scorecardresearch
 

UP में बीजेपी की नई 'कॉर्टून स्ट्रेटेजी', चुटीले अंदाज में होगा सपा-बसपा-कांग्रेस पर वार

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी का सोशल मीडिया कैम्पेन भी आक्रामक हो गया है, लेकिन इस बार बीजेपी ने अपने सोशल मीडिया कैम्पेन में नए प्रयोग किए हैं. इस बार कॉर्टून के जरिए विरोधियों पर हमला बोला जा रहा है.

UP बीजेपी की ओर से शेयर किया गया कॉर्टून UP बीजेपी की ओर से शेयर किया गया कॉर्टून
स्टोरी हाइलाइट्स
  • विपक्ष पर कॉर्टून के जरिए होगा वार
  • BJP बना रही है सोशल मीडिया को और धारदार

विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने सियासी विरोधियों पर हमले तेज कर दिए हैं. बीजेपी का सोशल मीडिया कैम्पेन भी आक्रामक हो गया है, लेकिन इस बार बीजेपी ने अपने सोशल मीडिया कैम्पेन में नए प्रयोग किए हैं. इस बार कॉर्टून के जरिए विरोधियों पर हमला बोला जा रहा है.

तीखे शब्दों की जगह कुछ चुटीले कार्टून लोगों का ध्यान खींच रहे हैं. किसी कॉर्टून में सीएम योगी आदित्यनाथ को अपराधियों, माफियाओं पर सख़्त होते, उनको सजा देते दिखाया गया है तो किसी कॉर्टून में यूपी को आगे ले जाने लिए सीएम योगी को अपने कंधे पर योजनाओं की ज़िम्मेदारी उठाते भी दिखाया गया है.

हर हफ्ते दो-तीन कॉर्टून किए जा रहे हैं जारी
 
कॉर्टून की एक पूरी शृंखला है, जिसे बीजेपी अपने ऑफ़िशियल हैंडल से लगातार ट्वीट कर रही है. सप्ताह में दो-तीन कॉर्टून ट्वीट हो रहे हैं. ये कार्टून न सिर्फ़ बीजेपी के कार्यकर्ताओं का ध्यान खींच रहे बल्कि इसकी आक्रामक शैली की वजह से इनको लेकर चर्चा हो रही है. 

बीजेपी की सोशल मीडिया की रणनीति 2017 के विधानसभा चुनाव और 2014-2019 के लोकसभा चुनाव में कारगर साबित हुई है. इसलिए इसमें अलग-अलग प्रयोग किए जा रहे हैं. मिशन 2022 को देखते हुए इसके लिए यूपी में सोशल मीडिया के अभियानों और उससे की जाने वाली बातों को और धारदार बनाया गया है.

एनिमेशन का भी होगा इस्तेमाल

यूपी बीजेपी के सोशल मीडिया प्रमुख अंकित चंदेल कहते हैं, 'इनसे युवा ख़ास तौर पर जुड़ता है. देखा गया है कि ट्विटर पर सीधे तौर पर बात कहने से जितने लोग ट्वीट देखते हैं उससे ज़्यादा इमप्रेशन इसमें आते हैं.' बीजेपी की रणनीति ये है कि आने वाले समय में इसे बढ़ाया जाए. साथ ही एनिमेशन का भी ज़्यादा से ज़्यादा प्रयोग किया जाए. 

ख़ास बात ये है कि कार्टून बनाने और इस तरह के क्रिएटिव प्रयोग करने के लिए बीजेपी ने किसी एजेंसी का सहारा नहीं लिया है और खुद ही लोगों को टीम से जोड़ा है. पार्टी ने सोशल मीडिया के 10 हज़ार पदाधिकारी भी नियुक्त किए हैं, जिनके सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म से ये कॉर्टून लगातार प्रचारित किए जा रहे हैं.

कॉर्टून में योगी हिट तो अखिलेश नाकाम

यूपी बीजेपी प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी का कहना है कि कॉर्टून अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है और हम लोग कॉर्टून और एनीमेशन का प्रयोग कर सपा-बसपा के कारनामे लोगों को याद दिला रहे हैं.' इन सभी कार्टूनों की एक ख़ास बात ये है कि सीएम योगी की लोकप्रियता को तो दिखाया ही गया है पर अखिलेश यादव को भी नाकाम होते हुए दिखाया गया है. 

बीजेपी ने सोशल मीडिया की टीम को मज़बूत करते हुए प्रदेश टीम गठन के बाद क्षेत्र, ज़िला, विधानसभा और मंडल स्तर तक सोशल मीडिया के संयोजक और सह संयोजक घोषित कर दिए हैं. 6अगस्त को लखनऊ में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और आईटी विभाग के राष्ट्रीय संयोजक अमित मालवीय की मौजूदगी में सोशल मीडिया को लेकर मंत्र भी दिए जाएंगे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×