scorecardresearch
 

चुनावी नतीजों के बीच दिल्‍ली में बुलाई गई AAP की बैठक

दिल्‍ली में आम आदमी पार्टी की बैठक बुलाई गई है. इस बैठक के दौरान 2019 लोकसभा चुनाव को लेकर रणनीति पर चर्चा होगी.

अरविंद केजरीवाल ने बुलाई बैठक अरविंद केजरीवाल ने बुलाई बैठक

पांच राज्‍यों के विधानसभा चुनाव की मतगणना जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, कांग्रेस खेमे की खुशियां बढ़ती जा रही हैं. छत्तीसगढ़ और राजस्थान में जहां कांग्रेस को स्पष्ट बहुमत देखने को मिल रहा है वहीं एमपी में कांटे की लड़ाई देखने को मिल रही है. बड़े राज्यों में कांग्रेस की वापसी कांग्रेस और राहुल गांधी के लिए बड़ी उपलब्धि मानी जा रही है.

वहीं 2019 लोकसभा चुनाव को लेकर मोदी सरकार की विरोधी पार्टियों के बीच भी गतिविधियां बढ़ गई हैं. इसी के तहत मंगलवार को आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पार्टी के सभी सांसदों, लोकसभा प्रभारियों, विधायकों और पार्षदों के साथ बैठक बुलाई गई. बैठक की अध्यक्षता अरविंद केजरीवाल ने की. बैठक खत्म होने के बाद पार्टी नेता गोपाल राय ने कहा कि बीजेपी को जनता द्वारा हराने का सिलसिला शुरू हो गया है. देश मे लोग तानाशाही नहीं चाहते हैं. दिल्ली में मजबूत लोगों के साथ जनता खड़ी है. उन्‍होंने बताया कि दिल्ली की 7 सीटों पर बीजेपी को हराने का लक्ष्य आम आदमी पार्टी ने तय किया है.

14 दिसंबर से डोर टू डोर जाकर जनसंर्पक अभियान

गोपाल राय ने बताया कि 14 दिसंबर से डोर टू डोर जाकर जनसंर्पक अभियान चलेगा. सभी मतदान केंद्र पर कैंप बनाए जा रहे हैं, जहां टोलियां इकट्ठा होकर लोगों तक पहुंचेंगी. जनसंपर्क के दौरान 2 बातें जनता के सामने रखी जाएंगी. पहली कि EVM के तिकड़म के खिलाफ जनता खड़ी हो जाए तो बीजेपी को हराया जा सकता है. वहीं 2019 लोकसभा चुनाव में बीजेपी की तानाशाह सरकार को हटाने का प्रचार होगा. गोपाल राय ने बताया कि अब आम आदमी पार्टी पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में लोकसभा चुनाव लड़ेगी. दिल्ली में 14 दिसंबर से शुरू होने वाले कैंपेन के खत्‍म होने बाद आम आदमी पार्टी उम्मीदवार का ऐलान करेगी.हालांकि दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन के सवाल को गोपाल राय ने टाल दिया.

2019 लोकसभा चुनाव को लेकर बैठक बुलाई गई

दरअसल, 2019 लोकसभा चुनाव को लेकर यह बैठक बुलाई गई थी. इस बैठक में सांसद, विधायक, लोकसभा प्रभारी, लोकसभा कम्यूनिकेशन इंन्चार्ज, जिला अध्यक्ष, विधानसभा आब्जर्वर, पार्षद, वॉर्ड संगठन मंत्री और पार्टी के सभी पदाधिकारियों को बुलाया गया था. दिल्ली की सातों लोकसभा की सीटों पर पार्टी ने फिलहाल अपने प्रत्याशियों को उतारने का फैसला किया है. कुछ सीटों पर आधिकारिक रूप से घोषणा भी कर दी गई है. लेकिन कुछ सीटें ऐसी हैं जिस पर अभी भी पार्टी की ओर से आधिकारिक रूप से कोई उम्मीदवार की घोषणा नहीं की गई है.

बता दें कि केजरीवाल पिछले कई हफ्तों से अपने लोकसभा प्रभारियों के लिए जमकर प्रचार करते नजर आए हैं. ऐसे में जब 5 राज्यों के चुनावी रिजल्ट आ गए हैं तो आम आदमी पार्टी लोकसभा चुनाव के लिए रणनीति बनाने में तेजी से जुट गई है. हालांकि आम आदमी पार्टी महागठबंधन या दिल्ली में गठबंधन का हिस्सा होगी या नहीं ये अब भी बड़ा सवाल है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें