scorecardresearch
 

Haldwani Assembly Seat: 3 बार विधायक रहीं इंदिरा हृदयेश, इस बार क्या होगा? 

हल्द्वानी विधानसभा सीट से कांग्रेस की इंदिरा हृदयेश तीन बार विधायक रहीं. कांग्रेस ने इस बार इंदिरा हृदयेश के पुत्र सुमित हृदयेश को चुनाव मैदान में उतारा है.

X
उत्तराखंड Assembly Election 2022 हल्द्वानी विधानसभा सीट
उत्तराखंड Assembly Election 2022 हल्द्वानी विधानसभा सीट
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नैनीताल जिले की सीट है हल्द्वानी विधानसभा
  • कांग्रेस को 3 दफे मिली जीत, 1 बार खिला कमल

उत्तराखंड के नैनीताल जिले की एक विधानसभा सीट है हल्द्वानी विधानसभा सीट. हल्द्वानी को कुमाऊं का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है. हल्द्वानी, उत्तराखंड के सर्वाधिक जनसंख्या वाले नगरों में से है. हल्द्वानी को सूबे की आर्थिक राजधानी भी कहा जाता है. हल्द्वानी सूबे के कॉमर्शियल हब के रूप में भी अपनी पहचान रखता है.

राजनीतिक पृष्ठभूमि

हल्द्वानी विधानसभा सीट के लिए उत्तराखंड राज्य गठन के बाद अब तक चार विधानसभा चुनाव हो चुके हैं. हल्द्वानी सीट के चुनावी अतीत की बात करें तो ये कांग्रेस का गढ़ रही है. हल्द्वानी विधानसभा सीट से अब तक हुए चार में से तीन चुनावों में कांग्रेस के उम्मीदवार विजयी रहे हैं तो एक दफे भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को भी जीत मिली है.

हल्द्वानी विधानसभा सीट के लिए 2002 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के टिकट पर इंदिरा हृदयेश विजयी रही थीं. इंदिरा हृदयेश ने 23 हजार वोट से अधिक के अंतर से बीजेपी के बंशीधर भगत को हराया था. 2007 में हल्द्वानी सीट बीजेपी के खाते में आ गई. बीजेपी के बंशीधर भगत ने इंदिरा हृदयेश को 39 हजार वोट से अधिक के अंतर से हराया था. 2012 में कांग्रेस की इंदिरा हृदयेश फिर विधायक निर्वाचित हुईं.

2017 का जनादेश

हल्द्वानी विधानसभा सीट के 2017 के जनादेश की बात करें तो कांग्रेस ने अपनी निवर्तमान विधायक इंदिरा हृदयेश पर भरोसा बरकरार रखा. कांग्रेस की इंदिरा हृदयेश के सामने इस दफे बीजेपी ने उम्मीदवार बदला. बीजेपी ने 2017 में हल्द्वानी सीट से जोगेंद्र पाल सिंह रौतेला को मैदान में उतारा. कांग्रेस की इंदिरा ने बीजेपी के जोगेंद्र पाल सिंह रौतेला को 6557 वोट के अंतर से हरा दिया था.

सामाजिक ताना-बाना

हल्द्वानी विधानसभा क्षेत्र के सामाजिक समीकरणों की बात करें तो यहां हर जाति-वर्ग के लोग रहते हैं. हल्द्वानी विधानसभा क्षेत्र में शहरी इलाके हैं तो ग्रामीण भी. जातिगत समीकरणों की बात करें तो इस विधानसभा क्षेत्र में क्षत्रिय और ब्राह्मण मतदाताओं की बहुलता है. अन्य पिछड़ा वर्ग के मतदाता भी इस विधानसभा सीट का चुनाव परिणाम निर्धारित करने में निर्णायक भूमिका निभाते हैं.

विधायक का रिपोर्ट कार्ड

हल्द्वानी विधानसभा सीट से कांग्रेस की कद्दावर नेता इंदिरा हृदयेश विधायक थीं. हल्द्वानी सीट से तीन बार की विधायक इंदिरा हृदयेश विधानसभा में विपक्ष की नेता भी थीं. इंदिरा हृदयेश का पिछले साल जून में निधन हो गया था. इंदिरा हृदयेश की छवि इस इलाके में विकास परक नेत्री की है.

हल्द्वानी विधानसभा सीट से कांग्रेस ने इस दफे इंदिरा हृदयेश के पुत्र सुमित हृदयेश को उम्मीदवार बनाया है. सुमित हृदयेश के सामने इस दफे बीजेपी से जोगेंद्रपाल रौतेला की चुनौती होगी. बता दें कि उत्तराखंड विधानसभा की सभी सीटों पर एक ही चरण में 14 फरवरी को मतदान होना है. 

(रिपोर्ट- राहुल सिंह)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें