scorecardresearch
 

दिल्ली: ईद पर भी दिख रहा है कोरोना महामारी का असर, बकरा बाजार में नहीं पहुंच रहे खरीदार

दिल्ली के तुर्कमान गेट पर बकरे का कारोबार करने वाले सलमान कुरैशी बताते हैं कि वह पिछले 20 सालों से दिल्ली के बाजारों में बकरे का कारोबार कर रहे हैं. हर साल अलग-अलग राज्यों से वह बकरा लाते हैं लेकिन प्रशासन की तरफ से सख्ती है.

बकरीद में नहीं मिल रहे ग्राहक (फोटो- आजतक) बकरीद में नहीं मिल रहे ग्राहक (फोटो- आजतक)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जामा मस्जिद इलाके में नहीं लगा बकरा बाजार
  • इस साल बहुत कम व्यापारी पहुंचे हैं व्यापार

कोरोना महामारी का असर सभी कारोबार पर देखने को मिला है. ईद के त्योहार पर भी इसका असर दिखाई दे रहा है. कोरोना के चलते पिछले साल दिल्ली के जामा मस्जिद इलाके में जो बकरा बाजार लगा था वह इस बार नहीं लगा है. जामा मस्जिद इलाके में हर साल की तरह अलग-अलग राज्यों से व्यपारी बकरे बेचने के लिए आते थे लेकिन इस बार नहीं आए हैं. जिसका असर दिल्ली के अलग-अलग बाजारों में बकरों की कीमत पर साफ नजर आ रहा है. 

दिल्ली के जाफराबाद इलाके में लगे बाजार में जो बकरा पिछले साल तक 10 से 15 हजार का बिकता था उसकी आज कीमत 40 से 50 हजार हो गया  है. बकरों की कीमत में 30 से 35 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो गई है. व्यापारियों का कहना है कि बकरों की लगातार बढ़ रही कीमतों के कारण लोग मिलकर एक बकरा खरीद रहे हैं और कुर्बानी देने की तैयारी कर रहे हैं.

दिल्ली के तुर्कमान गेट पर बकरे का कारोबार करने वाले सलमान कुरैशी बताते हैं कि वह पिछले 20 सालों से दिल्ली के बाजारों में बकरे का कारोबार कर रहे हैं. हर साल अलग-अलग राज्यों से वह बकरा लाते हैं लेकिन प्रशासन की तरफ से सख्ती है. कुरैशी बताते हैं कि पिछले साल तक राजस्थान, यूपी, और हरियाणा के बकरों की बड़ी तादाद बिकने के लिए आती थी. लेकिन इस साल केवल राजस्थान और हरियाणा से बकरे आ पाए हैं. बाकी अन्य राज्यों से बकरे नहीं आए हैं. इस कारण भी बकरों के रेट महंगे हैं.

इसके अलावा एक कारण यह भी है कि जिस तरह से लगातार पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ रहे हैं उससे बकरों को दूसरे राज्यों से दिल्ली लाने का भाड़ा भी बढ़ गया है. पहले एक बकरे पर 200  से 250 किराया होता था लेकिन आज उनसे 1000 से 1500 रुपए तक का किराया वसूला जा रहा है. 

और पढ़ें- सलमान, आमिर, अक्षय नाम के बकरों की धूम, यहां मिलते हैं फिल्मी सितारों के नाम वाले बकरे

दिल्ली के तुर्कमान गेट पर बकरे का कारोबार करने वाले कारोबारियों ने जावेद को बताया कि इस बार सबसे महंगा बकरा 110000 का है. जो पौष्टिक आहार खाता है. उसका वजन भी सबसे ज्यादा है. लेकिन उसकी इस साल बिक्री नहीं हो रही है. ईद-उल-अजहा 21 जुलाई को मनाई जाएगी. जिसको लेकर बाजार में अच्छी खासी भीड़ देखने को मिल रही है. ईद के 10 दिन पहले से लोग बकरे की खरीद करते हैं और उसको अपने घर में रखते हैं. जिसके बाद वह उनको पालते हैं.

 बकरा बाजार में कोरोना नियमो की उड़ रही धज्जियां
दिल्ली में इन दिनों अलग-अलग इलाकों में सड़कों के किनारे खुले में बकरा मंडी लगाई जा रही है. जहां कोरोना के नियमों को ताक पर रखा जा रहा है. 2 गज की दूरी और मास्क लोगों के चेहरे पर है ही नहीं. आईसीएमआर ने अगस्त महीने के आखिर में देश में कोरोना की तीसरी लहर की संभावना  जताई है. त्योहार का समय शुरू हो गया है. 21 जुलाई को बकरीद का त्योहार है. दिल्ली तुर्कमान गेट के पास सड़क किनारे बकरों का बाज़ार सजा है, यही आलम उत्तर पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद का भी है जहां पर इसी तरीके की स्थिति बनी हुई है.
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें