scorecardresearch
 

इस दवा से मरीजों में कैंसर हुआ बिल्कुल ठीक, ट्रायल के नतीजों ने चौंकाया

रेक्टल कैंसर के मरीजों को कीमोथेरेपी, रेडिएशन और कई तरह की सर्जरी से गुजरना पड़ता है. इसकी वजह से उन्हें कई आंत, मूत्र और यौन रोग हो जाते हैं. एक ट्रायल में पाया गया है कि कैंसर के इन मरीजों को अब इन प्रक्रियाओं से नहीं गुजरना होगा. Dostarlimab नाम की दवा ने इनका ट्यूमर पूरी तरह खत्म कर दिया है.

X
ट्रायल में कैंसर के मरीज पूरी तरह हुए ठीक ट्रायल में कैंसर के मरीज पूरी तरह हुए ठीक
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कैंसर के मरीजों पर ट्रायल
  • स्टडी के नतीजे चौंकाने वाले
  • पूरी तरह ठीक हुए मरीज

मेडिकल की दुनिया में एक नए चमत्कार ने हर किसी को हैरान कर दिया है. रेक्टल यानी मलाशय के कैंसर के कुछ मरीजों पर एक खास दवा का क्लिनिकल ट्रायल किया जा रहा था. इसके नतीजे कैंसर के मरीजों के लिए एक बड़ी खुशखबरी लेकर आए हैं. ट्रायल में शामिल सभी 18 मरीजों में कैंसर ट्यूमर पूरी तरह खत्म पाया गया. ये स्टडी न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपी है. स्टडी के लेखक और न्यूयॉर्क के मेमोरियल स्लोन केटरिंग कैंसर सेंटर के डॉक्टर लुइस ए डियाज ने कहा कि आज तक ऐसी कोई भी स्टडी नहीं आई है जिसमें ये दावा किया जा सके कि इलाज से किसी भी मरीज का कैंसर पूरी तरह से खत्म हो गया हो.

क्या कहती है स्टडी- 18 मरीजों पर की गई ये स्टडी बहुत छोटी थी. स्टडी में शामिल सभी मरीजों ने एक ही दवा ली थी. स्टडी के नतीजे चौंकाने वाले थे. ट्रायल में शामिल हर एक मरीज के शरीर से कैंसर पूरी तरह गायब हो चुका था. किसी भी मरीज के शारीरिक परीक्षण, एंडोस्कोपी, पीईटी स्कैन या एम.आर.आई. स्कैन में ये दिखाई नहीं दिया. डॉक्टर डियाज ने कहा, 'मेरे हिसाब से कैंसर के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है.' 

खुशी से रोने लगे थे कैंसर के मरीज- रेक्टल कैंसर के मरीजों को कीमोथेरेपी, रेडिएशन और कई तरह की सर्जरी से गुजरना पड़ता है. इसकी वजह से उन्हें कई आंत, मूत्र और यौन रोग हो जाते हैं. कुछ को कोलोस्टॉमी बैग लगवाने की भी जरूरत पड़ती है. स्टडी में शामिल इन सारे मरीजों के दिमाग में भी यही था कि एक बार जब ये ट्रायल हो जाएगा तो उन्हें फिर से इन सारी प्रक्रियाओं से गुजरना होगा. इनमें से किसी को वास्तव में ये उम्मीद नहीं थी कि इनका ट्यूमर पूरी तरह गायब हो जाएगा. उन्हें हैरानी हुई कि अब उन्हें किसी और ट्रीटमेंट की जरूरत नहीं है.

कैंसर से पूरी तरह ठीक होने के बाद इन मरीजों की आंखों में खुशी के आंसू थे. ट्रायल में शामिल साशा रोथ नाम की मरीज ने न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया कि सिग्मोइडोस्कोपी के दौरान मेरी गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट ने खुशी से उछलते हुए कहा, 'मुझे यकीन नहीं हो रहा. मैंने इसकी उम्मीद नहीं की थी!.' 

इस दवा ने दिखाया कमाल- ट्रायल में शामिल सभी मरीजों को Dostarlimab नाम की दवा दी गई थी. ये मरीजों को छह महीने के लिए हर तीन सप्ताह में दी गई. ये दवा कैंसर कोशिकाओं की उजागर करती है, इम्यून सिस्टम को उन्हें पहचानने और नष्ट करने में मदद करती है. मरीजों पर इस दवा के कुछ खास साइड इफेक्ट नहीं देखे गए. नॉर्थ कैरोलिना के लाइनबर्गर कॉम्प्रिहेंसिव कैंसर सेंटर की डॉक्टर हन्ना सैनॉफ ने कहा, 'ये स्टडी छोटी लेकिन काफी प्रभावी है.' हालांकि, उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट नहीं है कि मरीज पूरी तरह ठीक हो गए हैं या नहीं. एक्सपर्ट्स का कहना है कि ऐसी स्टडी फिर से करने की जरूरत है. 

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें