scorecardresearch
 

बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी में दी गई Sidhu Moose Wala को श्रद्धांजलि

कुछ दिनों पहले सिद्धू मूसेवाला की बर्थ एनिवर्सरी पर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई थी. मीका सिंह और दिलजीत दोसांझ ने इमोशनल पोस्ट शेयर की थी. अब 2 जुलाई को बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में सिद्धू मूसेवाला को श्रद्धांजलि दी गई.

X
सिद्धू मूसेवाला सिद्धू मूसेवाला
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बीजेपी ने दी सिद्धू मूसेवाला को श्रद्धांजलि
  • 29 मई को गोली मारकर कर दी थी हत्या

पंजाबी सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Moose Wala) की 29 मई को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. अगले दिन पोस्टमार्टम हुआ और उसके अगले दिन दोपहर में इनके पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार किया गया. इस दौरान के कई इमोशनल वीडियोज सोशल मीडिया पर सामने आए थे. पूरी पंजाबी इंडस्ट्री के लिए यह दिन 'ब्लैक डे' रहा. कुछ दिनों पहले सिद्धू मूसेवाला की बर्थ एनिवर्सरी पर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई थी. मीका सिंह और दिलजीत दोसांझ ने इमोशनल पोस्ट शेयर की थी. अब 2 जुलाई को बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में सिद्धू मूसेवाला को श्रद्धांजलि दी गई है. 

कैसे हुई सिद्धू मूसेवाला की मौत?
पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की मौत सभी के लिए बेहद ही शॉकिंग था. 28 साल के बेटे को अलविदा कहते हुए दोनों ही माता-पिता का बुरा हाल रहा. दोनों अभी भी इस सदमे से निकल नहीं पाए हैं. सिद्धू मूसेवाला की मौत से उनके करीबियों और फैन्स को झटका लगा था. आज भी कोई यकीन करने के लिए तैयार नहीं कि सिद्धू मूसेवाला हमारे बीच नहीं रहे. 

सिद्धू मूसेवाला का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गांव मूसा में हुआ था. फैन्स और परिवारवालों ने नम आंखों से सिंगर को विदा किया था. पंजाब पुलिस ने जानकारी दी थी कि सिद्धू मूसेवाला पर 30 राउंड फायर किए गए. पोस्टमार्टम से भी पता चला था कि सिद्धू के शरीर में 24 गोलियों के घाव थे. एक गोली सिर की हड्डी में फंसी हुई थी. बॉडी के दूसरे पार्ट्स में भी अंदरूनी चोटें लगी हुई थीं.

गौरतलब है कि सिद्धू मूसेवाला मानसा विधानसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे थे. हालांकि, मूसेवाला को भगवंत मान सरकार के बर्खास्त मंत्री विजय सिंगला ने बड़े अंतर से हरा दिया था. सिद्धू का कागजी नाम शुभदीप सिंह है. लेकिन बाहर की दुनिया में अपने घर और गांव के नाम 'सिद्धू मूसेवाला' से फेमस थे. सिद्धू मूसेवाला को अपना ट्रैक्टर 5911 बहुत पसंद था. उनकी अंतिम यात्रा इसी पर निकाली गई थी. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें