scorecardresearch
 

कैप्टन अमरिंदर सिंह की सीएम खट्टर से मुलाकात के क्या हैं सियासी मायने?

कैप्टन और खट्टर अपने पुराने विवाद को खत्म करना चाहते थे. दरअसल दोनों के बीच किसान आंदोलन को लेकर पहले तीखी नोकझोंक हुई थी. अब दोनों नेता इससे आगे बढ़ना चाहते हैं.

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सीएम मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात की कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सीएम मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात की
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कैप्टन अमरिंदर ने कहा- 'यह एक शिष्टाचार मुलाकात थी'
  • पंजाब बीजेपी नेता कैप्टन अमरिंदर से मिलने से कतरा रहे हैं

पंजाब में विधानसभा चुनाव को लेकर इन दिनों सियासी पारा चढ़ा हुआ है. लिहाजा नेताओं की हर मुलाकात के सियासी मायने निकाले जा रहे हैं. अब पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात की है. दोनों नेताओं की मुलाकात करीब 30 मिनट तक चली. हालांकि कैप्टन ने इसे सिर्फ शिष्टाचार मुलाकात करार दिया है. इस दौरान अमरिंदर के बेटे रनिंदर सिंह भी मौजूद रहे.

सूत्रों की मानें तो कैप्टन और खट्टर अपने पुराने विवाद को खत्म करना चाहते थे. दरअसल दोनों के बीच किसान आंदोलन को लेकर पहले तीखी नोकझोंक हुई थी. अब दोनों नेता इससे आगे बढ़ना चाहते हैं. बता दें कि मनोहर लाल खट्टर ने इस साल अगस्त में कैप्टन अमरिंदर सिंह पर किसानों में अशांति फैलाने का आरोप लगाते हुए इस्तीफा मांगा था. खट्टर ने कहा था कि सिंघू बॉर्डर पर अधिकांश प्रदर्शनकारी पंजाब के थे. उन्होंने कहा था कि किसान आंदोलन के पीछे कैप्टन का हाथ था.

इस आरोप के जवाब में अगले दिन यानी (31 अगस्त) को कैप्टन अमरिंदर सिंह ने खट्टर पर किसान विरोधी एजेंडा चलाने का आरोप लगाया था. कैप्टन ने कहा था कि कोविड के बीच केंद्र सरकार द्वारा लगा गए कठोर और अलोकतांत्रिक कृषि कानूनों के मामले में पूरे देश की भावना किसानों के साथ थी. हालांकि कैप्टन अमरिंदर सिंह के कांग्रेस छोड़ने के तुरंत बाद चीजें बदल गईं. ऐसे में बड़ी बात ये है कि जहां हरियाणा बीजेपी के नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह से मिल रहे हैं, वहीं पंजाब बीजेपी के नेता उनसे मिलने से कतरा रहे हैं. 

सीट बंटवारे पर बनाया था मन

बता दें कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पंजाब लोक कांग्रेस और भाजपा के बीच सीट बंटवारे की बात कही थी, लेकिन केंद्रीय मंत्री और पंजाब के प्रभारी गजेंद्र सिंह शेखावत का कहना है कि पार्टी सभी 117 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी. भाजपा के वरिष्ठ नेता विनीत जोशी ने बताया कि इस संबंध में निर्णय केंद्रीय पार्टी नेतृत्व की ओर से लिया जाना है. 

कैप्टन की पत्नी परनीत कौर ने दिए कांग्रेस छोड़ने के संकेत

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पंजाब लोक कांग्रेस के रजिस्ट्रेशन की औपचारिकताएं तीन हफ्ते में पूरी कर ली जाएंगी. उन्होंने घोषणा की कि वह अपनी राजनीतिक रणनीति पर चर्चा के लिए केंद्रीय भाजपा नेताओं से मुलाकात करेंगे. उनकी पत्नी और लोकसभा सांसद परनीत कौर ने भी संकेत दिया है कि वह पंजाब लोक कांग्रेस में शामिल होंगी. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×