scorecardresearch
 

बिजली संकट पर कैप्टन को घेरने वाले सिद्धू ने खुद नहीं भरा अपना बिल, 8 लाख से ज्यादा बकाया

बिजली संकट को लेकर शुक्रवार को नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी ही पार्टी की सरकार पर निशाना साधा. लेकिन अब ये बात सामने आई है कि बिजली संकट पर सवाल करने वाले नवजोत सिंह सिद्धू ने खुद अपने घर का बिल लंबे वक्त से नहीं भरा है. 

X
कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो) कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पंजाब में जारी बिजली संकट पर राजनीति तेज
  • नवजोत सिंह सिद्धू का आठ लाख का बिल बकाया

पंजाब में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच जारी जंग और भी तेज होती जा रही है. बिजली संकट को लेकर शुक्रवार को नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी ही पार्टी की सरकार पर निशाना साधा. लेकिन अब ये बात सामने आई है कि बिजली संकट पर सवाल करने वाले नवजोत सिंह सिद्धू ने खुद अपने घर का बिल लंबे वक्त से नहीं भरा है. 

जानकारी के मुताबिक, नवजोत सिंह सिद्धू ने पिछले करीब नौ महीने से अपने घर का बिल नहीं भरा है. उनपर कुल 8 लाख, 67 हजार और 540 रुपये बकाया है. 

एक तरफ नवजोत सिंह सिद्धू बिजली संकट को लेकर पंजाब की मौजूदा कांग्रेस सरकार और पूर्व की अकाली सरकार को घेर रहे थे, लेकिन अब जब उनके बिजली बिल से जुड़ी बात सामने आई है तो उनपर ही सवाल खड़े हो रहे हैं. 

सिद्धू ने बिल नहीं भरा तो बिजली कनेक्शन क्यों नहीं काटा गया?

पंजाब में अगर कोई आम आदमी ऐसे 9 महीने तक बिल ना भरे तो उसका बिजली का कनेक्शन काट दिया जाता है. यहां तक कि कई सरकारी दफ्तरों और पुलिस स्टेशन का भी बिजली कनेक्शन इसी वजह से काट दिया गया. लेकिन नवजोत सिंह सिद्धू के घर लगातार 24 घंटे बिजली सप्लाई की जा रही है. अमृतसर बिजली विभाग के चीफ इंजिनीयर सकतर सिंह ने इस पूरे मामले पर टालमटोल वाला जवाब दिया और अपना पल्ला झाड़ने की कोशिश की.

वहीं इस पूरे मामले पर पंजाब सरकार ने भी पल्ला झाड़ लिया है. पंजाब सरकार के प्रवक्ता राजकुमार वेरका ने कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू ने अपना बिजली का बिल क्यों नहीं भरा है ये तो सिद्धू ही बता सकते हैं. लेकिन मैं अपने घर का बिजली का बिल भरता हूं और मैं उसी के बारे में बता सकता हूं.

AAP अध्यक्ष भगवंत मान ने साधा निशाना

आम आदमी पार्टी के पंजाब अध्यक्ष भगवंत मान ने कहा कि नैतिकता के आधार पर तमाम जनप्रतिनिधियों को अपना बिजली का बिल वक्त पर भरना चाहिए और वो खुद भी अपने संगरूर और दिल्ली के घरों के बिजली के बिल वक्त पर भरतै हैं. नवजोत सिंह सिद्धू ने अपना बिजली का बिल क्यों नहीं भरा ये तो वो खुद या उनके परिवार के लोग ही बता सकते हैं. साथ ही इस मसले पर सिद्धू के धुर विरोधी अकाली नेता बिक्रम मजिठिया ने भी जमकर निशाना साधा है.


सिद्धू ने निशाने पर कैप्टन सरकार

दरअसल, शुक्रवार दोपहर को नवजोत सिंह सिद्धू ने एक साथ कई सारे ट्वीट किए. इस दौरान उन्होंने पंजाब में जारी बिजली संकट को लेकर राज्य सरकार की नीतियों पर सवाल खड़े किए, पिछली सरकार द्वारा की गई डील्स पर निशाना साधा. 

नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि पंजाब अभी राष्ट्रीय औसत से महंगे दर पर बिजली ले रहा है, जबकि अगर सही नीति से चला जाए तो राज्य में 24 घंटे बिजली दी जा सकती है और 300 यूनिट तक बिजली पर सब्सिडी भी दी जा सकती है. 

क्लिक करें: पंजाब में 'पावर कट' पर अमरिंदर के खिलाफ खुलकर सामने आए सिद्धू, दागे ताबड़तोड़ सवाल

बिजली संकट के बीच आर-पार

बता दें कि उत्तर भारत में पिछले करीब एक हफ्ते से भीषण गर्मी पड़ रही है. इस बीच पंजाब में बिजली कटौती हो रही है, जिससे राज्य में हाहाकार है. इसी बीच पंजाब सरकार ने दफ्तरों में चल रहे एसी के कम और तय मात्रा में उपयोग की बात कही है. इसी को नवजोत सिंह सिद्धू ने बड़ा मसला बनाया.

ये पहली बार नहीं है जब नवजोत सिंह सिद्धू ने इस तरह खुलकर कैप्टन अमरिंदर सिंह पर वार किया हो. लंबे वक्त से उन्होंने कैप्टन के खिलाफ मोर्चा खोला हुआ है. हाल ही में उन्होंने इस मसले पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा से भी मुलाकात की है.   

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें