scorecardresearch
 

दिल्ली सीलिंगः बिल नहीं सुप्रीम कोर्ट के जरिये रास्ता तलाशेगी BJP

मनोज तिवारी ने कहा कि केंद्र सरकार बिल तो जल्दी ला देगी, लेकिन ये हल नहीं है क्योंकि ये समस्या 6 महीने बाद फिर शुरू हो सकती है. इसलिए वह इसका स्थाई हल चाहते हैं और इसके लिए सुप्रीम कोर्ट में इसका मसौदा पेश किया जाएगा ताकि लोगों को स्थायी हल मिल सके.

मनोज तिवारी मनोज तिवारी

सीलिंग से त्रस्त व्यापारी संसद के जरिये बिल लाकर राहत देने की मांग कर रहे हैं तो वही दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने सुप्रीम कोर्ट के जरिये इसका समाधान तलाशने का संकेत दिया है. वह विधेयक के माध्यम से इसका रास्ता निकालने के इच्छुक नहीं दिखे.

दरसअल सीलिंग को लेकर जब 'आजतक' ने दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी से पूछा कि मौजूदा संसद सत्र में अब कुछ ही दिन बचे हैं और वक्त कम है तो फिर सरकार कब तक संसद में बिल लाएगी. इस पर उन्होंने कहा कि कहा कि सरकार बिल तो जल्दी ला देगी, लेकिन ये हल नहीं है क्योंकि ये समस्या 6 महीने बाद फिर शुरू हो सकती है. इसलिए वह इसका स्थाई हल चाहते हैं और इसके लिए सुप्रीम कोर्ट में इसका मसौदा पेश किया जाएगा ताकि लोगों को स्थायी हल मिल सके. मनोज तिवारी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट पर उनका भरोसा है कि वह इस मामले में नरम रुख अपनाएगा.

सूत्रों के मुताबिक बीजेपी अगले मंगलवार या बुधवार को मसौदे की तैयारी के साथ सुप्रीम कोर्ट में सीलिंग रोकने को लेकर जाएगी ताकि दिल्ली के व्यापारियों को राहत दिलाया जा सके.

बता दें कि व्यापारियों ने पहले ही सीलिंग के विरोध में 13 मार्च को दिल्ली बंद बुलाया है और सरकार से मांग की है कि वह संसद में बिल लाकर उन्हें राहत दिलाए.

गौरतलब है कि लाजपत नगर स्थित अमर कॉलोनी कपड़ा मार्केट में करीब 700 में से साढ़े पांच सौ से ज्यादा दुकानों को सील कर दिया गया और जो दुकानें बची हैं, उन पर भी सीलिंग की तलवार लटक रही है. वहीं व्यापारियों से मिलने पहुंचे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को कारोबारियों के गुस्से का सामना करना पड़ा.

ऐसा पहली बार हुआ है जब दिल्ली का एक बाजार पूरी तरह से सील कर दिया गया हो. सीलिंग के दौरान दुकानदारों और पुलिस बल के बीच जबरदस्त झड़प हुई. दुकानदारों और कामगारों के विरोध को देखते हुए पुलिस बल का प्रयोग करना पड़ा जिसमें कई दुकानदारों को गंभीर चोटें भी आई हैं. इस झड़प में महिलाओं को भी पीटा गया जिससे व्यापारियों का गुस्सा और भी बढ़ गया है.

आक्रोशित व्यापारियों को शांत करने के लिए अब राजनीतिक पार्टियों ने एक दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. झड़प के दूसरे दिन दिल्ली के मुख्यमंत्री  केजरीवाल दुकानदारों से मिलने अमर कॉलोनी मार्केट पहुंचे, जहां उन्हें उनके गुस्से का सामना करना पड़ा. व्यापारियों को मुख्यमंत्री के आश्वासन काफी नहीं लगे और उन्होंने अपनी दुकानों को जल्द खुलवाने की मांग की. मुख्यमंत्री केजरीवाल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखने की बात कही और साथ ही ये भी कहा कि अगर सीलिंग नहीं रुकती है तो वह 31 मार्च से खुद धरने पर बैठ जाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें