scorecardresearch
 

कौन हैं इमाम Umer Ahmed Ilyasi जिन्होंने RSS चीफ मोहन भागवत को 'राष्ट्रपिता' कहा

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के चीफ मोहन भागवत ने गुरुवार को ऑल इंडिया इमाम ऑर्गेनाइजेशन के प्रमुख डॉ. उमर अहमद इलियासी से मुलाकात की. इसके बाद इलियासी ने भागवत को 'राष्ट्रपिता' बताया. हालांकि, भागवत ने उन्हें टोकते हुए कहा कि राष्ट्रपिता एक ही हैं और हम सब भारत की संतान हैं.

X
चीफ इमाम डॉ. उमर अहमद इलियासी (फाइल फोटो-ट्विटर) चीफ इमाम डॉ. उमर अहमद इलियासी (फाइल फोटो-ट्विटर)

Who is Umer Ahmed Ilyasi: ऑल इंडिया इमाम ऑर्गेनाइजेशन के प्रमुख डॉ. उमर अहमद इलियासी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के सरसंघचालक मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) को 'राष्ट्रपिता' बताया. गुरुवार को भागवत और इलियासी के बीच मुलाकात हुई थी. ये मुलाकात दिल्ली के कस्तूरबा गांधी मार्ग पर स्थित मस्जिद में हुई थी. 

इसके बाद भागवत उत्तरी दिल्ली के आजादपुर में स्थित मदरसे में भी पहुंचे. यहां भागवत जब बच्चों से बात कर रहे थे, तभी इलियासी ने उन्हें 'राष्ट्रपिता' बताया. हालांकि, आरएसएस के अधिकारियों का कहना है कि इस पर भागवत ने उन्हें टोकते हुए कहा कि राष्ट्रपिता एक ही हैं और हम सब भारत की संतान हैं.

इस मुलाकात के बाद इलियासी ने न्यूज एजेंसी से कहा, 'वो राष्ट्रपिता हैं. हमने देश को मजबूत करने के लिए कई मुद्दों पर चर्चा की.' उन्होंने कहा कि भागवत के दौरे से बड़ा संदेश जाएगा. हम सबके लिए, देश पहले है. हमारा DNA एक ही है, बस पूजा करने के तौर-तरीके अलग-अलग हैं.

भागवत को 'राष्ट्रपिता' बताने वाले इलियासी कौन?

डॉ. उमर अहमद इलियासी ऑल इंडिया इमाम ऑर्गेनाइजेशन (AIIO) के प्रमुख हैं. दावा है कि इस संगठन में 5 लाख से ज्यादा इमाम हैं, जो 21 करोड़ भारतीय मुसलमानों की आवाज हैं.

AIIO का दावा है कि वो दुनिया में इमामों का सबसे बड़ा संगठन है. ये भी दावा है कि इस संगठन को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली हुई है.

हाल ही में डॉ. उमर अहमद इलियासी को पंजाब की देश भगत यूनिवर्सिटी ने डॉक्टरेट की डिग्री से नवाजा है. दावा है कि भारतीय इतिहास में पहली बार किसी मस्जिद के इमाम को इतनी बड़ी डिग्री से सम्मानित किया गया है.

डॉ. इलियासी को इस्लामी कानून का जानकार माना जाता है. वो उन कुछ इस्लामी बुद्धिजीवियों में से एक हैं, जो आतंकवाद और उग्रवाद पर अपनी साफ स्थिति रखते हैं.

AIIO की वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के मुताबिक, डॉ. उमर अहमद इलियासी को शांति और सद्भाव के लिए देश-दुनिया में सैकड़ों अवॉर्ड्स से सम्मानित किया जा चुका है.

जब देश में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे थे, तब इलियासी ने एक बयान जारी कर कहा था कि पहले लोग CAA और NRC को समझ लें और उसके बाद भी कुछ गलत लगे तो शांति के साथ प्रदर्शन करें. उन्होंने अपील करते हुए कहा था कि सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाना या कानून हाथ में लेना सही नहीं है.

उमर अहमद इलियासी की भागवत से पहले भी कई मौकों पर मुलाकात हो चुकी है. वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भी मंच साझा कर चुके हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें