scorecardresearch
 

अक्षय की लक्ष्मी बॉम्ब को बैन करने की मांग, लव जिहाद फैलाने का लग रहा आरोप

हिंदू जनजागृती समिती की तरफ से अक्षय की लक्ष्मी बॉम्ब को बैन करने की मांग की गई है. फिल्म पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगा है. बताया जा रहा है कि इस फिल्म के जरिए माता लक्ष्मी का अपमान किया जा रहा है और लव जिहाद को बढ़ावा दिया गया है.

लक्ष्मी बॉम्ब पोस्टर लक्ष्मी बॉम्ब पोस्टर

एक्टर अक्षय कुमार की फिल्म लक्ष्मी बॉम्ब को दर्शकों का जबरदस्त रिस्पॉन्स मिला है. फिल्म का ट्रेलर ट्रेंड कर गया है और सोशल मीडिया पर सिर्फ इसी के चर्चे होते दिख रहे हैं. लेकिन लक्ष्मी बॉम्ब को लेकर कई तरह के विवाद भी खड़े हो गए हैं. एक तरफ अगर फिल्म को पसंद किया जा रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ एक तबका ऐसा भी है जो फिल्म पर बैन लगाने की मांग कर रहा है.

लक्ष्मी बॉम्ब को लेकर बवाल

हिंदू जनजागृती समिती की तरफ से अक्षय की लक्ष्मी बॉम्ब को बैन करने की मांग की गई है. फिल्म पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगा है. बताया जा रहा है कि इस फिल्म के जरिए माता लक्ष्मी का अपमान किया जा रहा है और लव जिहाद को बढ़ावा दिया गया है. इस सिलसिले में हिंदू जनजागृती समिती के प्रवक्ता रमेश शिंदे ने एक बयान जारी किया है. उन्होंने एक तरफ अक्षय की फिल्म पर कई तरह के आरोप लगाए हैं, वहीं दूसरी तरफ महाराष्ट्र की सरकार पर भी निशाना साधा गया है.

धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप

बयान में कहा गया है- दिवाली पर रिलीज हो रही फिल्म का नाम जानबूझकर लक्ष्मी बॉम्ब रखा गया है. इसलिए हमारी पहली आपत्ति तो फिल्म के नाम को लेकर ही है. हम तो कई सालों से लोगों को लक्ष्मी फायर क्रैकर ना जलाने की अपील कर रहे हैं क्योंकि ये हिंदू देवी का अपमान है, लेकिन ये फिल्म तो लोगों को पटाखे जलाने के लिए प्रेरित करेगी. वहीं फिल्म में लव जिहाद का एंगल जोड़ते हुए शिंदे कहते हैं- फिल्म में हीरो का नाम आसिफ है, वहीं हीरोइन का नाम प्रिया यादव रखा गया है. मतलब साफ है, ये फिल्म लव जिहाद को बढ़ावा देती है. इसलिए लक्ष्मी बॉम्ब को तुरंत बैन कर देना चाहिए.

वहीं हिंदू जनजागृती समिती ने उद्धव सरकार पर भी तंज कसा है. फिल्म मुहम्मद द मैसेंजर ऑफ गॉड का जिक्र करते हुए लक्ष्मी बॉम्ब को भी बैन करने की मांग उठाई गई है. इस बारे में शिंदे ने कहा है- मुहम्मद द मैसेंजर ऑफ गॉड के लिए कहा गया था कि इस फिल्म ने मुस्लिम समुदाय की भावनाओं को ठेस पहुंचाई थी, इस वजह से महाराष्ट्र सरकार के गृह मंत्री  ने फिल्म को बैन करने की बात की थी. इसी तर्ज पर सरकार को लक्ष्मी बॉम्ब को भी बैन करने की मांग उठानी चाहिए. फिल्म हिंदू देवी-देवताओं का अपमान कर रही है.

लक्ष्मी बॉम्ब हिंदू विरोधी?

हिंदू जनजागृती समिती की तरफ से अक्षय कुमार के किन्नर किरदार को लेकर भी आपत्ति दिखाई गई है. उनके मुताबिक फिल्म में किन्रर को निगेटिव किरदार में दिखाया गया है. जानबूझकर फिल्म में उनके किरदार के लिए लाल कुमकुम, लाल साड़ी , खुले बाल रखे गए हैं. वहीं उन्हें हाथ में त्रिशूल लेकर डांस करवाया गया है.  इस पर शिंदे कहते हैं- क्या यहीं फिल्ममेकर जो अभी दिवाली पर ऐसी फिल्मे बना रहे हैं, क्या वे कभी ईद के मौके पर आयेशा बॉम्ब, फातिमा बॉम्ब, शबीना बॉम्ब जैसी फिल्में बनाने की हिम्मत दिखा पाएंगे. जैसे मुस्लिम समुदाय की भावनाओं का ध्यान रखा जाता है, वैसे ही हिंदू भावनाओं को क्यों नजरअंदाज किया जा रहा है. क्या इस देश में अब सेक्युलरिज्म का मतलब ही हिंदुओं के खिलाफ होना हो गया है.

देखें: आजतक LIVE TV

मालूम हो कि अक्षय की लक्ष्मी बॉम्ब 9 नवंबर को ओटीटी पर रिलीज होने जा रही है. फिल्म में अक्षय के लुक ने सभी को हैरान कर दिया है. ऐसे में फिल्म को लेकर बज तो बन गया है. लेकिन अभी इस समय तो फिल्म की रिलीज को लेकर ही विवाद खड़ा हो गया है. ऐसे में फिल्म रिलीज होती है या नहीं, ये अपने आप में बड़ा सवाल है.
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें