scorecardresearch
 

RJD का दावा- लालू यादव के बाहर आने से बदलेगी बिहार की राजनीति, JDU बोली- मुगालते में न रहें

राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा है कि लालू यादव के बाहर आने के बाद बिहार की राजनीति की दिशा और दशा दोनों बदलेगी, ये तय है. सरकार में शामिल पिछड़े, अतिपिछड़े, दलित और महादलित विधायकों की नहीं सुनी जा रही, उन्हें मान-सम्मान नहीं मिल रहा, वो गोलबंद हो रहे हैं.

बिहार की सियासत लालू यादव सक्रिय बिहार की सियासत लालू यादव सक्रिय
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिहार की राजनीति में फिर सक्रिय होंगे लालू
  • आरजेडी ने लालू पर जताया भरोसा
  • बीजेपी-जेडीयू ने कसा तंज

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के जेल से बाहर आने के बाद पार्टी कार्यकर्ता तो जोश में है ही, कई नेता भी मानने लगे हैं कि बिहार की राजनीति में फिर लालू सक्रिय भूमिका निभा सकते हैं. ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या बिहार की सियासत में कोई करवट आने वाली है? क्या लालू का जेल से बाहर आना नीतीश सरकार के लिए खतरे की घंटी है? अब जेडीयू और बीजेपी जरूर लालू को बिहार का इतिहास बता रहे हैं, लेकिन आरजेडी लगातार अपने नेता के हक में आवाज बुलंद कर रही है.

बिहार की राजनीति में लालू की होगी वापसी?

राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा है कि लालू यादव के बाहर आने के बाद बिहार की राजनीति की दिशा और दशा दोनों बदलेगी, ये तय है. सरकार में शामिल पिछड़े, अतिपिछड़े, दलित और महादलित विधायकों की नहीं सुनी जा रही है. उन्हें मान-सम्मान नहीं मिल रहा, वो गोलबंद हो रहे हैं. उनके मन में लालू यादव के प्रति सम्मान का भाव है क्योंकि उन्होंने वंचितों-शोषितों के हक की लड़ाई लड़ी है.

राजद के दावों पर जदयू ने जबरदस्त पलटवार किया है. जदयू प्रवक्ता अभिषेक झा ने कहा कि लालू यादव बिहार की राजनीति में इतिहास हो चुके हैं. अपने कृत्यों की वजह से वो सजायाफ्ता हैं और फिलहाल स्वास्थ्य कारणों से बाहर हैं. लेकिन वो सक्रिय राजनीति में भाग नहीं ले सकते. इसलिए उनके अंदर या बाहर रहने से बिहार की राजनीति पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा.

इन्होंने शोषितों-वंचितों, दलितों या खास समाज और समुदाय का ठेकेदार होने की बात तो जरूर की है लेकिन काम सिर्फ अपने और अपने परिवार के लिए किया है. ये 'अपना काम बनता, भांड़ में जाये जनता' की पॉलिसी पर काम करते हैं.

बीजेपी ने लालू पर क्या बोला?

सरकार में साझेदार बीजेपी ने भी लालू यादव पर तंज कसा है. बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि RJD सामाजिक न्याय की राजनीति का नेतृत्व नहीं करती, ये सिर्फ परिवारवाद की राजनीति कर रहे हैं. 15 साल में इन्होंने सामाजिक न्याय का क्या बंटाधार किया, ये सबको पता है.

NDA की सरकार में अति पिछड़ों और महिलाओं को आरक्षण दिया गया. RJD सिर्फ सामाजिक न्याय का आडम्बर रचकर सिर्फ परिवार की विरासत खड़ी रखना चाहते हैं. ये दलित-पिछडों को सिर्फ वोट के लिए गोलबंद करके मोहरा बनाकर रखना चाहते हैं.

क्लिक करें- 'पैसे लेकर भी कोरोना वैक्सीन नहीं दे पा रही विश्वगुरु सरकार,' जेल से निकलकर लालू का पहला हमला 

लालू के बाहर आने के क्या मायने?

बिहार में एनडीए की सरकार बनने के बाद विधानसभा सत्र के दौरान लालू यादव पर जेल में रहते हुए सत्ता पक्ष के विधायकों पर दबाव बनाने का आरोप लगा था, उनका एक कथित ऑडियो भी सामने आया था. अब लालू यादव जमानत पर जेल से बाहर आ चुके हैं.

सत्ता पक्ष भले दावा कर रहा है कि लालू यादव के बाहर आने से बिहार की राजनीति पर कोई असर नहीं पड़ेगा. लेकिन राजद को उम्मीद है कि लालू यादव अपने राजनीतिक कद का इस्तेमाल करते हुए बिहार में सियासी उलटफेर कर सकते हैं.
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें