scorecardresearch
 

मायावती को अपशब्द बोलने पर 6 साल के लिए निकाले गए थे दयाशंकर, 6 महीने में BJP में वापसी

पिछले साल दयाशंकर सिंह ने मायावती के खिलाफ विवादित बयान दिया था. बीजेपी ने किरकिरी से बचने के लिए उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया. इसके बाद बीएसपी नेताओं ने स्वाति सिंह के परिवार के खिलाफ जुबानी जंग छेड़ी तो स्वाति सिंह भी मैदान में उतर आईं.

दयाशंकर सिंह का निलंबन रद्द (सौजन्य: www.worldtvnews.co.in) दयाशंकर सिंह का निलंबन रद्द (सौजन्य: www.worldtvnews.co.in)

यूपी में बीजेपी को मिली जीत के बाद पार्टी के पूर्व उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह का सियासी वनवास खत्म हो गया है. बीजेपी की यूपी इकाई के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने सिंह का निलंबन वापस लेने का आदेश दिया है. उनकी पत्नी स्वाति सिंह लखनऊ की सरोजनी नगर सीट से चुनाव जीती हैं.

पत्नी की जीत ने बनाई वापसी की राह
स्वाति सिंह ने सरोजनी नगर सीट से मुलायम सिंह के भतीजे अनुराग यादव को 34,047 वोटों से पटखनी दी थी. जीत के बाद स्वाति सिंह ने विधानसभा में महिलाओं से जुड़े मुद्दे उठाने का वादा किया. हालांकि दयाशंकर सिंह के निष्कासन के सवाल को वो टाल गईं थीं. उनका कहना था कि इस बारे में आखिरी फैसला पार्टी के सीनियर नेता करेंगे.

सियासत में स्वाति का उदय
पिछले साल दयाशंकर सिंह ने मायावती के खिलाफ विवादित बयान दिया था. बीजेपी ने किरकिरी से बचने के लिए उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया. इसके बाद बीएसपी नेताओं ने स्वाति सिंह के परिवार के खिलाफ जुबानी जंग छेड़ी तो स्वाति सिंह भी मैदान में उतर आईं. उनके आक्रामक रुख के बाद बीजेपी ने पहले उन्हें राष्ट्रीय महिला मोर्चा का अध्यक्ष बनाया और बाद में सरोजनी नगर सीट से टिकट दिया.


आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें