scorecardresearch
 

10 हजार विक्रेताओं के साथ शुरू होगा 'दिल्ली बाजार' पोर्टल, जानिए खासियत

दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार जल्द ही 'दिल्ली बाजार पोर्टल' की शुरुआत करने वाली है. बताया जा रहा है कि जिस तरह से ई-कॉमर्स कंपनियां काम करती हैं, उसी तरह से दिल्ली बाजार ई-पोर्टल भी काम करेगा.

X
दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिसंबर महीने में शुरू हो जाएगा प्रोजेक्ट
  • वर्चुअल नेविगेशन से मिलेगी बाजारों की जानकारी

केजरीवाल सरकार दिल्ली के बाजारों को ग्लोबल प्लेटफार्म देने जा रही है. इसके मद्देनजर सरकार 10 हजार विक्रेताओं के साथ दिसंबर से ‘‘दिल्ली बाजार’’ ई-पोर्टल की शुरुआत करेगी और उसके अगले छह महीने में एक लाख से अधिक विक्रेताओं को जोड़ने का लक्ष्य रखा है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिए गए प्रजेंटेशन में बताया गया कि जिस तरह से ई-कॉमर्स कंपनियां हैं, उसी तरह से दिल्ली बाजार ई-पोर्टल भी काम करेगा.

दिल्ली बाजार पोर्टल पर दिल्ली के सभी बाजार और सभी दुकानें उपलब्ध होंगी. दिल्ली बाजार पोर्टल इन बाजारों का प्रमोशन भी करेगा. मसलन, चांदनी चौक को अगर किसी को देखना है और वो किसी दूसरे शहर में बैठा है, तो वो ऑनलाइन दिल्ली बाजार पोर्टल की वेबसाइट पर जाएगा और चांदनी चौक बाजार में अपने पसंद सामान के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकेगा. साथ ही वर्चुअल नेविगेशन के जरिए बाजार की विस्तृत जानकारी ले सकते हैं. साथ ही, ई-पेमेंट के जरिए भुगतान कर सामान खरीद सकता है. दिल्ली बाजार पोर्टल की एक टीम होगी, जो बाजारों में जाएगी और उसकी पूरी ब्रैंडिंग करेगी. दिल्ली सरकार का कहना है कि जीरो सेटअप खर्च होने के कारण दिल्ली बाजार पोर्टल पर उपलब्ध प्रोडक्ट ई-कॉमर्स कंपनियों से हिस्सा  भी मिलेगा. 

किसी भी प्रोडक्ट को दिल्ली बाजार की वेबसाइट पर जाकर खोजा जा सकता है. अगर किसी को जूता खरीदना है, तो वो दिल्ली बाजार पोर्टल पर जाकर जूते की दुकान सर्च कर सकता है. मैप पर उस डीलर का नाम सामने आ जाएगा, जहां जूता और दुकान की विस्तार से पूरी जानकारी मिलेगी. खरीदार ऑनलाइन दुकान में घुसकर उसके हर प्रोडक्ट की क्वालिटी और कीमत को देख सकता है और मन पसंद प्रोडक्ट को खरीद सकता है.

दिल्ली बाजार एक डिस्कवरी प्लेटफार्म होगा. इसका उद्देश्य यह है कि दिल्ली के सभी छोटे-बड़े दुकानदारों को ऑनलाइन जीरो सेटअप पर लाया जाएगा. चाहें उनका जीएसटी में पंजीकरण हुआ हो या नहीं हुआ हो, सभी को दिल्ली बाजार पोर्टल पर अनुमति दी जाएगी. दिल्ली बाजार पर दुकानदार अपनी एक माइक्रो साइट बना सकते हैं. जिसके बाद उनकी दुकान में जितने भी प्रोडक्ट हैं, वो सारे प्रोडक्ट दिल्ली बाजार ई-पोर्टल पर सूचीबद्ध हो जाएंगे. जब कोई ग्राहक दिल्ली बाजार पोर्टल पर जाएगा, तो वो दुकानदार के नाम, बाजार के नाम और प्रोडक्ट के नाम से सर्च कर सकता है.

केजरीवाल सरकार द्वारा विकसित किए जा रहे दिल्ली बाजार पोर्टल पर दिल्ली के प्रत्येक विक्रेता का अपना स्टोर होगा. जहां वे विस्तृत उत्पाद कैटलॉग के माध्यम से अपनी दुकानों और उत्पादों को प्रदर्शित कर सकेंगे. यह जीरो खर्च पर 24 घंटे चलने वाला एक अतिरिक्त वर्चुअल स्टोर होगा, जो बड़े बाजारों में विक्रेताओं की पहुंच का विस्तार करेगा. जिससे विक्रेताओं को घरेलू और अंतरराष्ट्रीय ग्राहकों तक पहुंचने में मदद मिलेगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें