scorecardresearch
 

लालकृष्ण आडवाणी के बाद अब जसवंत सिंह भी बीजेपी से नाराज

बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं में टिकट को लेकर नाराजगी बढ़ती जा रही है. जहां एक ओर अभी लालकृष्ण आडवाणी गांधीनगर से चुनाव नहीं लड़ने पार आमदा हैं वहीं दूसरी ओर अब जसवंत सिंह के भी नाराज होने की खबर आ रही है.

बीजेपी नेता जसवंत सिंह बीजेपी नेता जसवंत सिंह

बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं में टिकट को लेकर नाराजगी बढ़ती जा रही है. जहां एक ओर अभी लालकृष्ण आडवाणी गांधीनगर से चुनाव नहीं लड़ने पार आमदा हैं वहीं दूसरी ओर अब जसवंत सिंह के भी नाराज होने की खबर आ रही है.

सूत्रों के मुताबिक जसवंत सिंह राजस्थान के बाड़मेर से चुनाव लड़ना चाहते हैं, लेकिन सीएम वसुंधरा नहीं चाहतीं कि जसवंत बाड़मेर से चुनाव लड़ें. हालांकि अभी तक जसवंत सिंह की सीट पर फैसला नहीं हुआ है, लेकिन जसवंत बाड़मेर से ही लड़ने पर अड़े हुए हैं और वसुंधरा के ऐतराज पर नाराज हैं.

बीजेपी में वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी और लालकृष्ण आडवाणी के बाद जसवंत सिंह ऐसे तीसरे बड़े नेता हैं जिनका नाम टिकट विवाद से जुड़ा है. मोदी पहले से ही टिकट रोक कर बुजुर्ग नेताओं को साइडलाइन करने की तैयार में जुटे हैं तो राजस्थान की मुख्मयंत्री ने इस मौके का फायदा उठाते हुए जसवंत सिंह से अपना पुराना बदला लेने के लिए कांग्रेस के जाट नेता सोनराम को बीजेपी में शामिल कर अब टिकट दिलाने के लिए अपना पूरा जोर लगा दिया है हालांकि अभी तक टिकट पर सस्पेंस बरकरार है. इस तरह एक बार फिर राजस्थान में दो बड़े घरानों की लड़ाई शुरू हो गई है जिसका खमियाजा बीजेपी को आने वाले दिनों में चुनावों में भुगतना पड़ सकता है. करीब एक माह पहले ही जसवंत सिंह ने बाड़मेर में कहा था कि वह अंतिम चुनाव यहीं से लड़ना चाहते हैं.

प्रदेश की बाड़मेर सीट को लेकर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और पूर्व केन्द्रीय मंत्री जसवंत सिंह के बीच मतभेद सामने आए हैं. सूत्रों के अनुसार चुनाव समिति की बैठक के दौरान राजे ने बाड़मेर से कर्नल सोनाराम को टिकट देने की वकालत की. जबकि इस सीट से जसवंत सिंह भी टिकट मांग रहे हैं. गौरतलब है कि जसवंत सिंह ने 2009 का लोकसभा चुनाव पश्चिम बंगाल के दार्जीलिंग से जीता था. बाड़मेर से 2009 में बीजेपी की टिकट पर उनके बेटे मानवेन्द्र सिंह को उतारा गया था. हालांकि वे कांग्रेस के हरीश चौधरी से हार गए थे. कर्नल की दावेदारी से बाड़मेर जैसलमेर बीजेपी में बवाल मच गया है. सामूहिक इस्तीफे को लेकर पार्टी के नेताओं की बैठक मानवेन्द्र सिंह के निवास पर चल रही है.

सूत्रों के अनुसार बीजेपी के वरिष्ठ नेता और अन्य कार्यकर्ता शाम आठ बजे मानवेन्द्र सिंह से मिलने उनके निवास पर पहुंच कर जसवंत सिंह को निर्दलीय मैदान में उतारने का दबाव बनाने जा रही है.

बाड़मेर के सभी छह बीजेपी विधायकों ने जसवंत सिंह के नाम पर सहमति जताई है. बीजेपी के नेता राजेन्द्र सिंह के अनुसार बाड़मेर से जसवंत सिंह को ही टिकट मिलना चाहिए. बीस साल बीजेपी के खिलाफ लड़ते रहे कांग्रेस नेता को टिकट बर्दास्त नहीं है. सभी छह विधायक जसवंत सिंह के समर्थन में इस्तीफा देने को तैयार हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें