scorecardresearch
 

'तुम सफेद चादर लपेटकर क्यों चली आती हो?’ जब Lata Mangeshkar के कपड़ों पर मारा गया ताना

एक बार लता, नौशाद साहब और दुर्रानी के गाने की रिकॉर्डिंग कर रहे थे. लेकिन दुर्रानी का बर्ताव शर्मीली और विनम्र लता के साथ ठीक नहीं था. उनकी ज़ुबान में कामयाबी का उग्र एहसास झलकता था. नौशाद साहब उस घटना के गवाह थे. उन्होंने बताया, ‘उस समय सिर्फ दो माइक होते थे. एक संगीतकारों के लिए, दूसरा गायकों के लिए. इस तरह वे दोनों (दुर्रानी और लता) आमने सामने खड़े थे. जैसे ही दुर्रानी की लाइन पूरी होती, वे कोई शरारत करने लगते.

X
लता मंगेशकर लता मंगेशकर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लता मंगेशकर का निधन हो गया है
  • लता को कपड़ों पर दिए जाते थे ताने

लता मंगेशकर भारत की स्वर कोकिला के नाम से जानी जाती हैं. 1940 से 2019 तक चले 7 दशक के अपने करियर में लता मंगेशकर ने 1000 से ज्यादा हिंदी फिल्मों में गाने गाए. ये गाने उन्होंने 36 से ज्यादा भारतीय और विदेशी भाषाओं में गाए थे. लेकिन म्यूजिक इंडस्ट्री में लता मंगेशकर का सफर हमेशा आसान नहीं रहा था. सिंगर का 92 साल की उम्र में निधन हो गया. अपने करियर की शुरुआत में उन्होंने काफी बुरे और अजीब व्यवहार को भी देखा था. जीएम दुर्रानी के साथ उनका एक किस्सा मशहूर है.

जब दुर्रानी ने किया लता के साथ खराब व्यवहार 

1940 के दशक में म्यूजिक की दुनिया में जीएम दुर्रानी का जलवा था. उस दौर में कोई नया म्यूजिक डायरेक्टर उनके पास पहुंचता तो दुर्रानी उससे कहते, ‘दुर्रानी का गाना चाहते हो तो अच्छी धुन बनाना सीख आओ.’

एक बार लता, नौशाद साहब और दुर्रानी गाने की रिकॉर्डिंग कर रहे थे. लेकिन दुर्रानी का बर्ताव शर्मीली और विनम्र लता के साथ ठीक नहीं था. उनकी ज़ुबान में कामयाबी का उग्र एहसास झलकता था. नौशाद साहब उस घटना के गवाह थे. उन्होंने बताया, ‘उस समय सिर्फ दो माइक होते थे. एक संगीतकारों के लिए, दूसरा गायकों के लिए. इस तरह वे दोनों (दुर्रानी और लता) आमने सामने खड़े थे. जैसे ही दुर्रानी की लाइन पूरी होती, वे कोई शरारत करने लगते. मैंने उनसे बाद में कहा कि वे चुपचाप खड़े रहें और अपने मसखरेपन से उस लड़की के काम में अड़चन न डालें. क्योंकि लड़की (लता) नई थी और इससे उसका कॉन्फिडेंस डगमगा सकता था.’

जब दिलीप कुमार ने खुद कोर्ट में लड़ा था लता मंगेशकर केस, बोले- बहन तुुम चिंता मत करो

लेकिन ‘नई लड़की’ दुर्रानी की हरकतों से घबराने की जगह नाराज हो रही थी. लता के साथ एक और रिकॉर्डिंग के दौरान दुर्रानी ने पुरानी हरकतें शुरू कर दीं. उन्होंने लता के सादे पहनावे का मजाक उड़ाते हुए लखनवी उर्दू में कहा, ‘लता, तुम रंगीन कपड़े क्यों नहीं पहनती? तुम कैसे इस तरह सफेद चादर लपेटकर चली आती हो?’

लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि दें

लता ने ये सोचा होगा कि उर्दू जबान की तहजीब से वाकिफ ये आदमी कैसे एक औरत से गैरवाजिब नजदीकी दिखाते हुए उसे ‘आप’ की जगह ‘तुम’ कह रहा है. लता ने कहा, ‘मैं सोचती थी कि ये आदमी मेरे पहनावे की जगह मेरे गायन पर ज्यादा ध्यान देगा. उसी पल मैंने फैसला किया कि मैं उस कलाकार के साथ फिर नहीं गाऊंगी.’

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें