scorecardresearch
 

नवीन पटनायक ने की मोदी सरकार की तारीफ, क्या है इसके सियासी मायने?

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने चक्रवात फानी से निपटने में मदद के लिए केन्द्र की बीजेपी नीत एनडीए सरकार की तारीफ की है.

पीएम मोदी भी नवीन पटनायक की तारीफ कर चुके हैं पीएम मोदी भी नवीन पटनायक की तारीफ कर चुके हैं

लोकसभा चुनाव का आखिरी दांव बाकी है. माना जा रहा है कि दिल्ली में सरकार बनाने में इस बार क्षेत्रीय दलों की भूमिका अहम रहेगी. ऐसे में बीजेपी और कांग्रेस की नजर राज्यों के क्षत्रपों पर है. बीजेपी को इस बार ओडिशा से बहुत उम्मीदें है. बीजेपी की उम्मीद को बीजू जनता दल (बीजद) के प्रमुख नवीन पटनायक ने एक लेटर लिखकर नए पंख लगा दिए हैं.

दरअसल, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने चक्रवात ‘फानी’ से निपटने में मदद के लिए केन्द्र की बीजेपी नीत एनडीए सरकार की तारीफ की है. इस चक्रवात से राज्य में करीब 64 लोगों की मौत हो गई है जबकि पांच लाख से अधिक परिवार बेघर हो गये हैं. खास बात है कि चुनाव के प्रचार के दौरान बीजेपी पर ओडिशा के हितों को नजरअंदाज करने का आरोप लगाने वाली बीजद ने अब केन्द्र सरकार की तारीफ की है. अब इस तारीफ के मायने निकाले जा रहे हैं.

फानी के जरिए दोस्ती?

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में कहा कि मैं अत्यंत गंभीर चक्रवात फानी तथा इसके बाद की स्थिति से असरदार तरीके से निपटने में ओडिशा राज्य का सहयोग करने के लिए केन्द्र सरकार को धन्यवाद देता हूं. साथ ही मिट्टी का तेल देने की मंजूरी पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को भी धन्यवाद दिया. पटनायक ने मोदी से चक्रवात प्रभावित इस राज्य में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पांच लाख घर बनवाने का अनुरोध किया.

इससे पहले पीएम मोदी ने ओडिशा का दौरा किया था और नवीन पटनायक की तारीफ की थी. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा था कि तूफान के दौरान नवीन पटनायक जी ने अच्छा काम किया है. तूफान के दौरान ओडिशा के लोगों ने समझदारी दिखाई.

एनडीए का हिस्सा बन सकते हैं पटनायक?

ओडिशा में लोकसभा की 21 सीटें हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में ओडिशा की 21 में से 20 सीटें बीजद जीतने में सफल रही थी. नवीन पटनायक की पार्टी बीजद पहले भी एनडीए के साथ रह चुकी है. ऐसे में संभावना है कि नरेंद्र मोदी को सरकार बनाने के लिए अगर कुछ सीटों की अवश्यकता पड़ती है तो बीजद अपना समर्थन दे सकती है. वहीं, बीजद को बीजेपी विधानसभा में समर्थन दे सकती है.

बीजेपी को अच्छा प्रदर्शन की है उम्मीद

हालांकि, ओडिशा में बीजेपी इस बार दमखम से चुनाव लड़ी है और उसे उम्मीद है कि बीजद के गढ़ में वह तगड़ी सेंधमारी करेगी. ऐसे में देखना होगा कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी, ओडिशा में कैसा प्रदर्शन करती है और अगर बीजद 2014 के प्रदर्शन को दोहराती है तो क्या वह एनडीए का हिस्सा बनती है या नहीं?

चुनाव की हर ख़बर मिलेगी सीधे आपके इनबॉक्स में. आम चुनाव की ताज़ा खबरों से अपडेट रहने के लिए सब्सक्राइब करें  आजतक का इलेक्शन स्पेशल न्यूज़ लेटर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें