scorecardresearch
 

सोनू सूद के नाम पर शख्स करता था ठगी, एक्टर ने की सतर्क रहने की अपील

बताया जा रहा है कि आरोपी ने सोनू सूद के नाम से मदद का वादा करके तेलंगाना के एक व्यक्ति को कथित रूप से धोखा दिया है. पुलिस को जांच में पता चला कि आरोपी ने ट्वीटर पर खुद को सोनू सूद का सलाहकार बता रखा है.

सोनू सूद सोनू सूद
स्टोरी हाइलाइट्स
  • साइबराबाद में शख्स हुआ गिरफ्तार.
  • सोनू सूद के नाम से मदद करने का वादा देकर ऐंठ रहा था पैसे.
  • सोनू सूद ने खुद की थी पुलिस में शिकायत.
  • तेलंगाना के शख्स के साथ हुई धोखाधड़ी.

मुंबई के ओशिवाड़ा पुलिस थाने में कुछ समय पहले एक शिकायत दर्ज करवाई गई थी, जिसमें बताया गया था कि एक अनजान शख्स बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद बनकर लोगों से पैसे ऐंठ रहा था. यह शख्स सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स की मदद से लोगों को झांसा देकर उनसे सोनू सूद के नाम पर पैसे ले रहा था. 

साइबराबाद में शख्स हुआ गिरफ्तार 

ऐसे में शनिवार को साइबराबाद पुलिस की साइबर क्राइम यूनिट ने आशीष कुमार सिंह नाम के 23 वर्षीय व्यक्ति को गिरफ्तार किया है. यह शख्स बिहार के मुजफ्फरपुर का रहने वाला है और एक प्राइवेट कंपनी में काम करता था. आशीष ने ट्विटर पर अपना फोन नंबर शेयर किया था, जिसपर उसने लोगों से पैसे ट्रांसफर करने के लिए कहा और लाखों रुपये ऐंठे. उसने अपने ट्विटर अकाउंट पर खुद को सोनू सूद कॉर्पोरेशन का FXTD एडवाइजर बताया हुआ था और जरूरतमंद को आथिर्क मदद का वादा कर रहा था. 

तेलंगाना के व्यक्ति को दिया झांसा

बताया जा रहा है कि आरोपी ने सोनू सूद के नाम से मदद का वादा करके तेलंगाना के एक व्यक्ति को कथित रूप से धोखा दिया है. पुलिस को जांच में पता चला कि आरोपी ने ट्वीटर पर खुद को सोनू सूद का सलाहकार बता रखा है. तेलंगाना के इस शिकायतकर्ता ने 3 मार्च को पुलिस से संपर्क किया था. शिकायतकर्ता ने बताया कि जब उसे पता चला की सोनू सूद लोगों की मदद करते हैं तो उसने एक्टर की चैरिटी कंपनी के फोन नंबर का पता गूगल के जरिए लगाया, जिससे उसे एक नंबर मिला और उसने नंबर पर कॉल किया.

आरोपी ने खुद को बताया सोनू सूद का सलाहकार

पुलिस के मुताबिक, ''तेलंगाना निवासी शिकायतकर्ता ने जब कॉल किया तो फोन उठाने वाले शख्स ने अपना नाम पंकज सिंह भदौरिया बताया. इसपर शिकायतकर्ता ने शख्स से 10 हजार रुपये की मदद मांगी. आरोपी ने शिकायतकर्ता को मदद करने का आश्वासन देते हुए उससे उसकी डिटेल्स मांगी. कुछ दिन बाद उसने कहा कि सोनू सूद ने उनके परिवार के बारे में पूछा है और उन्हें 50 हजार रुपये देने का फैसला किया है, लेकिन इसके बदले उन्हें पंजीकरण शुल्क के रूप में 8 हजार 300 रुपये देने होंगे.''

पुलिस ने आगे बताया, ''इसके कुछ दिनों बाद आरोपी ने शिकायतकर्ता को दोबारा फोन कर कहा कि सूद ने अब मदद के लिए 3 लाख 60 हजार रुपये की मदद देने का फैसला किया है, लेकिन इसके लिए उसे अलग-अलग फॉर्मलिटीज के पैसे भरने होंगे. शिकायतकर्ता ने आरोपी को 60 हजार रुपये का भुगतान कर दिया था, जब उसे समझ आया कि उसके साथ धोखा हुआ है.''

सोनू सूद ने सोशल मीडिया पर की थी अपील

बता दें की एक्टर सोनू सूद को जरूरतमंदों की मदद के लिए जाना जाता है. ऐसे में सोनू ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर यह मैसेज पोस्ट किए थे कि लोग उनके नाम से फ्रॉड ना करें. अगर किसी फ्रॉड करने वाले को आर्थिक मदद चाहिए तो सोनू खुद उनकी मदद कर उन्हें नौकरी दिला सकते हैं, लेकिन किसी की मजबूरी का फायदा उठाकर उसे चीट ना करें. 

सूद ने खुद पुलिस में की थी शिकायत 

इसके अलावा सोनू सूद ने मार्च के महीने में यूपी पुलिस के पास शिकायत दर्ज करवाई थी. सोनू सूद को पता चला था कि उनके नाम से फ्रॉड हो रहे हैं और लोग खुद को सोनू के नाम की नकली चैरिटी फाउंडेशन का कर्मचारी बताकर पैसे ठग रहे हैं. सितम्बर 2020 में भी सोनू ने ओशिवाड़ा पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवाई थी. तब सोनू को पता चला था कि कोई सोशल मीडिया पर उनके नाम से मदद करने के लिए लोगों से 1700 फीस ले रहा है और ऑनलाइन फॉर्म भी भरवा रहा है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें