scorecardresearch
 

झारखंडः पहले दौर के प्रचार में सिर्फ 48 घंटे शेष, कांग्रेस नेतृत्व अब भी नदारद

झारखंड के सियासी रण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर बीजेपी अध्यक्ष व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह सहित तमाम नेताओं ने उतरकर बीजेपी के कैंपेन को रफ्तार दे दी है. जबकि, पहले चरण के चुनाव प्रचार थमने में 48 घंटे से कम समय बचा है, इसके बावजूद कांग्रेस का राष्ट्रीय नेतृत्व चुनावी मैदान से दूर हैं.

झारखंड चुनाव से दूर सोनिया गांधी और राहुल गांधी झारखंड चुनाव से दूर सोनिया गांधी और राहुल गांधी

  • झारखंड में पहले चरण की 30 नवंबर को वोटिंग
  • बीजेपी ने दी कैंपेन को रफ्तार, कांग्रेस नेतृत्व दूर

झारखंड विधानसभा चुनाव में बीजेपी का राष्ट्रीय नेतृत्व पूरी तरह से मैदान में उतर चुका है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर बीजेपी अध्यक्ष व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह, जेपी नड्डा और नितिन गडकरी जैसे दिग्गज नेताओं ने उतरकर बीजेपी के कैंपेन को रफ्तार दे दी है. जबकि, पहले चरण के चुनाव प्रचार थमने में 48 घंटे से कम समय बचा है, इसके बावजूद कांग्रेस का राष्ट्रीय नेतृत्व चुनावी मैदान से दूर है. कांग्रेस अध्यक्ष से लेकर पार्टी के दूसरे राष्ट्रीय चेहरे चुनाव प्रचार में नहीं उतरे हैं.

बता दें कि झारखंड में कांग्रेस ने बीजेपी को मात देने के लिए झारखंड मुक्ति मोर्चा और आरजेडी के साथ मिलकर महागठबंधन बनाया है. पहले चरण की 13 विधानसभा सीटों के लिए 30 नवंबर को वोटिंग होगी, ऐसे में चुनाव प्रचार 28 नवंबर को शाम पांच बजे थम जाएगा. कांग्रेस पहले चरण की 6 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही है.बाकी सीटों पर उसके सहयोगी आरजेडी और जेएमएम चुनावी मैदान में है.

ऐसे में यह चरण कांग्रेस के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. इसके बावजूद भी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से लेकर राहुल गांधी सहित तमाम दिग्गज चुनाव प्रचार की अभी तक झारखंड में शुरुआत भी नहीं कर सके हैं. जबकि कांग्रेस ने झारखंड में चुनाव प्रचार के लिए 40 स्टार प्रचारकों के नाम का ऐलान कर रखा है. इसके बाद भी कांग्रेस के दिग्गज चुनाव प्रचार के मैदान से नदारद हैं.

कांग्रेस ने झारखंड के सियासी रण को पूरी तरह से पार्टी के स्टेट यूनिट पर छोड़ा है. कांग्रेस की ओर से प्रदेश के पार्टी प्रभारी आरपीएन सिंह ने चुनाव प्रचार की कमान संभाली है. इसके अलावा कांग्रेस ने पड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़ की टीम भी यहां लगा रखी है. भूपेश बघेल सरकार के मंत्री झारखंड में कैंप किए हुए हैं.

कांग्रेस प्रवक्ता अलोक दुबे ने कहा कि झारखंड में हमारी पार्टी के कैंपेन की स्टाइल काफी अलग है. कांग्रेस के दिग्गज नेताओं की लिस्ट तैयार है, जो जल्द ही नजर आएंगे. हम चुनावी रैलियों से ज्यादा क्षेत्र में कैंप करके पार्टी प्रत्याशियों को जिताने पर विश्वास कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस शासित राज्यों के सीएम और पार्टी के दिग्गज नेता प्रचार के लिए उतरेंगे उनके कार्यक्रम तय हैं.

वहीं, बीजेपी के प्रवक्ता प्रवीण प्रभाकर कहते हैं कि कांग्रेस डूबती हुआ जहाज है. कांग्रेस ने देश में हर जगह जनाधार खो चुकी है और हार मान चुकी है. ऐसे में बस खानापूर्ती करने के लिए कांग्रेस जुटी है. इसीलिए बड़े नेता झारखंड में ज्यादा दिमाग नहीं लगा रहे हैं, उन्हें यहां का सियासी अंजाम पता है.

बता दें कि झारखंड में बीजेपी ने पूरी ताकत झोंक दी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को पहले चरण की इलाकों में चुनावी रैलियां करके सभी 13 सीटों पर पार्टी के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश की है. पीएम मोदी ने राममंदिर से लेकर ओबीसी का दांव खेला. जबकि 21 नवंबर को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने आदिवासी बेल्ट में दो विधानसभा सीटों पर रैलियां करके बीजेपी के पक्ष में माहौल बनाने की कवायद की है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें