र मिला. इसके बाद दिल्ली पुलिस भाजपा के शीर्ष नेताओं की सुरक्षा की समीक्षा कर रही है.

सूत्रों का कहना है कि आईएसआईएस की तरफ से भाजपा नेता मुख्तार अब्बास नकवी को भेजे गए पत्र में प्रेषक के रूप में एक राजनीतिक दल का नाम भी है. दिल्ली पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पत्र की जांच शुरू कर दी है. इस जांच में केंद्रीय खुफिया एजेंसियों को भी शामिल किया गया है.

भारतीय हैकर्स को ISIS का ऑफर

आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) भारत के संवेदनशील सरकारी आंकड़ों को चुराने के लिए अब देश के हैकर्स को भी रिझा रहा है. ISIS ने एक 'काम' पूरा करने के लिए एक हैकर को लगभग 7 लाख रुपये (10,000 डॉलर) देने की पेशकश की है. विशेषज्ञों का कहना है कि हैकर्स को मिला यह अब तक का यह सबसे बड़ा ऑफर है.

अंग्रेजी अखबार डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक हैकर्स से यह कहा गया है कि वे फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों से ऐसे लोगों की पहचान करें और उनका डाटाबेस तैयार करें जो आतंकी संगठन के संभावित सदस्य बन सकते हैं.

हैकर्स को आकर्षक ऑफरों की पेशकश
कई सुरक्षा एजेंसियों के साथ काम करने वाले साइबर क्राइम एक्सपर्ट किसलय चौधरी ने बताया, 'ऐसे कई ऑनलाइन ग्रुप हैं जो अंडरग्राउंड हैं और हैकर्स लगातार उनसे संपर्क करते हैं. जांच में हमने पाया है कि पिछले 6 महीने में सरकारी डाटा चुराने की पेशकश वाले आकर्षक ऑफरों की संख्या तेजी से बढ़ी है और इसके लिए हैकर्स को बड़ी राशि की पेशकश भी की गई है.'

करीब 30000 लोगों से किया संपर्क
विशेषज्ञों का मानना है कि कई हैकर्स ने पहले ही इस ऑफर को झटक लिया है. यह भी कहा जा रहा है कि आतंकी संगठन ने भारत में करीब 30,000 लोगों से संपर्क किया है. किसलय के मुताबिक, इस तरह की पेशकश पहले कभी नहीं की गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें