scorecardresearch
 

एक समय था जब रवि किशन गांजा पिया करते थे, दुनिया जानती है: अनुराग कश्यप

एक पत्रकार के साथ यूट्यूब पर अपने इंटरव्यू में अनुराग कश्यप ने ये बात कही हैं. इस हफ्ते की शुरुआत में रवि किशन ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी को सुशांत के ड्रग्स मामले सराहा था. एनसीबी ने ड्रग्स मामले में एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती समेत कई लोगों को गिरफ्तार किया है. अपने इंटरव्यू में अनुराग कश्यप ने इस बारे में बात की.

रवि किशन और अनुराग कश्यप रवि किशन और अनुराग कश्यप

डायरेक्टर अनुराग कश्यप अपने बेबाक अंदाज के लिए जाने जाते हैं. अपने लेटेस्ट इंटरव्यू में उन्होंने बॉलीवुड में ड्रग्स के इस्तेमाल और सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड केस के बारे में बात की. इस मौके पर उन्होंने सांसद रवि किशन की ड्रग एब्यूज की प्रॉब्लम वाले बयान को लेकर आपत्ति जताई. उन्होंने बताया कि एक समय था जब रवि किशन खुद गांजा पिया करते थे. 

यूट्यूब पर अपने इंटरव्यू में अनुराग कश्यप ने ये बात कही हैं. इस हफ्ते की शुरुआत में रवि किशन ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी को सुशांत के ड्रग्स मामले सराहा था. एनसीबी ने ड्रग्स मामले में एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती समेत कई लोगों को गिरफ्तार किया है. रवि किशन ने अपने बयान में कहा था कि हमें पता है कि ड्रग ट्रैफिकिंग और एडिक्शन की दिक्कत बढ़ती जा रही है. इसमें हमारे पड़ोसी देश शामिल हैं. इस देश में पाकिस्तान और चीन से ड्रग्स आते हैं. सरकार को ये सब रोकना चाहिए जिससे हमारे युवाओं का जीवन खराब हो रहा है.

अनुराग कश्यप ने रवि किशन के बारे में कहा ये

पत्रकार फे डीसूजा के साथ इंटरव्यू में अनुराग कश्यप ने इस बारे में बात की. उन्होंने कहा, 'रवि किशन को मैं बहुत समय से जनता हूं. वो मेरे दोस्त हैं. उन्होंने मेरी फिल्म मुक्काबाज में काम भी किया था. रवि अपने दिन की शुरुआत जय शिव शंकर, जय बम भोले, शिव शिव शम्भू  कहकर करते हैं. एक समय ऐसा था जब वो भी गांजा पिया करते थे. यही जिंदगी है. इस बारे में सब जानते हैं. दुनिया जानती है. ऐसा कोई इंसान नहीं है जो ना जनता हो कि रवि किशन गांजा पिया करते थे. उन्होंने अब छोड़ दिया होगा क्योंकि अब वो एक मंत्री बन गए हैं. 

अनुराग ने आगे कहा, 'लेकिन क्या आप इस बात को ड्रग्स के इस्तेमाल में जोड़ेंगे? नहीं. मैं रवि को इसके लिए जज नहीं कर रहा हूं. क्योंकि मैंने कभी गांजे को ड्रग के तौर पर नहीं देखा. एब्यूज सही शब्द नहीं है. वो स्मोक करते थे. उन्होंने हमेशा से अपना काम सही किया है. वे कभी भी खराब नहीं थे, कभी काम में ढीले नहीं पड़े, कभी मॉन्सटर नहीं बने. उससे ऐसा कुछ नहीं जिसे लोगों से जोड़ा जाए. तो जब वे अपनी बात को सही ठहराते हुए इस बारे में बात करते हैं तो मुझे सही नहीं लगता.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें