scorecardresearch
 

'गुड़िया' पर दरिंदगी के जख्‍म देख हिले डॉक्‍टर

दिल्‍ली में बर्बरता का शिकार बनी 'गुड़िया' की हालत स्थिर बनी हुई है. डॉक्‍टरों के मुताबिक 'गुड़िया' होश में है. गुडिया का इलाज करने वाले डॉक्‍टरों ने जो जानकारी दी, जिससे किसी की भी रूह कांप जाए.

दिल्‍ली में बर्बरता का शिकार बनी 'गुड़िया' की हालत स्थिर बनी हुई है. डॉक्‍टरों के मुताबिक 'गुड़िया' होश में है. 'गुड़िया' का इलाज करने वाले डॉक्‍टरों ने जो जानकारी दी, उससे किसी की भी रूह कांप जाए.

दरअसल, दरिंदे ने मासूम के जिस्म पर बहुत ही अमानवीय तरीके से गहरा जख्‍म दिया है. डॉक्टरों के मुताबिक, मासूम के पूरे जिस्म पर ही जख्मों के निशान थे. चेहरे से लेकर शरीर के अंदरूनी हिस्सों को इस कदर चोट पहुंचाई गई कि किसी का भी कलेजा कांप जाए.

बच्ची के पेट से प्लास्टिक की शीशी और मोमबत्ती मिलने के बाद डॉक्‍टर एकदम हैरान रह गए. ये चीजें इस बात की गवाही दे रही हैं कि हैवान ने मासूम पर कितना कहर बरपाया. यह वारदात इंसानियत को बुरी तरह शर्मसार करती है.

शुक्रवार को बच्ची को लेकर पुलिस पहले दयानंद अस्पताल लेकर गई थी, लेकिन नाजुक हालत को देखते हुए मासूम को एम्स भेजा गया. डॉक्टरों की मानें, तो बच्ची को ठीक होने में अभी काफी वक्त लगेगा.

जुल्‍म ढाने वाला दरिंदा बिहार के मुजफ्फरपुर से गिरफ्तार किया जा चुका है. अदालत ने आरोपी को 23 अप्रैल तक ट्रांजिट रिमांड पर भेज दिया. आरोपी मनोज को शनिवार को ही स्थानीय अदालत में पेश किया गया.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि 22 वर्षीय मनोज कुमार को करजा थाना क्षेत्र अंतर्गत चिकनौटा गांव में उसकी ससुराल से गिरफ्तार किया गया.

उसे शनिवार सुबह अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी (एसडीजेएम) शत्रुघ्न सिंह की अदालत में पेश किया गया. ट्रांजिट रिमांड मिलने के बाद दिल्ली पुलिस की तीन सदस्यीय टीम आरोपी को लेकर दिल्ली के लिए रवाना हो गई. उसे मोबाइल फोन ट्रेस करके पकड़ा गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें