scorecardresearch
 

क्या कांग्रेस में हैं प्रमोद कृष्णम? जानें क्या बोले शिवपाल के रथ पर सवार आचार्य

शिवपाल सिंह यादव के साथ रथयात्रा के दौरान कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णन भी नजर आए. शिवपाल के साथ रथ में सवार आचार्य प्रमोद कृष्णन कांग्रेस में हैं भी या पार्टी छोड़ दी, ये चर्चा भी तेज हो गई है.

शिवपाल के रथ पर आचार्य प्रमोद कृष्णम शिवपाल के रथ पर आचार्य प्रमोद कृष्णम
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आचार्य कृष्णम बोले- प्रगतिशील समाजवादी पार्टी में नहीं हुआ शामिल
  • शिवपाल की धर्म यात्रा से होगा अधर्म की सरकार का पतन- आचार्य

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव मंगलवार को मथुरा से सामाजिक परिवर्तन रथयात्रा पर निकल गए. शिवपाल सिंह यादव के साथ रथयात्रा के दौरान कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम भी नजर आए. शिवपाल के साथ रथ में सवार आचार्य प्रमोद कृष्णम कांग्रेस में हैं भी या पार्टी छोड़ दी, ये चर्चा भी तेज हो गई है.

हालांकि, आचार्य प्रमोद कृष्णम ने ये साफ किया कि न तो शिवपाल सिंह यादव कांग्रेस में शामिल हुए हैं और ना ही वे प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया में. राष्ट्र और लोकतंत्र को बचाने के लिए ये बड़ा कदम है. शिवपाल सिंह यादव का समर्थन करने और उन्हें शुभकामनाएं देने यहां आया हूं. इस यात्रा से नए रास्ते प्रशस्त होंगे. उन्होंने साथ ही ये भी जोड़ा कि राजनीति संभावनाओं का खेल है. कल क्या होगा ये मैं भी अभी नहीं कह सकता.

आचार्य प्रमोद कृष्णम ने यूपी की योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधा और कहा कि ये अधर्म के रास्ते पर चल चुकी है. इसको उखाड़ फेंकने के लिए शिवपाल सिंह यादव ने एक धर्म यात्रा शुरू की है. उन्होंने कहा कि मेरे शिवपाल यादव से बहुत निकट संबंध हैं और वे कल्कि धाम से भी जुड़े हुए हैं. उनकी इस यात्रा की सफलता के लिए उनको शुभकामनाएं देने आया हूं. आचार्य प्रमोद कृष्णम ने ये भी कहा कि मुझे विश्वास है कि शिवपाल यादव की इस धर्म यात्रा से यूपी में अधर्म की सरकार का पतन होगा.

उन्होंने कहा कि इस समय कांग्रेस और देश के सामने सबसे बड़ा सवाल है कि कैसे लोकतंत्र को बचाया जाए. जिस तरीके से यूपी में सरकार चल रही है उसने लोकतंत्र को कुचल दिया है. आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि प्रियंका गांधी का लक्ष्य इस देश और प्रदेश से बीजेपी की सरकार को उखाड़ फेंकना है. ऐसे में शिवपाल सिंह यादव एक बड़ा फैसला ले कर के एक सामाजिक जागृति के लिए यात्रा कर रहे हैं तो सारी शक्तियों का यह फर्ज बनता है कि बीजेपी से जो भी जहां लड़े, उसका समर्थन किया जाए.

अखिलेश यादव को लेकर कही ये बात

आचार्य प्रमोद कृष्णम ने समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को लेकर कहा कि उन्हें जो कदम उठाने चाहिए थे और जिस तरीके से सड़क पर नजर आना चाहिए था, पिछले डेढ़-दो साल में उनसे चूक हुई है. जनता बड़ी आशा भरी नजरों से अखिलेश यादव की ओर देख रही थी लेकिन वे दायित्व नहीं निभा पाए हैं. उनके कंधों पर तमाम सेक्यूलर पार्टियों को साथ लेकर चलने का बोझ भी था लेकिन वे ये भी नहीं कर पाए. मायावती को बीजेपी का खिलौना बताते हुए आचार्य प्रमोद कृष्णम ने कहा कि जमीन पर या तो प्रियंका गांधी नजर आ रही हैं या शिवपाल सिंह यादव. जैसे-जैसे चुनाव का समय नजदीक आएगा, एक बड़ा प्लेटफार्म तैयार होगा और हम हर हाल में यूपी को बीजेपी की जुल्मी सरकार से मुक्त कराएंगे.

इस समय परिवर्तन की जरूरत- शिवपाल यादव

शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि इस समय परिवर्तन की जरूरत है इसीलिए रथ का नाम सामाजिक परिवर्तन रथ रखा गया है. आज शुभ दिन है और शुभ दिन से हमने इसे मथुरा वृंदावन से शुरू किया है. अखिलेश यादव के कानपुर से रथयात्रा शुरू करने को लेकर सवाल पर उन्होंने कहा कि चुनाव का समय है तो सभी लोग अपनी-अपनी यात्रा शुरू करेंगे लेकिन एक बात तो है कि जितनी बातें की गई थीं, जितने वादे किए गए थे, वे पूरे नहीं किए गए. शिवपाल ने कहा कि झूठे वादे और गलत निर्णय की वजह से पूरा देश संकट के दौर से गुजर रहा है.

सत्ता परिवर्तन के लिए एक हो जाएं सभी- शिवपाल

शिवपाल ने सभी सेक्यूलर दलों से सत्ता परिवर्तन के लिए एक हो जाने की अपील की और अखिलेश से मतभेद पर भी बात की. उन्होंने कहा कि अगर सभी एक हो जाएं तो सत्ता परिवर्तन बहुत आसान हो जाएगा. मैंने बहुत प्रयास किया है और अभी संभावनाएं हैं और राजनीति में संभावनाएं कभी खत्म नहीं होतीं. उन्होंने कहा कि 40 साल तक समाजवादी पार्टी में काम किया और नेताजी के साथ पार्टी को बुलंदी तक पहुंचाया है. कई बार कहा है कि मेरी पहली प्राथमिकता समाजवादी पार्टी है लेकिन साथ ही साथ और पार्टियां भी हैं जिनकी विचारधारा एक जैसी है. वक्त आएगा तो इसका खुलासा भी हो जाएगा कि और कौन-कौन सी पार्टियां हैं.

जनता हमें कृष्ण के रूप में सारथी मानेगी- शिवपाल

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने इसे धर्म युद्ध बताया और कहा कि हम जनता के बीच जाएंगे और कहीं न कहीं जनता हमें कृष्ण के रूप में सारथी जरुर मानेगी. नेताजी का आशीर्वाद तो हमारे ऊपर हमेशा रहा ही है और वे हमेशा हमारे दिल में हैं. अखिलेश यादव को अर्जुन बनाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैंने तो बहुत प्रयास किया है. हमारे पास बहुत लोग हैं हमारी पार्टी में भी. सपा को कई बार सत्ता में लेकर आए हैं. 2022 में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी सत्ता में आए. जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आएगा, छोटी पार्टियों से बात करेंगे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें