scorecardresearch
 

JNU में हुई हिंसा से ज्यादा एक्शन नहीं लिए जाने पर हैरान हैं दीपिका

बता दें कि दीपिका अपकमिंग फिल्म छपाक के प्रमोशन के लिए दिल्ली गई हुई थीं. फिल्म 10 जनवरी को रिलीज हो रही है.

दीपिका पादुकोण दीपिका पादुकोण

दिल्ली की जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में रविवार को तोड़फोड़ और मारपीट हुई. कई लोग इस हिंसा के विरोध में प्रोटेस्ट कर रहे हैं. दीपिका पादुकोण जेएनयू में हुई हिंसा के खिलाफ प्रोटेस्ट कर रहे स्टूडेंट्स के समर्थन में मंगलवार को जेएनयू पहुंच गईं. दीपिका इस हिंसा के खिलाफ कोई खास एक्शन नहीं लिए जाने  पर काफी हैरान हैं.

आजतक से बातचीत में जब उनसे पूछा गया कि देश एक खास किस्म के वक्त से गुजर रहा है जहां पे हम देश के कई यूनिवर्सिटीज में और सड़कों पर लोगों का सरकार के खिलाफ CAA-NRC कानून के खिलाफ उनका प्रदर्शन देख रहे हैं. JNU में, जामिया में AMU, IIT मुंबई... कई स्टार्स खुलकर इस पर बोल भी रहे हैं. क्या आप इस पर कुछ खास राय रखती हैं या आपका क्या नजरिया है इस पर?

जवाब में उन्होंने कहा- आई थिंक, सबसे पहले जो मुझे कहना था मैंने दो साल पहले ही कह दिया. जब पद्मावत रिलीज हो रही थी उसी वक्त मुझे जो मैं महसूस कर रही थी मैंने उसी वक्त कह दिया था. अब जो मैं देख रही हूं मुझे बहुत दर्द होता है और दर्द इसलिए क्योंकि आई होप दैट दिस डजन्ट बिकम द न्यू नॉर्मल. कि कोई भी कुछ भी कह सकता है. और वो इससे भाग सकते हैं. तो डर भी लगता है. दुख भी होता है. और आई थिंक, हमारे देश का जो एक फाउंडेशन है ये तो जरूर नहीं था.

सवाल- JNU में खासतौर पर जो कुछ हुआ है उसको लेकर बहुत ज्यादा रिएक्शंस आ रहे हैं फिल्म इंडस्ट्री से लोगों के, उस पर कुछ कहना चाहेंगी आप?

जवाब- आई थिंक, जैसा कि मैंने कहा है. मुझे गुस्सा आता है कि ये सब हो रहा है. और दूसरा फेक्ट ये है कि एक्शन नहीं लिया जा रहा है. ये सोचने की बात है.

दिल्ली क्यों गई थीं दीपिका?

बता दें कि दीपिका अपकमिंग फिल्म छपाक के प्रमोशन के लिए दिल्ली गई हुई थीं. फिल्म 10 जनवरी को रिलीज हो रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें