scorecardresearch
 

UP Election में अकेले उतरेगी चंद्रशेखर की पार्टी, बोले - सपा ने छल किया

Chadrashekhar press conference Today: भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद की आजाद समाज पार्टी उत्तर प्रदेश में अकेले चुनाव लड़ेगी. कांग्रेस से गठबंधन के रास्ते अभी खुले हैं, इसकी जानकारी चंद्रशेखर ने ही प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी.

X
भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • चंद्रशेखर बोले - गोरखपुर से लड़ने को भी तैयार
  • चंद्रशेखर ने सपा पर हमला बोला, बताया BSP से भी गठबंधन की कोशिश की थी

Chadrashekhar press conference: चंद्रशेखर आजाद की भीम आर्मी उत्तर प्रदेश में अकेले चुनाव लड़ेगी. सपा से झटका मिलने के बाद चंद्रशेखर ने यह फैसला लिया है, जिसका उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऐलान किया. कांग्रेस से गठबंधन के सवाल पर चंद्रशेखर ने कहा कि शाम तक वह चौंकाने वाली खबर सुना सकते हैं. चंद्रशेखर ने भारतीय समाज पार्टी के उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की. साथ ही यह भी कहा कि अगर पार्टी ने तय किया तो वह गोरखपुर से (सीएम योगी के खिलाफ) चुनाव लड़ेंगे.

चंद्रशेखर आजाद ने अखिलेश यादव पर भी आरोप लगाए. कहा गया कि उनको पहले 25 सीट का वादा किया गया था. चंद्रशेखर बोले कि उन्हें विधायक और मंत्री पद का ऑफर मिला था, जिसे उन्होंने नकार दिया.

भीम आर्मी के मुखिया बोले कि अगर सपा उनको 100 सीट भी देगी तो भी वह अब उनके साथ नहीं जाएंगे. चंद्रशेखर ने कहा कि वह बीजेपी को रोकने के लिए चुनाव के बाद भी पार्टियों की मदद करेंगे. बताया गया कि आजाद समाज पार्टी ने मायावती से भी गठबंधन की कोशिश की थी. लेकिन उधर से कोई जवाब नहीं आया.

चंद्रशेखर ने करीब 33-34 सीटों के नाम बताए जिसमें मथियाबाद, बलिया, मुबारकपुर, हस्तिनापुर, जलेसर, खुरजा, मेरठ केंट, जयसिंहपुर आदि से शामिल थीं. उन्होंने कहा कि यह वह सूची है जिनपर पहले हमें लड़ाने की बात हुई, लेकिन बाद में छल हुआ.

आज तक से खास बातचीत में चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि संभव है कि शाम तक गठबंधन पर कांग्रेस से बातचीत हो जाए और उसके बाद कुछ बड़ा एलान किया जा सकता.

अखिलेश संग फेल हुई थी बात

यूपी चुनाव के लिए चंद्रशेखर सपा प्रमुख अखिलेश यादव से दो बार मिले थे. दोनों के बीच गठबंधन पर बात हुई थी. लेकिन बाद में बात नहीं बनी. चंद्रशेखर ने आरोप लगाया था कि अखिलेश को दलित वोट चाहिए लेकिन दलित नेता नहीं चाहिए. वहीं अखिलेश ने कहा था कि गठबंधन में भीम आर्मी को दो सीटें दी जा रही थीं, इसपर चंद्रेशेखर राजी भी हो गए थे, लेकिन फिर उनके (चंद्रशेखर) पास किसी किसी का फोन आया, जिसके बाद वह पलट गए. अखिलेश ने इसे साजिश बताया था.

अखिलेश बनाम चंद्रशेखर के बीच अखिलेश के सहयोगी सुभासपा अध्यक्ष ओपी राजभर का बयान भी आया था. उन्होंने कहा था कि वह चंद्रशेखर को कहीं नहीं जाने देंगे और सीट बंटवारे पर अखिलेश से बात करेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि जरूरत पड़ी तो वह चंद्रशेखर को अपने कोटे से सीट देंगे.

बता दें कि यूपी चुनाव के लिए सपा ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, जनवादी पार्टी (सोशलिस्ट),राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी),अपना दल (कमेरावादी), प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया), महान दल, टीएमसी से गठबंधन किया हुआ है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें