scorecardresearch
 

बेपनाह हुस्न, बेहतरीन अदायगी की मल्लि‍का मीना कुमारी को जन्मदिन पर सलाम

भारतीय सिनेमा की 'ट्रेजडी क्वीन' नाम से मशहूर अभिनेत्री मीना कुमारी ऐसी अभिनेत्रियों में शुमार हैं, जिनके साथ हर कलाकार काम करने को बेताब रहा करता था. उनकी खूबसूरती ने सभी को अपना दीवाना बना लिया.

मीना कुमारी (फाइल फोटो) मीना कुमारी (फाइल फोटो)

'चलते चलते यूं ही कोई मिल गया था...' पाकीजा फिल्म का ये गाना आज भी लोगों के जुबान से नहीं उतरता. इस गाने को और भी खूबसूरत बनाया था बेपनाह हुस्न और बेहतरीन अदायगी की मलिका मीना कुमारी ने. आज मीना कुमारी उर्फ महजबीन बानो का जन्मदिन है. मीना कुमारी ने अपने गमगीन किरदारों की वजह से जो जगह बनाई उस जगह को आज तक कोई भर नहीं पाया.

मीना कुमारी का जन्म मुंबई (तब बंबई) में साल 1932 में हुआ था. मीना कुमारी को उनके गमगीन किरदारों और निजी जिंदगी में हुए उठा-पटक की वजह से जाना जाता है और इसीलिए उनको 'ट्रैजिडी क्वीन' के नाम से भी जाना जाने लगा. मीना की शुरुआती जिंदगी काफी संघर्ष से भरी हुई थी. उनके पिता अली बख्श पारसी रंगमंच के एक बेहतरीन कलाकार थे. मीना की मां प्रभावती देवी, जिन्हें बाद में इकबाल बानो नाम से जाना गया वो भी एक अच्छी कलाकार थीं. माता-पिता के कलाकार होने का महजबीन को बहुत फायदा मिला. महज 6 साल की उम्र में उन्होंने पहली बार किसी फिल्म के लिए काम किया था, लेकिन महजबीन को असली पहचान मिली साल 1952 में आई फिल्म 'बैजू बावरा' से. इसी फिल्म के निर्देशक विजय भट्ट ने महजबीन बानो को एक नया नाम दिया और तब से वो मीना कुमारी के नाम से जानी जाने लगीं.

'बैजू बावरा' के बाद मीना कुमारी ने साल 1953 तक तीन हिट फिल्में दी जिसमें दायरा, दो बीघा जमीन और परिणीता शामिल थी. परिणीता में मीना कुमारी के काम को काफी सराहा गया और उनकी भूमिका ने भारतीय महिलाओं को खासा प्रभावित किया. माना जाता है कि इसी फिल्म के बाद उनकी छवि 'ट्रैजिडी क्वीन' की हो गई.

निजी जिंदगी भी रही 'ट्रैजिडी' भरी
पर्दे पर गमगीन रहने वाली मीना कुमारी की निजी जिंदगी भी गम से भरी रही . मीना कुमारी ने उस वक्त के मशहूर फिल्म निर्माता कमाल अमरोही के साथ शादी की थी. कमाल उनसे उम्र में 15 साल बड़े थे. शादी के बाद ही कमाल अमरोही की फिल्म 'पाकिजा' रिलीज हुई. 'पाकिजा' में मीना कुमारी के अभिनय को कभी भुलाया नहीं जा सकता. लेकिन आजाद खयालों की मीना का ये रिश्ता ज्यादा दिनों तक नही चल पाया और साल 1964 में वो कमाल अमरोही से अलग हो गईं.

इस रिश्ते के टूटने का मीना पर गहरा असर पड़ा. बताया जाता है कि मीना इस गम को भूलाने के लिए शराब के नशे में डूबी रहने लगीं. अत्यधिक शराब के सेवन से वो लिवर सिरोसिस की शिकार हो गई और फिल्म 'पाकिजा' के रिलीज के कुछ ही हफ्तों बाद 31 मार्च 1972 को 39 साल की उम्र में उनका देहांत हो गया.

बेहतरीन शायर भी थीं मीना कुमारी
बहुत कम ही लोग जानते होंगे कि मीना कुमारी एक बेहतरीन अभिनेत्री होने के साथ ही साथ एक अच्छी शायर भी थीं. कमाल से रिश्ते खत्म होने के बाद उन्होंने अपने दिल के दर्द को कागज के पन्नों पर उतारना शुरू कर दिया था.

मीना की लिखी कुछ शायरी
- तलाक दे रहे हो नजर-ए-कहर के साथ, जवानी भी मेरी लौटा दो मेहर के साथ.
- दिल सा जब साथी पाया, बेचैनी भी वो साथ ले आया .
- तुम क्या करोगे सुनकर मुझ से मेरी कहानी, बे-लुत्फ जिंदगी के किस्से हैं फीके-फीके.

वो फिल्में जो मीना कुमारी को अमर कर गईं
- बैजू बावरा
- परिणीता
- पाकीजा
- साहेब बीवी और गुलाम
- दिल एक मंदिर
- बंधन

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें