scorecardresearch
 

Devprayag Assembly Seat: हर चुनाव में बदला विधायक, बीजेपी के विनोद तोड़ पाएंगे ट्रेंड? 

देवप्रयाग विधानसभा सीट के मतदाताओं का मिजाज परिवर्तनशील रहा है. इस विधानसभा सीट से बीजेपी के विनोद कंडारी विधायक हैं. इस विधानसभा सीट के मतदाता हर चुनाव में विधायक बदलते रहे हैं.

X
उत्तराखंड Assembly Election 2022 देवप्रयाग विधानसभा सीट
उत्तराखंड Assembly Election 2022 देवप्रयाग विधानसभा सीट
स्टोरी हाइलाइट्स
  • टिहरी गढ़वाल जिले की सीट है देवप्रयाग विधानसभा
  • बीजेपी के विनोद कंडारी हैं देवप्रयाग सीट से विधायक

उत्तराखंड के टिहरी गढ़वाल जिले की एक विधानसभा सीट है देवप्रयाग विधानसभा सीट. टिहरी गढ़वाल जिले का देवप्रयाग एक कस्बा है. देवप्रयाग का आध्यात्मिक महत्व भी है. यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है. देवप्रयाग में ही अलकनंदा और भागीरथी नदियों का संगम स्थल है. देवप्रयाग से आगे भागीरथी और अलकनंदा नदी गंगा बनकर यहां से बहती हैं. देवप्रयाग तहसील मुख्यालय भी है.

राजनीतिक पृष्ठभूमि

देवप्रयाग विधानसभा क्षेत्र की राजनीतिक पृष्ठभूमि की बात करें तो इस विधानसभा सीट से उत्तराखंड राज्य गठन के बाद पहले चुनाव में कांग्रेस के मंत्री प्रसाद नैथानी जीते थे. 2007 के विधानसभा चुनाव में उत्तराखंड क्रांति दल (यूकेडी) के दिवाकर भट्ट, 2012 में मंत्री प्रसाद नैथानी निर्दलीय विधायक बने थे. मंत्री प्रसाद नैथानी ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के उम्मीदवार दिवाकर भट्ट को हराया था.

2017 का जनादेश

देवप्रयाग विधानसभा सीट से 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने विनोद कंडारी को विधानसभा के लिए टिकट दिया. बीजेपी के उम्मीदवार विनोद कंडारी ने निर्दलीय उम्मीदवार दिवाकर भट्ट को हराया. बीजेपी के विनोद कंडारी को 13824 और निर्दलीय उम्मीदवार दिवाकर भट्ट को 10325 वोट मिले थे. इस सीट से तीसरे नंबर पर कांग्रेस के उम्मीदवार मंत्री प्रसाद नैथानी रहे थे. निर्दलीय उम्मीदवार शूरवीर सिंह चौथे नंबर पर रहे थे.

सामाजिक ताना-बाना

देवप्रयाग विधानसभा सीट के सामाजिक समीकरणों की बात करें तो यहां ब्राह्मण मतदाताओं की तादाद अधिक है. तीर्थ स्थल होने के कारण यहां तीर्थ पुरोहित बड़ी तादाद में रहते हैं. देवप्रयाग विधानसभा सीट का चुनाव परिणाम निर्धारित करने में क्षत्रिय के साथ ही अन्य पिछड़ा वर्ग के मतदाता भी निर्णायक भूमिका निभाते हैं.

विधायक का रिपोर्ट कार्ड

देवप्रयाग विधानसभा सीट से विधायक बीजेपी के विनोद कंडारी का दावा है कि उनके कार्यकाल के दौरान इस इलाके में काफी विकास कार्य हुए हैं. वे कहते हैं कि हमने विधानसभा क्षेत्र में सड़कों का जाल बिछाने के साथ ही पेयजल, शिक्षा और स्वास्थ्य को लेकर काफी कार्य कराए हैं. विपक्षी नेता विधायक के दावे को हवा-हवाई बता रहे हैं.

देवप्रयाग विधानसभा सीट के लिए 14 फरवरी को मतदान होना है. देवप्रयाग विधानसभा सीट से बीजेपी ने इस दफे भी विनोद कंडारी को टिकट दिया है. बीजेपी के निवर्तमान विधायक विनोद कंडारी के खिलाफ कांग्रेस ने भी पुराने चेहरे मंत्री प्रसाद नैथानी को उम्मीदवार बनाया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें