scorecardresearch
 

साइकिल हथियाने के बाद तूफानी रफ्तार पकड़ेंगे अखिलेश, 19 हेलीकॉप्टर बुक

पिछले कुछ महीनों से लगातार छिड़े विवाद के चलते सपा का चुनावी अभियान काफी पीछे छूट चुका है. अखिलेश का विकास रथ हो या मुलायम की संदेश यात्रा सभी ठप्प पड़े हुए हैं.

अखिलेश अखिलेश

पारिवारिक विवाद में उलझी सपा प्रमुख विरोधी दल बीएसपी और बीजेपी से काफी पीछे चल रही है. बीएसपी की पूरी लिस्ट जारी हो चुकी है. उसके बूथ कार्यकर्ता पार्टी का प्रचार-प्रसार लंबे समय से कर रहे हैं. इसी तरह बीजेपी भी काफी मजबूत स्थिति में है. उसके पास प्रदेश के नेताओं की बड़ी फौज है. कई नेता हाल ही में दूसरे दलों से आए हैं, ऐसे में उन्हें चुनाव अभियान तेज गति से चलाने में आसानी होगी. सबसे पीछे नजर आ रही है सत्तारुढ़ समाजवादी पार्टी.

अभी तक न तो सपा की फाइनल लिस्ट जारी हुई है और न ही गठबंधन की स्थिति ही क्लियर हुई है. टिकट के लिए दौड़ में शामिल लोग संशय में हैं. ऐसे में पार्टी के लिए अगले कुछ घंटे बहुत ही अहम है. हालांकि सपा के लिए राहत की बात यह है कि पिछले लंबे समय से मीडिया वर्ल्ड के अलावा आम चर्चा में उन्ही की बातें हैं.

पीछे चल रही है अखिलेश की सपा
पिछले कुछ महीनों से लगातार छिड़े विवाद के चलते सपा का चुनावी अभियान काफी पीछे छूट चुका है. अखिलेश का विकास रथ हो या मुलायम की संदेश यात्रा सभी ठप्प पड़े हुए हैं.

अखिलेश समझ रहे हैं समय का महत्व
चुनाव आयोग का फैसला आने के बाद सबसे ज्यादा जोश में अखिलेश नजर आ रहे हैं. मंगलवार को अखिलेश पार्टी कार्यालय में बधाई लेने की जगह टिकट वितरण और गठबंधन पर फोकस करते नजर आए. मंगलवार से पहले चरण के लिए अधिसूचना जारी हो चुकी है. ऐसे में अखिलेश की पहली प्राथमिकता लिस्ट और गठबंधन को अंतिम रूप देना है. इसके बाद वे पार्टी के घोषणापत्र को तरजीह दे रहे हैं.

घोषणापत्र से साधेंगे निशाना
अखिलेश जल्द से जल्द अपना घोषणापत्र सामने लाने की कोशिश में लगे हुए हैं. उम्मीद की जा रही है कि घोषणापत्र में समाजवादी लैपटॉप के अलावा, समाजवादी पेंशन, समाजवादी स्मार्टफोन, और समाजवादी एंबुलेंस जैसे कुछ लोक-लुभावनी बातें होंगी जिनके चलते अखिलेश महिला, युवा और ग्रामीणों को लुभाने की कोशिश करेंगे.

अखिलेश की क्या है तैयारी
माना जा रहा है कि अखिलेश यादव 19 जनवरी को आगरा से अपने चुनावी अभियान की शुरुआत कर सकते हैं. पहले चरण को ध्यान में रखते हुए अखिलेश पहले आगरा में चुनावी रैली को संबोधित करेंगे उसके बाद अलीगढ़ में जनता से रू-ब-रू होंगे. प्रचार अभियान में पीछे चल रही सपा को आगे करने की अखिलेश हर संभव कोशिश करेंगे. वरिष्ठ सपा नेता के मुताबिक अखिलेश का चुनावी दौरा तैयार हो चुका है. वे एक दिन मे कम से कम दो रैली संबोधित करेंगे. इसके अलावा डिंपल भी सपा के प्रचार अभियान पर नजर रखेंगी.

तूफानी रफ्तार से होगा प्रचार
सपा के एक प्रवक्ता के मुताबिक, अखिलेश यादव ने अपने करीबी पचास नेताओं की एक कोर टीम बनाई है. इसमें तमाम एमएलसी और यूथ विंग के नेता हैं. यही टीम अखिलेश यादव के लिए चुनाव प्रचार से लेकर बूथ मैनेजमेंट तक का काम देखेगी. जब एक चरण का चुनाव ख़त्म हो जाएगा तो दूसरे चरण में ये टीम जुट जाएगी. अखिलेश तूफानी रफ्तार से चुनावी प्रचार की तैयारी कर चुके हैं इसके लिए 19 हेलीकॉप्टर किराये पर लिए गए हैं.

ये होंगे स्टार प्रचारक
अभी समाजवादी पार्टी के स्टार प्रचारक पाइनल नहीं हुए हैं. लेकिन उम्मीद की जा रही है कि डिंपल यादव, अखिलेश यादव, मुलायम सिंह यादव, रामगोपाल यादव के अलावा लालू प्रसाद यादव और ममता बनर्जी भी अखिलेश के पक्ष में कैंपेनिंग कर सकती हैं. कांग्रेस और रालोद के साथ गठबंधन के बाद 'समाजवादी फौज' भी बड़ी हो जाएगी. राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, अजीत सिंह और जयंत चौधरी जैसे बड़े चेहरे मंच शेयर कर सकते हैं.

सोशल मीडिया पर एक्टिव
अखिलेश के साथ-साथ सपा पूरी तरह से सोशल मीडिया पर एक्टिव हो गई है. चुनाव आयोग के फैसले के बाद अखिलेश गेट्स साइकिल ट्रेंड कर रहा था. अखिलेश के ट्विटर हैंडल से कई ट्वीट भी हुए. सोशल मीडिया पर अखिलेश सेना के साथ-साथ अखिलेश के समर्थन में कई ग्रुप एक्टिव हैं जो अखिलेश की छवि को चमकाने की कोशिश में लगे हुए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें