scorecardresearch
 

MCD: बीजेपी उम्मीदवार न होने की वजह से पड़े लाडो सराय में महज 28 फीसदी वोट!

दिल्ली में रविवार को हुए एमसीडी चुनाव में वोट प्रतिशत काफी कम रहा है. दिल्ली के लाडोसराय में तो केवल 28% ही मतदान हुआ. सबसे ज्यादा 70% मतदान बख्तावरपुर में हुआ. इस बात को लेकर तमाम चर्चाएं हैं आखिर किस वजह से मतदान कम या ज्यादा हुआ.

मतदाताओं ने निष्क्रियता दिखाई मतदाताओं ने निष्क्रियता दिखाई

दिल्ली में रविवार को हुए एमसीडी चुनाव में वोट प्रतिशत काफी कम रहा है. दिल्ली के लाडोसराय में तो केवल 28% ही मतदान हुआ. सबसे ज्यादा 70% मतदान बख्तावरपुर में हुआ. इस बात को लेकर तमाम चर्चाएं हैं आखिर किस वजह से मतदान कम या ज्यादा हुआ.

एमसीडी चुनावों में करीब आधी दिल्ली ही मतदान करने पहुंची. दिल्ली में मतदान का प्रतिशत केवल 54% ही रहा. मगर दिल्ली के कुछ इलाकों में तो स्थिति कुछ ज्यादा ही खराब रही. महरौली के लाडोसराय वार्ड में केवल 28% ही मतदान हुआ.

आपको बता दें कि महरौली विधानसभा के अंतर्गत 3 वार्ड आते हैं, जब बीजेपी के 6 उम्मीदवारों का नामांकन खारिज हुआ था, तो उनमें से एक सीट लाडोसराय की भी थी. लोगों का कहना है कि यहां बीजेपी का उम्मीदवार नहीं था, जिसके कारण लोगों ने वोट नहीं दिया.

दूसरी ओर कई लोगों का ये भी कहना था कि यहां पर रहने वाले 63% लोग सामान्य वर्ग से आते हैं, जबकि इस सीट को आरक्षित कर दिया गया, जिसके कारण लोगों ने मतदान में रुचि नहीं दिखाई. नरेला के वार्ड बख्तावरपुर में 70% मतदान हुआ.

लोगों का कहना है कि यहां हर पार्टी के उम्मीदवार इसी गांव के थे, जिसके कारण लोगों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया. यह इलाका हरियाणा-दिल्ली बॉर्डर पर आता है. यहां पर ज्यादातर लोग जाट समुदाय से आते है, लिहाजा हर पार्टी ने यहां पर रहने वाले जाट को ही टिकट दिया. इसकी वजह से हर शख्स ने अपने उम्मीदवार को जिताने के लिए खूब वोट किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें