scorecardresearch
 

रांची में BJP विधायकों की बैठक में तय होगा CM पद के दावेदार का नाम

झारखण्ड के इतिहास में कल का दिन काफी अहम होने वाला है. इस बात की संभावना है कि अबतक चली आ रही अघोषित परंपरा से हटकर पहली बार राज्य का शासन कोई गैर-आदिवासी संभालेगा.

झारखण्ड में बीजेपी के मुख्यमंत्री का ताज किसके सर सजेगा, इसे लेकर सस्पेंस कायम है. वहीं, इस पद की दौड़ में आगे बताये जाने वाले प्रत्याशियों ने लॉबिंग भी तेज कर दी है, जिसके तहत ज्यादा से ज्यादा विधायकों की अपने पक्ष में लामबंदी से लेकर आलाकमान तक अपना नाम पहुंचाने तक की कवायद हो रही है.

वैसे झारखण्ड में मुख्यमंत्री चुनने की पूरी प्रक्रिया की देखरेख के लिए बीजेपी आलाकमान ने अपने दो पर्यवेक्षक रांची भेजें है. गौरतलब है कि कल रांची में बीजेपी विधायकों की होनेवाली बैठक में मुख्यमंत्री पद के दावेदारों पर चर्चा होगी. झारखण्ड के इतिहास में कल का दिन काफी अहम होने वाला है. इस बात की संभावना है कि अबतक चली आ रही अघोषित परंपरा से हटकर पहली बार राज्य का शासन कोई गैर-आदिवासी संभालेगा. राज्य में हुए विधानसभा चुनावों में पूर्ण बहुमत हासिल करनेवाली बीजेपी गठबंधन के विधायकों की बैठक कल रांची में होनी है. इसके लिए केंद्र के दो पर्यवेक्षक केंद्रीय महासचिव जे.पी. नड्डा और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विनय सहस्त्रबुद्धे आज देर शाम रांची पहुंच रहे हैं.

आपको बता दें कि झारखण्ड में पहली बार कोई पूर्ण बहुमत की सरकार सत्ता संभालेगी. उधर, पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा ने साफ कर दिया है कि वे मख्यमंत्री पद की दौड़ में शामिल नहीं है.

दूसरी ओर, बीजेपी में मुख्यमंत्री पद को लेकर लॉबिंग भी तेज हो गई है. वैसे राज्य का अगला मुख्यमंत्री आदिवासी होगा या फिर गैर आदिवासी, इसपर फैसला पार्टी का संसदीय बोर्ड करेगा. गैर आदिवासी मुख्यमंत्री के लिए तीन नाम सामने आ रहे हैं. इनमें रघुवर दास, सरयू राय और सीपी सिंह शामिल हैं. रघुवर दास सीएम पद की दौड़ में सबसे आगे बताए जा रहे हैं.

दो बार झारखण्ड में पार्टी की अध्यक्षता संभाल चुके दास पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की पहली पसंद बताये जाते हैं. बताया ये भी जाता है कि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने रांची के विधायक सीपी सिंह के नाम को आगे बढ़ाया है, जबकि आदिवासी उम्मीदवारों में आरएसएस के करीबी शिवशंकर उरांव, दुमका में CM हेमंत सोरेन को हरनेवाली लुइस मरांडी और करिया मुंडा के गुट के नीलकंठ सिंह मुंडा के नाम है.

वैसे मुख्यमंत्री का नाम तय करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा और आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो का रोल को काफी अहम माना जा रहा है. हालांकि दोनों इस बार चुनाव जीतने में नाकामयाब रहे हैं. कल की बैठक में जिसके नाम पर सहमति बनेगी उसके बाद ही मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें