scorecardresearch
 

'गुड़िया' के गुनहगार का शर्मनाक सच...

फर्ज कीजिए कोई शख्स किसी संगीन गुनाह को अंजाम दे और उसे सजा की बजाय ईनाम मिले, तो फिर नतीजा क्या होगा? जवाब सीधा सा है, ईनाम पानेवाला शख्स फिर से वही गुनाह करेगा जिसकी वजह से उसे पहले ही सजा मिलनी चाहिए थी. गुड़िया के गुनहगार की कहानी कुछ ऐसी ही है.

आरोपी मनोज आरोपी मनोज

फर्ज कीजिए कोई शख्स किसी संगीन गुनाह को अंजाम दे और उसे सजा की बजाय ईनाम मिले, तो फिर नतीजा क्या होगा? जवाब सीधा सा है, ईनाम पानेवाला शख्स फिर से वही गुनाह करेगा जिसकी वजह से उसे पहले ही सजा मिलनी चाहिए थी. गुड़िया के गुनहगार की कहानी कुछ ऐसी ही है.

पहले भी कर चुका है घिनौनी वारदात
जी हां, पांच साल की मासूम बच्ची के साथ बलात्कार के इल्जाम में गिरफ्तार मनोज का ये पहला गुनाह नहीं है. पुलिस की मानें तो मनोज ने पहले भी एक लड़की के साथ बलात्कार किया था लेकिन तब लड़की के घरवालों ने उसे जेल भिजवाने की बजाय उसके साथ अपनी उसी बेटी की शादी करवा दी थी.

क्या आप जानना नहीं चाहेंगे कि आख़िर मनोज की जिंदगी की बाकी का सच क्या है? तो सुनिए, पांच साल की नन्हीं गुड़िया के साथ बलात्कार के इल्जाम में गिरफ्तार किए गए मनोज का ये पहला गुनाह नहीं है, बल्कि मनोज से जुड़ा नया सच तो ये है कि उस पर शादी से पहले भी बलात्कार का ही इल्‍जाम लग चुका है और वो भी उसी लड़की के साथ, जिससे मनोज ने शादी की. ऐसा हम नहीं कह रहे, बल्कि ये दावा है दिल्ली पुलिस के उन अफ़सरों का जा खुद मनोज से पूछताछ कर रहे हैं.

पुलिस की मानें तो मनोज ने आज से कोई दो साल पहले अपनी ही पत्नी के साथ तब ज्यादती की थी, जब दोनों की शादी नहीं हुई थी और बाद में जब ये मामला खुला, तो लड़कीवालों और गांववालों के दबाव में मनोज ने उसी लड़की से शादी के लिए हां कर दी. तब लोगों को इस बात की उम्मीद थी कि शायद क़ानूनी उलझनों में फंसाने की बजाय मनोज को एक मौका देने पर दोनों की ज़िंदगी पटरी पर लौट सकती है. मगर, अफ़सोस, मनोज ने सुधरने की बजाय और भी बड़े गुनाह को अंजाम दिया.

पत्‍नी और सास ने भी की कड़ी सजा की मांग
अब ये शायद मनोज की करतूतों का ही नतीजा है कि खुद उसकी पत्नी और सास उसके किए पर कड़ी से कड़ी सज़ा की मांग कर रही है. उसकी सास का तो यहां तक कहना है कि अगर मनोज ने वाकई किसी मासूम के साथ ऐसा संगीन गुनाह किया है, तो फिर उसे फांसी की सज़ा दी जानी चाहिए.

इतना ही नहीं, मुज़फ्फ़रपुर के रहनेवाले मनोज पर तीन साल पहले यानी 2010 को वहीं एक लड़की के घर बदनीयती से घुसने का मुकदमा दर्ज हो चुका है और तो और इस मामले में वो डेढ़ महीने का वक्त जेल की सलाखों के पीछे भी गुजार चुका है.

शायद ये उसकी हरकतों का ही नतीजा है कि उसके पिता ने इसे खुद से अलग तक कर दिया था लेकिन फिर ये अपने पिता के पास ही दिल्ली लौट आया और यहां आने के बाद एक गारमेंट फैक्ट्री में काम करने लगा और फिर एक 15 अप्रैल को इसने अपने ही पड़ोस में रहनेवाली महज़ पांच साल की एक लड़की के साथ बलात्कार की ऐसी घिनौनी हरकत की जिसने पूरे मुल्क को बेचैन कर दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें