scorecardresearch
 

शांत हुई स्वर सरस्वती, लता के निधन के बाद शोक में डूबा देश

'भारत रत्न' लता मंगेशकर का रविवार (6 फरवरी, 2022) को 92 साल की उम्र में निधन हो गया. लता मंगेशकर लंबे वक्त से बीमार थीं और मुंबई के अस्पताल में भर्ती थीं. स्वर कोकिला के निधन के बाद देश में राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया.

X
लता मंगेशकर लता मंगेशकर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'भारत रत्न' स्वर कोकिला लता मंगेशकर का निधन
  • 92 साल की उम्र में लता मंगेशकर ने ली अंतिम सांस
  • अलविदा लता: 28 सितंबर, 1929-22 फरवरी, 2022

'भारत रत्न' स्वर कोकिला लता मंगेशकर अब हमारे बीच में नहीं रहीं. 92 साल की उम्र में लता मंगेशकर ने रविवार (6 फरवरी, 2022) को मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में अंतिम सांस ली. कोरोना वायरस से पीड़ित होने के बाद लता मंगेशकर को 8 जनवरी को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, तभी से वह वहां थीं. लेकिन ये लंबा संघर्ष 6 फरवरी को खत्म हुआ और लता मंगेशकर ने इस दुनिया से विदाई ली.

लता मंगेशकर का अंतिम संस्कार आज (रविवार) को ही किया जाएगा. उनका पार्थिव शरीर पेडर रोड स्थित उनके घर प्रभु कुंच पर लाया गया. यहां जावेद अख्तर और अनुपम खेर उनके अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे. इसके बाद शाम 4.30 बजे लता मंगेशकर का पार्थिव शरीर मुंबई के शिवाजी पार्क में ले जाया जाएगा, जहां उन्हें अंतिम विदाई दी जाएगी और संस्कार किया जाएगा.

सरकार द्वारा ऐलान किया गया है कि लता मंगेशकर का अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम को ही मुंबई पहुंचेंगे, वह लता मंगेशकर के अंतिम दर्शन करेंगे और उन्हें विदाई देंगे. पीएम मोदी करीब 4.30 बजे मुंबई पहुंचेंगे. 

लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि दें

लता मंगेशकर के निधन पर देश में दो दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है, इस दौरान सभी स्थानों पर तिरंगा आधा झुका रहेगा. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी समेत तमाम दिग्गज नेताओं, अभिनेताओं और अन्य क्षेत्र से जुड़े लोगों ने लता मंगेशकर के निधन पर दुख व्यक्त किया है. 

कोविड होने के बाद अस्पताल में भर्ती हुई थीं लता दीदी  

स्वर कोकिला लता मंगेशकर पिछले करीब एक महीने से काफी बीमार चल रही थीं. इसी साल 8 जनवरी को कोरोना संक्रमित होने के बाद लता मंगेशकर को मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. लता को कोरोना के साथ निमोनिया भी हुआ था. लता दीदी की उम्र को देखते हुए डॉक्टर्स ने उन्हें ICU में एडमिट किया था. तब से वह लगातार संघर्ष ही कर रही थीं.

जानकारी के मुताबिक, इलाज के दौरान बस 2 दिन के लिए उन्हें वेंटिलेटर से हटाया गया था. फिर जैसे ही उनकी तबीयत बिगड़ने लगी फिर से लता को वेंटिलेटर सपोर्ट पर लाया गया था. शनिवार (5 फरवरी) को अचानक लता मंगेशकर की तबीयत काफी अधिक बिगड़ गई थी, जिसके बाद परिवार से जुड़े सभी सदस्य अस्पताल पहुंच गए थे.

Lata Mangeshkar Death News Updates: नहीं रहीं स्वर कोकिला लता मंगेशकर, राजकीय सम्मान के साथ दी जाएगी विदाई
 

 

लता मंगेशकर के निधन पर हर पीढ़ी में गम

लता मंगेशकर को चाहने वाले हर उम्र के लोग थे, चाहे वह पुरानी पीढ़ी हो या फिर आज की पीढ़ी. लता मंगेशकर के निधन के बाद सोशल मीडिया पर भी चाहने वालों द्वारा उन्हें श्रद्धांजलि दी जा रही है. बॉलीवुड के कई पुराने और नए सिंगर्स ने लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि दी है.  

Lata Mangeshkar का भाई-बहनों संग था गहरा नाता, तस्वीरों में देखें स्वरकोकिला का परिवार

5 साल की उम्र में शुरू किया सफर.. 7 दशक तक चला

लता मंगेशकर का म्यूजिक इंडस्ट्री में योगदान अतुलनीय था. जिसे कभी नहीं भुलाया जा सकता. 78 साल के करियर में लता मंगेशकर ने 30 हजार से ज्यादा गाने गाए. लता को कई सारे पुरस्कारों से नवाजा गया था. वे तीन बार नेशनल अवॉर्ड विनर रही थीं. इसके अलावा दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड और भारत रत्न से भी उन्हें नवाजा गया था.

आपको बता दें कि लता मंगेशकर ने 5 साल की उम्र में काम करना शुरू कर दिया था. जिस उम्र में बच्चे खेलते-पढ़ते हैं तब लता मंगेशकर ने घर की जिम्मेदारी संभाली थी. अपने भाई-बहनों के बेहतर भविष्य के लिए कभी शादी नहीं की थी. लता मंगेशकर चाहे ये दुनिया छोड़कर चली गई हैं. लेकिन अपने सदाबहार गानों की विरासत फैंस के लिए छोड़ गई हैं. लता दीदी के इन गानों ने उन्हें इस दुनिया में अमर कर दिया है.

इंदौर में हुआ था लता मंगेशकर का जन्म

लता मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर, 1929 को मध्य प्रदेश के इंदौर में हुआ था. दीनानाथ मंगेशकर, शेवन्ती मंगेशकर की बेटी लता की परवरिश महाराष्ट्र में ही हुई थी. लता मंगेशकर के परिवार का कला से नाता रहा, उनके पिता कलाकार थे. लता मंगेशकर खुद गायिका बनीं, उनके अलावा भाई हृदयनाथ मंगेशकर, बहन उषा मंगेशकर, मीना मंगेशकर और आशा भोंसले भी संगीत से जुड़ी रहीं.

Lata Mangeshkar Life story: प्रिंसेस ऑफ डूंगरपुर नहीं बन सकीं लता, मीठू के जीवन की सबसे अनकही कहानी

लता मंगेशकर ने अपने दौर के तमाम बड़े म्यूज़िक डायरेक्टर्स के साथ काम किया, अनिल बिस्वास, शंकर जय किशन, नौशाद, एसडी बर्मन समेत अन्य तमाम बड़े नामों के साथ लता मंगेशकर ने गाना गाया. लता मंगेशकर को भारत सरकार द्वारा 1969 में पद्म भूषण, 1999 में पद्म विभूषण और साल 2001 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें