scorecardresearch
 

दिल्ली: इस बरसात मिंटो ब्रिज पर नहीं होगा जलभराव, केजरीवाल के मंत्री ने बताई वजह

दिल्ली सरकार में PWD मंत्री सत्येंद्र जैन से जब पूछा गया कि बरसात को लेकर PWD की क्या तैयारियां हैं? क्या नालों की सफाई हो गई है? सत्येंद्र जैन ने जवाब देते हुए कहा कि 'दिल्ली में फ्लड कंट्रोल ऑर्डर जारी किया और जितने भी नाले हैं लगभग साफ हो गए हैं.'

दिल्ली में बारिश के बाद का नजारा (फ़ाइल फोटो) दिल्ली में बारिश के बाद का नजारा (फ़ाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कई सालों से मिंटो ब्रिज के पास बारिश में जलभराव होता रहा है
  • इस बार मिंटो ब्रिज पर जलभराव की संभावना को सत्येंद्र जैन ने नकारा
  • दिल्ली में कहीं भी जलभराव की स्थिति की निगरानी होगी

दिल्ली में मानसून की दस्तक से पहले सड़कों से लेकर अंडरपास को जलभराव से बचाने के लिए दिल्ली सरकार के PWD विभाग ने कमर कस ली है. दिल्ली की मुख्य सड़कों से सटे नालों को साफ करने के लिए 30 जून तक का समय तय किया गया है. 

दिल्ली सरकार में PWD मंत्री सत्येंद्र जैन से जब पूछा गया कि बरसात को लेकर PWD की क्या तैयारियां हैं? क्या नालों की सफाई हो गई है? सत्येंद्र जैन ने जवाब देते हुए कहा कि 'दिल्ली में फ्लड कंट्रोल ऑर्डर जारी किया और जितने भी नाले हैं लगभग साफ हो गए हैं.'

आगे जैन ने बताया कि कुछ जगह पर काम बाकी रहता है वो भी 30 तारीख से पहले पहले पूरा कर लिया जाएगा. पूरी तैयारी की गई है ताकि पानी का भराव दिल्ली में न हो.

क्लिक करें- Summer Vacation: हरियाणा सरकार ने बढ़ाईं गर्मी की छुट्टियां, इस डेट तक बंद रहेंगे स्‍कूल-कॉलेज

कई दशकों से नई दिल्ली का मिंटो रोड ब्रिज बारिश के बाद जलभराव की चपेट में आता रहा है. सवाल पूछने पर कि खासतौर पर मिंटो रोड हमेशा सवालों के घेरे में रहता है. पिछली बार आप लोगों ने कहा था कि उसमें अलग से पंप लगा रहे हैं पानी निकालने के लिए क्या वो लगा दिया गया है? 

मिंटो ब्रिज पर जलभराव की संभावना को नकारते हुए सत्येंद्र जैन ने जवाब दिया कि पंप लगा दिया गया है, लगता है कि इस बार कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए.

आपको बता दें कि जुलाई 2020 में दिल्ली सरकार के लोक निर्माण विभाग ने भारी बारिश के दौरान परिवहन नियम प्रतिबंधों का पालन नहीं करने वाले लोगों पर एफआईआर दर्ज करने की चेतावनी दी थी. विभाग द्वारा जारी एक मेमोरेंडम में अधिकारी ने कहा कि लोक निर्माण विभाग ने अधिकारियों को निर्देश दिया था कि वे बारिश के मौसम में अंग्रेजों के जमाने में बने मिंटो ब्रिज के नीचे जलभराव की स्थिति पर हमेशा निगरानी रखें और यहां जल निकासी व्यवस्था को सुनिश्चित करें ताकि जलभराव न हो.

तब PWD मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा था कि, 'ये फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि कई लोग नियम नहीं मानते हैं. लोग जलभराव में ऑटो या स्कूटर से निकलने की कोशिश करते है. इसलिए आदेश दिया है कि अगर डेढ़ फीट से अधिक जलभराव होता है तो मिंटो ब्रिज के रास्ते को बैरिकेड्स लगाकर ट्रैफिक रोक दिया जाए. अगर कोई बैरिकेड्स तोड़ता है तो यह कानून का उल्लंघन होगा, ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.'

जुलाई 2020 में ही मिंटो ब्रिज पर जलभराव की वजह से 56 वर्ष के एक शख्स की मौत के बाद लोक निर्माण विभाग ने फैसला लिया था. फैसले के मुताबिक अगर बारिश के दौरान मिंटो ब्रिज के नीचे जलभराव का स्तर 45 सेंटीमीटर से ज्यादा हो जाता तो मिंटो ब्रिज के तरफ आने वाले वाहनों को सड़क पर बैरिकेड्स लगाकर रोका जाएगा. 

पीडब्ल्यूडी द्वारा जारी मेमोरेंडम में पीडब्ल्यूडी अधिकारियों को आदेश दिया गया था कि विभाग दिल्ली पुलिस के साथ कोर्डिनेशन में मिंटो ब्रिज की ओर जाने वाली सड़क की उचित बैरिकेडिंग सुनिश्चित करेगा. साथ ही पीडब्ल्यूडी विभाग यह भी सुनिश्चित करेगा कि कोई वाहन या व्यक्ति पुल पर आगे बढ़ने का प्रयास न करे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें