scorecardresearch
 

Punjab Election: अमृतसर से सिद्धू के खिलाफ लड़ेंगे मजीठिया, मुक्तसर से 95 साल के प्रकाश बादल भी मैदान में

मजीठिया पंजाब के पूर्व कैबिनेट मंत्री भी रहे हैं. वहीं 5 बार पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल इस बार देश के सबसे बुजुर्ग विधानसभा उम्मीदवार बनेंगे. अकाली दल ने 95 साल के प्रकाश सिंह बादल की पारंपरिक विधानसभा सीट मुक्तसर से उन्हें उतारने का फैसला किया है.

X
नवजोत सिंह सिद्धू और विक्रम सिंह मजीठिया. -फाइल फोटो नवजोत सिंह सिद्धू और विक्रम सिंह मजीठिया. -फाइल फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मेरे और अन्य अपराधियों के लिए दो तरह के कानून: मजीठिया
  • कांग्रेस सरकार के पदाधिकारियों के खिलाफ अवमानना याचिका पर विचार

पंजाब विधानसभा चुनाव में अमृतसर विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी नवजोत सिंह सिद्धू के खिलाफ अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया ताल ठोकेंगे. मजीठिया पंजाब के पूर्व कैबिनेट मंत्री भी रहे हैं. वहीं 5 बार पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल इस बार देश के सबसे बुजुर्ग विधानसभा उम्मीदवार बनेंगे. अकाली दल ने 95 साल के प्रकाश सिंह बादल की पारंपरिक विधानसभा सीट मुक्तसर से उन्हें उतारने का फैसला किया है. 

शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के सीनियर नेता बिक्रम सिंह मजीठिया ने बुधवार को चुनाव आयोग से उच्च न्यायालय के निर्देशों का उल्लंघन करने, उनके आवास पर छापेमारी करने और अदालत के समक्ष अपने परिवार के सदस्यों को परेशान करने के लिए कांग्रेस सरकार को जवाबदेह ठहराने की अपील की.

उन्होंने डीजीपी एस चट्टोपाध्याय के ऑडियो-टेप खुलासे की राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) से जांच की मांग करते हुए कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की पंजाब यात्रा के दौरान सुरक्षा उल्लंघन के परिणामस्वरूप पीएम पर हत्या की बोली भी लग सकती थी.

बिक्रम मजीठिया ने बुधवार को मीडिया को संबोधित करते हुए ये बातें कही. उन्होंने कहा कि उन्हें विधानसभा चुनाव लड़ने से रोकने के प्रयास किए जा रहे थे और यही कारण है कि पुलिस को उनके आवासों पर छापा मारने के लिए लगाया गया था.

अकाली नेता ने कहा कि ऐसा लगता है कि कानून मेरे लिए अलग है और कांग्रेसियों पर समान नियम लागू नहीं होते हैं, चाहे वह सुखपाल खैरा हो, जिस पर ड्रग तस्करी का आरोप है या सिद्धू मूसेवाला जिस पर एके -47 या यहां तक ​​कि लोक इंसाफ पार्टी को गोली मारने का आरोप है.

मजीठिया ने कहा कि एलआईपी नेता सिमरजीत सिंह बैंस के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया है. उनके किसी भी घर पर छापेमारी नहीं की गई है. सुखपाल खैरा के आवास पर छापेमारी नहीं हुई, भले ही वह उच्च न्यायालय से कोई राहत पाने में विफल रहे. कांग्रेस सरकार ने मुख्यमंत्री के सुरक्षा कवच का अवैध रूप से उपयोग करने के लिए भूपिंदर हनी के खिलाफ भी कार्रवाई नहीं की है, जिनसे ईडी ने 10 करोड़ रुपये बरामद किए थे.

मेरे और अन्य अपराधियों के लिए दो तरह के कानून: मजीठिया

मजीठिया ने कहा कि उनके और गंभीर अपराधों के अन्य आरोपियों के लिए दो तरह के कानून हैं. कांग्रेस सरकार ने अभी तक डीजीपी एस चट्टोपाध्याय के खिलाफ कार्रवाई नहीं की है, जो नशीली दवाओं के पैसे के बंटवारे और फर्जी मुठभेड़ पर चर्चा करते हुए पकड़े गए थे. उन्होंने कहा कि जगदीश भोला ड्रग मामले में भगोड़े अपराधी ने प्रधानमंत्री के दौरे के दौरान आरडीएक्स और बम बरामद करने की बात भी कही थी. केवल एनआईए जांच ही इस मामले की तह तक जा सकती है. 

मजीठिया ने मांग की कि डीजीपी के आवास के सभी सीसीटीवी कैमरा फुटेज के साथ-साथ मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी, गृह मंत्री सुखजिंदर रंधावा और विजिलेंस प्रमुख हरप्रीत सिद्धू के फोन की जांच की जाए ताकि उनके खिलाफ झूठा मामला दर्ज करने की पूरी साजिश का खुलासा किया जा सके. पीएम की सुरक्षा से खिलवाड़ पर उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में एनआईए की जांच में किसी भी कीमत पर देरी नहीं होनी चाहिए.

कांग्रेस सरकार के पदाधिकारियों के खिलाफ अवमानना याचिका पर विचार

मजीठिया ने कहा कि उनकी कानूनी टीम अदालत के निर्देशों का उल्लंघन करने के साथ-साथ उनके परिवार के सदस्यों को परेशान करने के लिए कांग्रेस सरकार के पदाधिकारियों के खिलाफ अवमानना ​​​​याचिका दायर करने पर भी विचार कर रही है. गृह मंत्री सुखजिंदर रंधावा के बारे में मजीठिया ने कहा कि उन्हें नैतिकता के बारे में बोलने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है. रंधावा के पिता संतोख सिंह रंधावा पर पाकिस्तान की आईएसआई एजेंसी से संबंध रखने का आरोप लगाया गया था और इस वजह से उन्हें पीसीसी अध्यक्ष और यहां तक ​​कि मंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था. हर कोई यह भी जानता है कि संतोख रंधावा ने श्री दरबार साहिब पर हमले के लिए कैसे बचाव किया और यहां तक ​​कि इंदिरा गांधी की प्रशंसा भी की. मंत्री खुद भी बीज घोटाले सहित अपने विभिन्न घोटालों के लिए जाने जाते हैं और साथ ही मुख्तियार अंसारी और जग्गू भगवानपुरिया जैसे खूंखार गैंगस्टरों को संरक्षण देने के लिए भी जाने जाते हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें