scorecardresearch
 

पंचायत आजतक 2021: केंद्र में राहुल, यूपी में अखिलेश होते तो कोरोना काल में मटियामेट हो जाताः केशव मौर्य

Panchayat Aaj Tak Uttar Pradesh 2021: उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) को लेकर राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है. उससे पहले यूपी चुनाव को लेकर आजतक एक बड़ी 'चुनावी महाबैठक' हुई. इसमें प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने शिरकत की है.

X
पंचायत आज तक उत्तर प्रदेश 2021: केशव प्रसाद मौर्य पंचायत आज तक उत्तर प्रदेश 2021: केशव प्रसाद मौर्य
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'पंचायत आजतक' में केशव मौर्य ने की शिरकत
  • कोरोना, किसानों के मुद्दे पर विपक्ष को घेरा

Panchayat Aaj Tak Uttar Pradesh 2021: उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) को लेकर राजनीतिक दलों ने कमर कस ली है. उससे पहले यूपी चुनाव को लेकर आजतक की एक बड़ी 'चुनावी महाबैठक' हुई. इसमें प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने शिरकत की है.

पंचायत आजतक के 'कौन बनेगा मुख्यमंत्री' सेशन में केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मुख्यमंत्री के लिए सीएम योगी का ही नाम सबसे बड़ा है और बीजेपी के सीएम चेहरा वही होंगे. उन्होंने कहा कि हम 2104 जीते, 2019 जीते, 2022 और 2024 भी जीतेंगे. 

कोरोना पर केशव मौर्य ने कहा कि जितना अच्छा हो सकता है वो उत्तर प्रदेश सरकार ने किया है, जो कमी रही वो स्वीकर करते हैं, लेकिन सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया. केंद्र में राहुल होते या अखिलेश होते तो मटियामेट कर देते.

गंगा में बहती लाशों पर मौर्य बोले कि प्रयागराज का निवासी हूं. गंगा के किनारे जिन लाशों को दफनाने की बात कही जा रही है. वह आज से नहीं हो रहा, वह परंपरागत है. जब से गंगा का प्रवाह कम हुआ है वहां ऐसा होता है. कड़वाधाम, फापामुक्त में ऐसा होता है, जब बाढ़ आती है तो वह बहकर जाते हैं.

टिकैत विपक्ष के शिकार हैं: मौर्य

किसानों के मुद्दे पर केशव मौर्य ने कहा कि राकेश टिकैत लखनऊ आएंगे, मुझे लगता है वो विपक्षी दलों की साजिश का शिकार हैं. किसान-बीजेपी एक दूसरे के पूरक हैं. किसानों के लिए कांग्रेस, सपा, बपसा ने कुछ नहीं किया.

डिप्टी सीएम ने कहा कि तीन आंदोलन की तरफ ध्यान दीजिए. किसान आंदोलन, सीएए के नाम से शाहीन बाग, एनआरसी. इन आंदोलन का कोई मतलब नहीं था. बस कुछ ऐसा कर दो कि बीजेपी को बदनाम कर दो. सुप्रीम कोर्ट ने भी इस विवाद को रोक दिया है. यूपी के किसान कानून से संतुष्ट है.

पंचायत आज तक Live: डिप्‍टी सीएम दिनेश शर्मा के साथ 'फिर खिलेगा कमल' कार्यक्रम शुरू

ब्राह्मण की नाराजगी के मुद्दे पर केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि ब्राह्मण बीजेपी से नाराज हैं, ऐसा कहा जा रहा है, लेकिन हम जितिन प्रसाद जैसे दिग्गज को जोड़ रहे हैं. आप देखिए 2007 में जब बीएसपी की सरकार बनी तब भी ऐसी राजनीति की गई लेकिन अगले चुनाव में बीएसपी का सफाया हो गया. 
 
उन्होंने कहा कि अखिलेश को पहले याद नहीं आई. अब 25 साल तक उनके आने की उम्मीद नहीं है. बीजेपी सबका साथ, सबका विकास की बात करती हैं. बीजेपी ब्राह्मणों को नाराज कर रही? ऐसा बिलकुल नहीं है. चुनावी नतीजे आने पर पता चल जाएगा. सब बीजेपी के साथ हैं. ईमानदारी से सेवा की है. गुंडागर्दी खत्म की है. महिलाओं को बीजेपी ने ज्यादा प्रतिनिधित्व दिया है. सेवा हमारी प्राथमिकता है. 

राहुल दिखावा नहीं कर रहे होते तो जनेऊ नहीं दिखाते

अयोध्या राम मंदिर पर केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मैं राम जन्म भूमि का सिपाही हूं. रामलला का मंदिर कोर्ट के फैसले के बाद बन रहा है. यह मोदी है तो मुमकिन है. हमने तारीख बता दिया. अब विपक्षी चलें कारसेवा करने, जो राम लला हम आएंगे, तारीख नहीं बताएंगे वाला तंज कसते थे. बीजेपी की सरकार बनने से पहले राहुल को कभी जनेऊ दिखाते नहीं देखा. अब विपक्षी नेताओं को हरिद्वार, गंगा में डुबकी लगानी पड़ रही है.

विपक्ष अगर कहता है कि हम भी हिंदू हैं तो यह हमारी जीत है. इससे पहले वह मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति करता रहा है. अगर राहुल दिखावा नहीं कर रहे होते तो जनेऊ नहीं दिखाते.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें