scorecardresearch
 

'बिहार में भी श्मशान-कब्रिस्तान का मुद्दा उठा रही है बीजेपी'

सुशील मोदी सुशील मोदी

उत्तरप्रदेश के बाद अब बिहार में भी बीजेपी श्मशान और कब्रिस्तान के मुद्दे को गरमाने में लगी.

बीजेपी उत्तरप्रदेश में जिस फार्मूले के तहत प्रचंड बहुत के साथ जीत कर आई है. उसी फार्मूले को बिहार के बीजेपी नेता अपनाने में लगे हुए है. उत्तरप्रदेश में कब्रिस्तान और श्मशान एक बडा चुनावी मुद्दा बना थी.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खुद इस मुद्दे को उठाया था. बीजेपी के विधायक संजय सरावगी ने इस मामले को विधानसभा में गैर सरकारी संकल्प के तहत उठाते हुए कहा कि बिहार सरकार ने कब्रिस्तानों की घेराबंदी पर 700 करोड रूपये खर्च किए लेकिन श्मशानों के लिए उनके पास कोई नीति क्यों नही है.

सरावगी ने कहा ये तुष्टीकरण नीति है अब ये चलने वाली नही है. दरभंगा से बीजेपी के विधायक संजय सरावगी ने राज्य सरकार से मांग की है कि वो श्मशानों के विकास के लिए बजटिय उपबंध करे लेकिन सरकार इसके लिए तैयार नही है.

बिहार सरकार के मंत्री श्रवण कुमार ने इसका उत्तर देते हुए कहा कि बीजेपी जो सवाल उठा रही है वो भ्रम फैलाने वाला है. उन्होंने कहा कि सराकार राज्य के हित में काम करती है. सरकार इसकी समीक्षा कर रही है.

श्रवण कुमार ने कहा कि विधायक मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास के तहत मिलने वाले 2 करोड रूपए की राशि में श्मशान के विकास पर खर्च कर सकते है लेकिन बीजेपी समाज में तनाव फैलाने के लिए इस तरह के मुद्दे उठा रही है.

बहरहाल कब्रिस्तानों के घेराबंदी का काम बिहार में उस समय शुरू हुआ जब बिहार में बीजेपी और जनता दल यू के गठबंधन की सरकार थी.

सरकार ने उस समय ये फैसला सामूहिक रूप से लिया था लेकिन अब बिहार में महा गठबंधन की सरकार है. ऐसे में बीजेपी इस मुद्दे को हिन्दुत्व के साथ जोडकर चुनावों में फायदा उठाने के फिराक में है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें