scorecardresearch
 

व्यंग्य: राहुल गांधी की लाइफ में होना चाहिए झिंगालाला, नहीं तो बेचना पड़ेगा आचार

उफ्फ. कांग्रेस के लिए अभी-अभी मेरे मन के अनू मलिक ने हैदर फिल्म का एक गाना चुराकर उगला है. 'अरे आओ न कि थक गई है जिंदगी. आ जाओ.' प्रिय कांग्रेस क्या तुम्हें याद है कि आखिरी बार दो अंगुलियों को फैलाते हुए विक्टरी सिंबल कब बनाया था. वो दो विक्टरी की अंगुलियां चिपकाकर क्या ‘अंखियों से गोली मारे’ गाने की प्रैक्टिस कर रहे हो. कुछ करते क्यों नहीं. कुछ लेते क्यों नहीं.

राहुल गांधी की फाइल फोटो राहुल गांधी की फाइल फोटो

उफ्फ. कांग्रेस के लिए अभी-अभी मेरे मन के अनू मलिक ने हैदर फिल्म का एक गाना चुराकर उगला है. 'अरे आओ न कि थक गई है जिंदगी. आ जाओ.' प्रिय कांग्रेस क्या तुम्हें याद है कि आखिरी बार दो अंगुलियों को फैलाते हुए विक्टरी सिंबल कब बनाया था. वो दो विक्टरी की अंगुलियां चिपकाकर क्या ‘अंखियों से गोली मारे’ गाने की प्रैक्टिस कर रहे हो. कुछ करते क्यों नहीं. कुछ लेते क्यों नहीं. दिल्ली विधानसभा चुनाव से साढ़े साती शुरू हुई तो हरियाणा-महाराष्ट्र चुनाव तक बनी हुई है. ये माना कि दाग अच्छे हैं. पर कभी-कभार दाग धो भी लेने चाहिए.

जगत राहुल भैया , आज फिर तुम पर प्यार आया है. वो जब तुम अपनी बाजू समेटते हुए पोपाई स्टाइल में गरजने की कोशिश किया करते थे. तो हमें लगता था कि ये लड़का आगे जाएगा. पर आप तो एकदम ही चाइनीज माल निकले. राहुल भैया, जिनके खुद के गुब्बारों से खेलने के दिन होते हैं, वो दूसरों के गुब्बारे फूटने की बातें नहीं किया करते. हो गया न टिली लिली. राहुल आप सबसे पहले एक सुकन्या देखकर ब्याह रचाओ. कई बार कृपा रुक रही होती है. शायद किसी की लड़की के पैर तुम्हारी सोई किस्मत चमका दे. घर में थोड़ा सास बहू माहौल बनेगा, बर्तन खनकेंगे. तो असल राजनीति समझ पाओगे.

अब बात कांग्रेस के अंदर की. सबसे पहले कांग्रेस के प्रवक्ताओं को भेष बदलकर बीजेपी दफ्तर भेजा करो. कुछ सीखें उनसे और सबसे पहले तो ये शशि थरूर जी को हाथ ऊपर करके खड़ा कर दो. तारीफ में अंगुली इनकी बीजेपी की तरफ रहती है और बोलते हैं कि मैं तो कांग्रेस की साइड हूं. जनता कंफ्यूज हो जाती है. थोड़े भले मानुष दिखते हैं तो लोग इनको सीरियस ले लेते हैं. डाल दिए बीजेपी के फेवर में वोट. एक तो आप लोग हर चुनाव में हार रहे हैं. ऊपर से आपके प्रवक्ता कह रहे हैं कि सभी विकल्प खुले हैं. यार राजनीति आपका मुख्य काम है. इसके बाद का विकल्प तो लहसून का आचार बेचना और अगले बिग बॉस में हिस्सा लेना ही है.

एक बात बताओ, जब चुनाव नहीं चल रहे होते हैं तब आप लोग क्या कर रहे होते हो. हमारे खबर खुजाऊ सूत्र बताते हैं कि ये कांग्रेस के नेताओं की कैंडी क्रश रिक्वेस्ट बहुत जाती है अमित शाह के पास. मेरे प्यारे विलुप्त होते कांग्रेसियों, ग्रो अप. पार्टी उपाध्यक्ष जो काम घर में करें, जरूरी तो नहीं कि वो काम आप भी करें. दिग्विजय सिंह से कुछ सीखा करिए. हर बार कितना अलग तरह का लेथन मुंह से गिराते हैं. वो बात अलग है कि हर बात में आरएसएस को जिम्मेदार ठहराते हैं.

इस मामले में राजीव शुक्ला भी गपोड़शंख हैं. शादी ब्याहों की तरह सना हुआ भरपूर आटा पेट में फंसाकर जिस बेबाकी से वो बोलते हैं कि जनादेश का सम्मान करेंगे. विपक्ष का रोल प्ले करेंगे. पराकाष्ठा का सवाल है. तो उनसे बोलिए कि आईपीएल से जुड़कर शाहरुख को अमेरिका के एयरपोर्ट से छुड़वाने का ही काम करें. कभी अपने मचकते कंधे लेकर पार्टी की भलाई के लिए कोई काम कर लें.

अच्छा राहुल भैया, ज्यादा टेंशन मत लेना. आज आराम से प्रेस कॉन्फ्रेंस कर लोगों से, हमसे बात करना. प्रेस कॉन्फ्रेंस के चक्कर में तुम्हारा पोगो टीवी का जो प्रोग्राम मिस होगा, उसके लिए आपके बचपन के मित्र मोदी जी ने टाटा स्काई से बात कर ली है. शो रिकॉर्ड होगा. यू नो ना टाटा स्काई. इसको लगा डाला तो लाइफ झिंगालाला. एक टाटा स्काई अपने लिटिल मन के ऊपर भी लगाओ. तुम्हें अब झिंगालाला होने की सख्त जरूरत है. बाकी हारकर जीतने वाले को बाजीगर कहते हैं. चयवन्प्राश लिया करो. सोना दे सुरक्षित तन, चांदी जैसा तेज दिमाग.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें