scorecardresearch
 

Shahjahanpur Assembly Seat: बीजेपी के सुरेश खन्ना लगा पाएंगे जीत का 'नहला'?

शाहजहांपुर विधानसभा सीट से सुरेश कुमार खन्ना साल 1989 में पहली बार चुनाव मैदान में उतरे थे और जीते थे. तब से अब तक, सुरेश कुमार खन्ना लगातार आठ बार विधानसभा चुनाव जीत चुके हैं.

X
यूपी Assembly Election 2022 शाहजहांपुर विधानसभा सीट यूपी Assembly Election 2022 शाहजहांपुर विधानसभा सीट
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बीजेपी के सुरेश खन्ना हैं शाहजहांपुर से विधायक
  • साल 1989 से चला आ रहा खन्ना का विजय रथ

शाहजहांपुर जिले की पहचान स्वतंत्रता संग्राम के दौरान काकोरी कांड के अमर शहीद पंडित राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाक उल्ला खान और ठाकुर रोशन सिंह की जन्म स्थली और कर्म स्थली के रूप में है. हनुमत धाम भी गर्रा और खनौत नदी के बीच बसे शाहजहांपुर की नई पहचान बन चुका है. यहां उत्तर भारत की सबसे विशाल हनुमानजी की मूर्ति है.

राजनीतिक पृष्ठभूमि

शाहजहांपुर विधानसभा सीट भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का मजबूत गढ़ है. यहां से उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार के कैबिनेट मंत्री सुरेश कुमार खन्ना लगातार आठ बार से विधायक हैं. सुरेश कुमार खन्ना यहां से 1989 में पहली बार विधानसभा सदस्य के लिए निर्वाचित हुए थे. साल 1991 में सुरेश कु्मार खन्ना दूसरी बार निर्वाचित हुए और कल्याण सिंह के मंत्रिमंडल में नगर विकास विभाग के राज्यमंत्री बनाए गए. साल 1989 में शुरू हुआ सुरेश कुमार खन्ना की जीत का सिलसिला 1993, 1996, 2002, 2007, 2012 और 2017 के चुनाव में भी जारी रहा.

हनुमत धाम
हनुमत धाम

लगातार आठ बार के विधायक सुरेश खन्ना पहली बार 1991 में राज्यमंत्री बने तो इसके बाद 1997 में कल्याण सिंह के मंत्रिमंडल में भी राज्यमंत्री रहे. रामप्रकाश और राजनाथ सिंह के मंत्रिमंडल में भी सुरेश खन्ना को राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार, 2003 में मायावती के नेतृत्व वाली सरकार में भी राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार रहे. 2004 से 2007 तक सुरेश कुमार खन्ना बीजेपी विधानमंडल दल के सचेतक पद पर रहे. 2012 में विधानसभा के सभापति सरकारी आश्वासन सम्बद्ध समिति में रहे. साल 2014 में बीजेपी के विधानमंडल दल के नेता चुने गए.

2017 का जनादेश

शाहजहांपुर विधानसभा सीट से 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के टिकट पर सात बार के विधायक सुरेश कुमार खन्ना मैदान में थे. सुरेश कुमार खन्ना के सामने समाजवादी पार्टी (सपा) के तनवीर खान को चुनाव मैदान में उतारा था. सपा के तनवीर खान सुरेश कुमार खन्ना का 1989 से चला आ रहा विजय रथ रोकने में विफल रहे थे. सुरेश कुमार खन्ना ने तनवीर खान को 19203 वोट से हराकर लगातार आठवीं बार विधायक निर्वाचित हुए थे.

सामाजिक ताना बाना

शाहजहांपुर विधानसभा सीट पर हर जाति-वर्ग के वोटर अच्छी तादाद में हैं. इस सीट पर मुस्लिम मतदाता भी प्रभावशाली स्थिति में हैं. 135 शाहजहांपुर विधानसभा क्षेत्र में कुल चार लाख के करीब वोटर हैं. विकास का मुद्दा यहां ध्रुवीकरण के खेल में कहीं गुम सा हो जाता है. शाहजहांपुर में वोटिंग में जाति का फैक्टर काम नहीं करता. ऐसा हम नहीं, शाहजहांपुर का चुनावी अतीत कह रहा है. शाहजहांपुर विधानसभा सीट से चुनाव में जाति का कार्ड चलता तो शायद पिछले चुनावों के परिणाम अलग होते.

विधायक का रिपोर्ट कार्ड

शाहजहांपुर विधानसभा सीट से विधायक सुरेश कुमार खन्ना क्षेत्र में विकास का दावा करते हैं. वे अपनी उपलब्धियों में 110 करोड़ रुपये की लागत से बने रिंग रोड, पुल-पुलिया का निर्माण, शहर की लाइटिंग व्यवस्था में सुधार और टिकरी में पीएचसी गिनाते हैं. वहीं, पिछले चुनाव में दूसरे स्थान पर रहे तनवीर खान सुरेश कुमार खन्ना के दावे को सिरे से खारिज करते हैं. तनवीर का दावा है कि सूबे में सपा की सरकार रहते समय 17 पुल पास हुए थे. लाइट की व्यवस्था भी सपा सरकार की देन है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें