scorecardresearch
 

Review: करियर के बेहतरीन रोल में अर्जुन, निराश करती हैं डैडी में ये कमियां

फिल्म की कहानी काफी कमजोर है, उसे दिखा दिखाने का तरीका भी बहुत कन्फ्यूजिंग लगता है. 80 और 90 के दशक की कहानी के साथ-साथ मौजूदा हिस्सों को भी दिखाया गया है जो कहानी की रफ्तार पर प्रभावी हो गया और कन्फ्यूजन पैदा करता है.

डैडी डैडी

फिल्म का नाम : डैडी 

डायरेक्टर:  अशीम अहलूवालिया   

स्टार कास्ट: अर्जुन रामपाल, ऐश्वर्या राजेश, निशिकांत कामत, फरहान अख्तर, राजेश श्रृंगारपुरे, आनंद इंगले 

अवधि: 2 घंटा 15 मिनट 

सर्टिफिकेट: U /A 

रेटिंग: 2 स्टार 

कई सारी शार्ट फिल्म्स बनाने के बाद साल 2006 में डायरेक्टर आशिम अहलुवालिया ने 'जॉन एंड जेन' नमक फिल्म बनाई थी. उसके बाद अब साल 2017 में उन्होंने डैडी फिल्म डायरेक्ट की है. उन्होंने मुंबई के पूर्व गैंगस्टर और पॉलिटिशियन अरुण गवली के जीवन की घटनाओं को दिखाने की कोशिश की है.  

कहानी: यह कहानी अरुण गुलाब गवली (अर्जुन रामपाल ) की है. उसकी कहानी किस तरह से मुंबई के भायखला इलाके की एक चॉल से शुरू होती है जिसे अंडरवर्ल्ड में 'डैडी' के नाम से पुकारा जाता है. यही इस फिल्म के माध्यम से दिखाने की कोशिश की गई है. अरुण के ऊपर चल रहे आपराधिक मामलों के साथ ही परिवार की स्थिति और इलाके के लोगों के साथ उसके तालमेल को दिखाया गया है. फिल्म में इंस्पेक्टर विजयकर नितिन (निशिकांत कामत) और मक़सूद (फरहान अख्तर) का भी अहम रोल है. कहानी के केंद्र में मुंबई का अंडरवर्ल्ड है. अंततः क्या होता है, इसका पता आपको थिएटर जाकर ही चल पायेगा. 

कमज़ोर कड़ियां: फिल्म की कहानी  काफी कमजोर है, उसे दिखा दिखाने का तरीका भी बहुत कन्फ्यूजिंग लगता है. 80 और 90 के दशक की कहानी के साथ-साथ मौजूदा हिस्सों को भी दिखाया गया है जो कहानी की रफ्तार पर प्रभावी हो गया और कन्फ्यूजन पैदा करता है. फिल्म की कास्टिंग भी काफी हिली-डुली है. एक तरफ इंस्पेक्टर के रूप में डायरेक्टर निशिकांत कामत है जो कि कई सीन में अपने किरदार को सटीक निभाते नजर आते हैं, पर फरहान अख्तर को मक़सूद के रूप में लेना, पूरी तरह से मिसकास्टिंग लगती है. दरअसल, फिल्म में अरुण गवली का ना ही गैंगस्टर और ना ही रॉबिनहुड वाला रोल न्यायसंगत बन पाया है. स्क्रीनप्ले पर और भी ज्यादा काम किया जाता तो फिल्म और भी बेहतर लगती. 

इसलिए देख सकते हैं फिल्म : अर्जुन रामपाल का लुक बहुत अच्छा है. उन्होंने अरुण गवली का किरदार अच्छी तरह से निभाया है. यह उनके करियर का सबसे अच्छा रोल है. फिल्म में ऐश्वर्या राजेश, राजेश श्रृंगारपुरे, आनंद इंगले और बाकी एक्टर्स का काम भी शानदार है. अगर अर्जुन रामपाल के बहुत बड़े फैन हैं तो एक बार जरूर देख सकते हैं. फिल्म में बैकग्राउंड स्कोर बढ़िया है और संगीत भी अच्छा है. 

बॉक्स ऑफिस : फिल्म के प्रमोशन और मार्केटिंग के साथ  बजट 20 करोड़ बताया जा रहा है जिनमें 13 करोड़ फिल्म की कॉस्ट और 7 करोड़ मार्केटिंग और प्रोमोशन में खर्च किये गए हैं. यह करीब 1000 से ज़्यादा स्क्रींस पर रिलीज़ हो रही है. यह देखना बेहद ख़ास होगा कि वीकेंड के दौरान ये फिल्म कितना बिजनेस करती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें