scorecardresearch
 

फॉरेन ट्रिप के दौरान सेक्स वर्कर के साथ बनाए संबंध, हुई दुर्लभ बीमारी, हर दवा बेअसर!

हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले एक व्यक्ति में गोनोरिया का एक नया स्ट्रेन पाया गया है. यह स्ट्रेन गोनोरिया से भी काफी ज्यादा खतरनाक है जिस कारण इस स्ट्रेन को सुपर गोनोरिया नाम दिया गया है. बता दें कि इस व्यक्ति ने कंबोडिया में एक सेक्स वर्कर के साथ अनप्रोटेक्टेड सेक्स किया था.

X
Gonorrhea symptoms and causes (Credit: CDC/ Antibiotic Resistance Coordination and Strategy Unit) Gonorrhea symptoms and causes (Credit: CDC/ Antibiotic Resistance Coordination and Strategy Unit)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अनप्रोटेक्टेड सेक्स करना पड़ा भारी
  • कुछ ही दिनों में सामने आए दुर्लभ बीमारी के लक्षण

विदेश में एक महिला के साथ शारीरिक संबंध बनाने के बाद ऑस्ट्रेलिया के एक व्यक्ति में 'सुपर गोनोरिया' का एक नया स्ट्रेन पाया गया है. वैज्ञानिकों के मुताबिक, नए स्ट्रेन पर इस इंफेक्शन को ठीक करने वाली एंटीबायोटिक्स का भी कोई असर नहीं हो रहा. यह दूसरी बार है जब सुपर गोनोरिया नाम का यह स्ट्रेन डिटेक्ट हुआ है. इससे पहले साल 2018 में बहुत से देशों में ये स्ट्रेन पाया गया था. 

मामले की रिपोर्ट के अनुसार,इस व्यक्ति ने अप्रैल 2022 को कंबोडिया में एक सेक्स वर्कर के साथ बिना प्रोटेक्शन के सेक्स किया था. इसके 5 दिन बाद व्यक्ति को यूरिन पास करते समय प्राइवेट पार्ट में दर्द की समस्या का सामना करना पड़ा. 

व्यक्ति में जो स्ट्रेन पाया गया था, उस पर एज़िथ्रोमाइसिन का कोई असर नहीं हुआ. एज़िथ्रोमाइसिन आमतौर पर गोनोरिया के इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाने वाली पहली एंटीबायोटिक दवाओं में से एक है. इसके अलावा इस स्ट्रेन पर बाकी एंटीबायोटिक्स का भी कोई असर नहीं हुआ जैसे-सेफ्ट्रिएक्सोन, सेफिक्सिम, सेफोटैक्सिम, सिप्रोफ्लोक्सासिन और टेट्रासाइक्लिन. 

सीडीसी ने इस मामले पर अपनी वेबसाइट में लिखा कि शारीरिक संबंध बनाने के दौरान प्रोटेक्शन का इस्तेमाल करना और संक्रमित व्यक्ति के साथ संबंध ना बनाने से ही गोनोरिया या उसके स्ट्रेन के खतरे को कम किया जा सकता है. आइए जानते हैं क्या होता है गोनोरिया, इसके कारण और लक्षण

क्या होता है गोनोरिया

गोनोरिया एक यौन संचारित संक्रमण है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के जरिए फैलता है. पुरुष और महिलाएं दोनों ही इससे संक्रमित हो सकते हैं. गोनोरिया अक्सर  मूत्रमार्ग, मलाशय और गले को प्रभावित करता है. यह महिलाओं में गर्भाशय या ग्रीवा (cervix) को भी प्रभावित कर सकता है. 

गोनोरिया अक्सर वजाइनल, ओरल या एनल सेक्स के जरिए फैलता है और संक्रमित मां से बच्चे में भी यह संक्रमण फैल सकता है. बच्चों में गोनोरिया के कारण आंखों पर इसका प्रभाव देखने को मिलता है. 

गोनोरिया के लक्षण

बहुत से मामलों में, गोनोरिया इंफेक्शन के कोई लक्षण नजर नहीं आते. हालांकि, इसके लक्षण आपके शरीर के अलग-अलग हिस्सों में देखने को मिल सकते हैं लेकिन आमतौर पर इसके लक्षण जननांग मार्ग में देखने को मिलते हैं. 

पुरुषों में दिखते हैं ये लक्षण

- यूरिन पास करते समय दर्द
- प्राइवेट पार्ट से पस जैसा डिस्चार्ज
- टेस्टिकल्स के आस-पास दर्द और सूजन

महिलाओं में दिखते हैं ये लक्षण

- वजाइनल डिस्चार्ज बहुत ज्यादा होना
- यूरिन पास करते समय दर्द
- इंटरकोर्स के दौरान वजाइनल ब्लीडिंग
- पेट और पेल्विक फ्लोर में दर्द

शरीर के अलग-अलग हिस्सों में दिखने वाले लक्षण

रैक्टम- गोनोरिया के लक्षणों में एनल में खुजली, एनल से पस जैसा डिस्चार्ज और ब्लीडिंग होना शामिल है.

आंखें- गोनोरिया के लक्षण आंखों पर भी दिखाई देते हैं, जिस कारण आपको आंखों में दर्द, लाइट के प्रति आंखे सेंसिटिव होना और आंखों से पस निकलना शामिल है. 

गला- इसके कारण गले में दर्द, सूजन का सामना करना पड़ता है. 

गोनोरिया के कारण

25 वर्ष की आयु से कम उम्र की महिलाएं जो सेक्सुअली एक्टिव हों और पुरुष जिनके दूसरे पुरुषों के साथ संबंध हों, उनमें गोनोरिया होने का खतरा काफी ज्यादा होता है. 

इन कारणों की वजह से भी होता है गोनोरिया

- किसी नए व्यक्ति के साथ शारीरिक संबंध बनाना
- ऐसे व्यक्ति के साथ शारीरिक संबंध बनाना जिसके और भी कई पार्टनर्स हों.
- एक से ज्यादा लोगों के साथ शारीरिक संबंध बनाना.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें