scorecardresearch
 

शत्रुघ्न सिन्हा बोले- नारेबाजी करना देशद्रोह नहीं, छात्रों पर केस गलत

बीजेपी नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, 'मैंने उसके भाषण का ट्रांसक्रिप्ट पढ़ा है. इसमें कुछ भी असंवैधानिक या देश विरोधी नहीं है.'

X
बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा
बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा

पार्टी लाइन से इतर अपनी बेबाक बयानबाजी के लिए मशहूर बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने जेएनयू प्रकरण और छात्रों की गिरफ्तारी को लेकर निराशा जाहिर की है. 'आज तक' से खास बातचीत में 'बिहारी बाबू' ने कहा कि छात्रों पर कभी भी देशद्रोह का केस नहीं चलना चाहिए. यही नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि नारेबाजी करना राष्ट्रदोह नहीं होता.

जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार का बचाव करते हुए बीजेपी नेता ने कहा, 'मैंने उसके भाषण का ट्रांसक्रिप्ट पढ़ा है. इसमें कुछ भी असंवैधानिक या देश विरोधी नहीं है. हम छात्रों पर देशद्रोह का केस नहीं चला सकते हैं. नारेबाजी करना राष्ट्रदोह कैसे हो सकता है.'

अभि‍नेता से नेता बने सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने महात्मा गांधी का उदाहरण देते हुए कहा, 'गांधी भी आजादी चाहते थे, लेकिन उन पर देशद्रोह का चार्ज नहीं लगाया गया. जो कार्रवाई हुई है वह दुखद है. सुप्रीम कोर्ट भी कह चुकी है कि यह बनाना रिपब्लि‍क नहीं है.'

प्रशासनिक व्यवस्था और वकीलों पर निशाना
गौरतलब है कि 'शॉटगन' सिन्हा इससे पहले भी खुलकर कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी का विरोध कर चुके हैं. गुरुवार को ट्विटर पर उन्होंने मामले में कोर्ट के बाहर वकीलों के व्यवहार और मूकदर्शक बनी पुलिस पर भी निशाना साधा.

ट्विटर पर भी पहले भी कर चुके हैं विरोध
बता दें कि बिहार के पटना साहिब से सांसद ने बुधवार को भी ट्विटर पर लिखा, 'जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष और हमारे बिहार के लड़के कन्हैया कुमार के भाषण को मैंने सुना है. उसने कुछ भी राष्ट्रविरोधी या संविधान विरोधी नहीं कहा है. उम्‍मीद करता हूं, कन्‍हैया को जल्‍द रिहा कर दिया जाएगा.'

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, 'मैं उम्मीद करता हूं कि उन्हें जल्द रिहा कर दिया जाएगा. यह जितनी जल्दी होगा, उतना अच्छा होगा.' बीजेपी नेता ने कहा कि फिलहाल जेएनयू जिस संकट से गुजर रहा है, उसकी वजह देश के राजनेताओं को ही पता होगी. उन्होंने लिखा, 'यह एक अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त संस्था है, जिसका बहुत ही गौरवशाली इतिहास रहा है.' शत्रुघ्न ने कहा कि इस संस्था को और अधिक शर्मिंदगी से बचाना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें