scorecardresearch
 

अखिलेश यादव के मिशन-2022 को ऐसे जमीन पर उतार रहे हैं सपा के फ्रंटल संगठन

समाजवादी पार्टी (सपा) के सभी फ्रंटल संगठन पूरे प्रदेश में अलग-अलग अभियान चलाकर पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश में लग गए हैं. जनादेश यात्रा, खेत खलिहान बचाओ यात्रा, प्रबुद्ध सम्मेलन, महिला सम्मेलन, व्यापारी-शिक्षक-अधिवक्ता सभा की मीटिंग के साथ ही 'हर बूथ पर यूथ' अभियान की शुरुआत हुई है.

अखिलेश यादव (फाइल फोटो) अखिलेश यादव (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 22 सितंबर तक चलेगा 'हर बूथ पर यूथ' अभियान
  • खेत-खलिहान, जनादेश समेत कई यात्राएं निकाल रही है सपा

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव को महज चार महीने बचे हैं और सभी राजनीतिक पार्टियां मैदान में उतर चुकी हैं. सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अलग-अलग अभियानों और सम्मेलनों के जरिए दोबारा फिर से सत्ता में वापसी की कोशिश में लग गई है, जबकि समाजवादी पार्टी (सपा) भी 'अखिलेश आ रहे हैं' के नारे के साथ सरकार बनाने की कवायद में जुट गई है.

समाजवादी पार्टी (सपा) के सभी फ्रंटल संगठन पूरे प्रदेश में अलग-अलग अभियान चलाकर पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश में लग गए हैं. सपा ने जनादेश यात्रा, खेत खलिहान बचाओ यात्रा, प्रबुद्ध सम्मेलन, महिला सम्मेलन, व्यापारी-शिक्षक-अधिवक्ता सभा की मीटिंग के साथ ही 'हर बूथ पर यूथ' अभियान की शुरुआत की है.

क्या है 'हर बूथ पर यूथ' अभियान

सपा के फ्रंटल संगठन मुलायम सिंह यूथ बिग्रेड की ओर से पूरे प्रदेश में 7 सितंबर से 'हर बूथ पर यूथ' अभियान की शुरुआत की गई है. इस अभियान का मकसद बूथ स्तर पर पार्टी को मजबूत करना और जिन लोगों का नाम वोटर लिस्ट से कट गया या गलत है, उसको दुरुस्त कराना है. पूरे प्रदेश में यह अभियान 22 सितंबर तक चलेगा.

aajtak.in से बात करते हुए मुलायम सिंह यूथ बिग्रेड के प्रदेश अध्यक्ष अनीस राजा ने आरोप लगाया कि बीजेपी के लोग जानबूझकर समाजवादी विचारधारा से जुड़े लोगों का वोट कटवा दे रहे हैं या फिर एक परिवार के दो वोटों को दूसरे बूथ पर और दो वोटों को दूसरे बूथ पर करा दे रहे हैं.

हर बूथ पर यूथ अभियान की हुई शुरुआत

मुलायम सिंह यूथ बिग्रेड के प्रदेश अध्यक्ष अनीस राजा का आरोप है कि अकेले लखनऊ में हर बूथ पर करीब 300 समाजवादी विचारधारा के लोगों का वोट कटवा दिया गया और उन्हें दूसरे बूथ पर ट्रांसफर किया गया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी की इसी साजिश को नाकाम करने के लिए हम 'हर बूथ पर यूथ' अभियान चला रहे हैं.

aajtak.in से बात करते हुए मुलायम सिंह यूथ बिग्रेड के प्रदेश अध्यक्ष अनीस राजा ने कहा कि मेरी एक टीम पूरे प्रदेश के बूथों पर मौजूद हमारे कार्यकर्ताओं की मॉनीटरिंग कर रही है, हमारे कार्यकर्ता उन सभी लोगों का नाम फिर से वोटर लिस्ट में जुड़वाएंगे, जिनका बीजेपी के लोगों ने कटवा दिया है.

खेत खलिहान बचाओ यात्रा

'हर बूथ पर यूथ' अभियान के साथ ही इन दिनों सपा की ओर से कई यात्राएं भी निकाली जा रही हैं. सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल की अगुवाई में पूरे प्रदेश में 'खेत खलिहान बचाओ यात्रा' निकाली जा रही है. सीतापुर से शुरू हुई यह यात्रा सात चरणों में पूरे प्रदेश में जाएगी. इस यात्रा के जरिए किसानों को जोड़ा जाएगा. 

नरेश उत्तम पटेल उन्हीं क्षेत्रों में जा रहे हैं जो कुर्मी बाहुल्य क्षेत्र हैं. इस यात्रा के जरिए सपा की कोशिश कुर्मी वोटरों में अपनी पकड़ को मजबूत करने के साथ ही एक माहौल बनाने की है. नरेश उत्तम पटेल की यात्रा 28 अगस्त से शुरू हुई है, जो प्रदेश के हर जिले में जा रही है, खासतौर पर कुर्मी बाहुल्य सीटों पर.

इंद्रजीत सरोज निकाल रहे हैं जनादेश यात्रा

इसके अलावा सपा के महासचिव इंद्रजीत सरोज भी इन दिनों 'जनादेश यात्रा' निकाल रहे हैं. 2 सितंबर को पीलीभीत से शुरू हुई यह यात्रा पूरे प्रदेश में निकाली जा रही है. इस यात्रा के दौरान कई जगह चौपाल आयोजित किए जा रहे हैं, जिसमें दलितों पर बीजेपी सरकार के कथित अत्याचार को बताने की कोशिश की जा रही है.

एक जमाने में मायावती के सबसे करीबी नेताओं में शुमार इंद्रजीत सरोज अब सपा के लिए दलितों वोटों की गोलबंदी करने की कोशिश कर रहे हैं. अनुसूचित जाति से आने वाले इंद्रजीत सरोज की जनादेश यात्रा उन सीटों से होकर गुजरेगी, जहां पर दलित अच्छी खासी आबादी में हैं.

बसपा-भाजपा की तरह सपा का प्रबुद्ध सम्मेलन

सपा की ओर से पूरे प्रदेश में प्रबुद्ध सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है. माता प्रसाद पांडेय, संतोष पांडेय, पवन पांडेय, मनोज पांडेय और अभिषेक मिश्र की अगुवाई में हो रहे इस सम्मेलन के जरिए सपा की कोशिश ब्राह्मण वोटरों को अपने पाले में लाने की है. हर सम्मेलन में ब्राह्मण पर हो रहे कथित अत्याचार की लंबी चौड़ी लिस्ट गिनाई जाती है.

शिक्षक और व्यापारी सभा भी एक्टिव

भाजपा को सपा हर मोर्चे पर घेरना चाहती है. यही कारण है कि शिक्षामित्रों और प्राइमरी टीचरों का मुद्दा भी सपा उठा रही है. हाल में ही भदोही में अखिलेश यादव की एक बड़ी रैली हुई थी, जिसे शिक्षक सभा ने ही आयोजित किया था. इसके साथ ही सपा व्यापारी सभा की हर मंडल में मीटिंग की शुरुआत हो चुकी है. 

अयोध्या से महिला सभा के सम्मेलनों का आगाज

इसके साथ ही सपा महिला सभा ने भी सम्मेलनों का आगाज कर दिया है. सपा ने 7 सितंबर को अयोध्या से इसकी शुरुआत की. महिला सभा की राष्ट्रीय अध्यक्ष जूही सिंह लगातार हर जिले का दौरा कर रही हैं. महिला सम्मेलनों के जरिए सपा की कोशिश महंगाई और क्राइम के मसले को उठाने की है.

सभी फ्रंटल संगठनों को मिली जिम्मेदारी

सपा के फ्रंटल संगठनों समाजवादी युवजन सभा, लोहिया वाहिनी, छात्र सभा, सांस्कृतिक प्रकोष्ठ, अल्पसंख्यक सभा, अनुसूचित जाति-जनजाति प्रकोष्ठ के बड़े नेता यात्राएं निकाल रहे हैं. इनका मकसद सभी जिलों में नौजवानों को पार्टी से जोड़ना और बेरोजगारी-महंगाई समेत कई मुद्दों के जरिए बीजेपी सरकार को घेरना है.

फ्रंटल संगठन के अलग-अलग नेता 8 दिन- 8 दिन की यात्राएं निकाल रहे हैं. इन 8 दिनों में वह गांवों-गांवों में चौपाल कर रहे हैं. इसके साथ ही अपने फ्रंटल संगठन के कार्यकारिणी को मजबूत करने की कोशिश भी कर रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×