scorecardresearch
 

रिंकू शर्मा हत्याकांड पर AAP का सवाल- क्या 'जयश्रीराम' कहने पर हत्या कर दी जाएगी?

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता और विधायक राघव चड्ढा ने गृहमंत्री अमित शाह से पूछा है कि "क्या जय श्री राम का नारा लगाने वाले अब सुरक्षित नहीं है. क्या दिल्ली और भारत में जय श्रीराम का नारा नहीं लगा सकते? क्या उनकी हत्या की जाएगी?''

रिंकू शर्मा मामला अब राजनीतिक मुद्दा बन चुका है (फाइल फोटो) रिंकू शर्मा मामला अब राजनीतिक मुद्दा बन चुका है (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'भाजपा राज में हिन्दू भी सुरक्षित नहीं'- आप
  • 'रिंकू शर्मा के परिजनों को दिए जाएं 1 करोड़ रुपए'
  • 'अभी तक गृहमंत्री ने कोई ट्वीट क्यों नहीं किया?'

दिल्ली में रिंकू शर्मा हत्याकांड को लेकर आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच बयानबाजी का सिलसिला तेज हो गया है. आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता राघव चड्ढा ने भाजपा की केंद्र सरकार से रिंकू शर्मा के परिजनों को एक करोड़ रुपए की सहायता राशि देने की मांग की है. राघव चड्ढा ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि "श्रीराम बोलने पर रिंकू शर्मा की हत्या की गई, क्या भाजपा के राज में दिल्ली और देश में जय श्रीराम का नारा लगाने वाले सुरक्षित नहीं हैं? दिल्ली में भाजपा के पास कानून-व्यवस्था है. क्या दिल्ली वालों ने दिल्ली की 100 प्रतिशत सीटें देकर भाजपा की केंद्र में सरकार इसलिए बनवाई थी, ताकि दिल्ली में आए दिन हत्याएं हों"

आगे AAP नेता राघव चड्ढा ने आरोप लगाते हुए कहा  "बंगाल में जय श्रीराम का नारा लगाने पर भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या होने पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह बोल रहे है, लेकिन दिल्ली में रिंकू शर्मा हत्याकांड पर भाजपा और अमित शाह दोनों चुप हैं. रिंकू शर्मा हत्याकांड मामले में न तो केंद्रीय गृहमंत्री ने अपनी राजनैतिक जिम्मेदारी निभाई है और न तो पुलिस कमिश्नर ने प्रशासनिक जिम्मेदारी निभाई है, अभी तक उनके परिजनों से मिलने कोई नहीं गया है"

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता और विधायक राघव चड्ढा ने गृहमंत्री अमित शाह से पूछा कि "क्या जय श्री राम का नारा लगाना वाले अब सुरक्षित नहीं है. क्या दिल्ली और भारत में जय श्रीराम का नारा नहीं लगा सकते? क्या उनकी हत्या की जाएगी?''

आगे राघव चड्ढा ने भाजपा पर हमला करते हुए कहा कि "दिल्ली के अंदर भारतीय जनता पार्टी की पुलिस है. दिल्ली के अंदर कानून व्यवस्था बनाए रखना भाजपा की जिम्मेदारी है. दिल्ली के लोगों ने भाजपा को वोट दिया. दिल्ली में 2014 और 2019 लोकसभा चुनाव में 7 में से सातों लोकसभा सीटें देकर केंद्र में भाजपा की सरकार बनवाई. अमित शाह को गृहमंत्री और नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाया. क्या यह दिन देखने के लिए बनाया कि कानून व्यवस्था इस प्रकार की हो जाएगी. दिल्ली में आए दिन हत्याएं होंगी? क्या किसी भी धर्म का व्यक्ति सुरक्षित है? न हिंदू सुरक्षित है, न मुसलमान, सिख, ईसाई सुरक्षित है"

आम आदमी पार्टी के भारतीय जनता पार्टी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से 6 सवाल :

1. पहला सवाल, अभी तक केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह रिंकू शर्मा के परिजनों से मिलने क्यों नहीं गए हैं? अभी तक उन्होंने ट्वीट क्यों नहीं किया है? अभी तक उन्होंने इस घटना का संज्ञान क्यों नहीं लिया है?

2. दूसरा सवाल, कानून व्यवस्था सीधे केंद्रीय गृहमंत्री के अधीन आती है. पूरी दिल्ली के अंदर सभी की सुरक्षा हो, कानून व्यवस्था की स्थिति दुरुस्त रहे और अपराध न हों, यह सारी चीजें केंद्रीय गृहमंत्री के अधीन आती हैं. दिल्ली पुलिस के अधीन आती हैं. क्या यह शोभा देता है कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह दिल्ली छोड़कर बंगाल में चुनाव प्रचार करें और दिल्ली में इस तरह की घटनाएं घट जाएं?

3. तीसरा सवाल, दिल्ली में जैसा परिवार वाले कह रहे हैं कि जय श्रीराम बोलने पर हत्या हुई हैं. भारतीय जनता पार्टी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से पूछना चाहूंगा कि क्या दिल्ली की जनता ने 2014 और 2019 में लोकसभा की सातों सीटें, इसलिए भाजपा को दीं थी? क्या इसके लिए दिल्ली की जनता ने आप को वोट दिया था? 

4. चौथा सवाल, दिल्ली के पुलिस आयुक्त कहां है? अभी तक दिल्ली के पुलिस आयुक्त रिंकू शर्मा के परिवार वालों से मिलने क्यों नहीं गए हैं? 

5. पांचवा सवाल, भारतीय जनता पार्टी की प्रचंड बहुमत की केंद्र सरकार रिंकू शर्मा के परिवार वालों के लिए एक करोड़ रुपए की सहायता राशि की घोषणा कब करेगी? 

6. छठवां सवाल, दिल्ली और बंगाल को लेकर दोहरे मापदंड क्यों हैं? क्या दिल्ली में चुनाव नहीं हैं इसलिए गृहमंत्री नहीं बोल रहे हैं?

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें