scorecardresearch
 

झारखंडः BJP को 10 में से मिले सिर्फ 3 वोट, उनमें से भी 2 मोदी के नाम-काम पर

बीजेपी को मिले 33 फीसदी वोट में से 72 फीसदी वोट मोदी के नाम और काम पर ही मिले हैं. आसान शब्दों में कहा जाए तो बीजेपी को 10 में से इन चुनावों में महज 3 वोट मिले. उन तीन में से भी दो वोट मोदी के नाम और काम पर मिले. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

  • रुझानों के अनुसार जेएमएम-कांग्रेस गठबंधन की सरकार बनना तय
  • झारखंड मुक्ति मोर्चा के हेमंत सोरेन बन सकते हैं मुख्यमंत्री
  • जमशेदपुर ईस्ट से सरयू राय मुख्यमंत्री रघुवर दास से निकले आगे
झारखंड विधानसभा की 81 सीटों पर हुए चुनाव में वोटों की गिनती जारी है. रुझानों में जेएमएम-कांग्रेस गठबंधन को बहुमत मिल गया है. ऐसे में झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष हेमंत सोरेन का मुख्यमंत्री बनना तय हो गया है. उधर मुख्यमंत्री रघुवर दास के लिए ये नतीजे बड़ा झटका लेकर आए हैं. उनकी सरकार तो चली ही गई, सीटें भी इस कदर सिमट गई हैं कि उन्हें प्रतिष्ठा लायक नहीं कहा जा सकता. खास बात ये है कि उन्हें कम वोट तो मिले ही हैं, जो मिले हैं वे भी उनके नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम और केंद्र सरकार के काम पर मिले हैं.

इन चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को करीब 33 फीसदी वोट मिले हैं. आजतक और एक्सिस माई इंडिया  के एग्जिट पोल में यह खुलासा हुआ था कि झारखंड में बीजेपी को वोट देने वाले 36 फीसदी वोटरों ने कहा कि उन्होंने तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर वोट दिया था, जबकि अन्य 36 फीसदी वोटरों ने मोदी सरकार के काम को भाजपा को वोट देने का प्रमुख कारण बताया. इस तरह से देखें तो बीजेपी को मिले 33 फीसदी वोट में से 72 फीसदी वोट मोदी के नाम और काम पर ही मिले हैं. आसान शब्दों में कहा जाए तो बीजेपी को 10 में से इन चुनावों में महज 3 वोट मिले. उन तीन में से भी दो वोट मोदी के नाम और काम पर मिले. 

एग्जिट पोल में क्या मिला जवाब?

आजतक और एक्सिस माई इंडिया ने अपने एग्जिट पोल में जनता से पूछा था कि वो बीजेपी को क्यों पसंद करती है? ऐसे में रघुवर की वजह से BJP को वोट करने वाले लोगों का प्रतिशत सिर्फ 3 रहा. 36 प्रतिशत लोग पार्टी को पीएम मोदी की वजह से पसंद करते हैं. वहीं केंद्र की बीजेपी सरकार के कामकाज की वजह से पार्टी को पसंद करने वाले लोगों का प्रतिशत भी इतना ही था.

चूंकि यह विधानसभा चुनाव है, एग्जिट पोल में यह जानने की कोशिश की गई कि मुख्यमंत्री रघुवर दास के कामकाज को कितने लोगों ने पसंद किया है? झारखंड में पिछले पांच सालों में मुख्यमंत्री रघुवर दास द्वारा किए गए कामकाज से मात्र 12 प्रतिशत लोग ही प्रभावित हुए. पार्टी द्वारा तय किए गए उम्मीदवारों को पसंद करने वाले लोगों का प्रतिशत महज 4 फीसदी रहा. जबकि 4 फीसदी लोग राज्य में स्थिर सरकार चाहते हैं इसलिए उन्होंने बीजेपी को वोट दिया. 

इन्हें बेहतर विकल्प नहीं होने के कारण BJP पसंद

हालांकि दो प्रतिशत लोग ऐसे भी हैं जो बेहतर विकल्प नहीं होने की वजह से बीजेपी को पसंद करते हैं. जबकि तीन फीसदी लोगों ने इस सवाल के जवाब में कोई उत्तर नहीं दिया. Exit Poll में कुल 12489 लोगों से बात की गई. इमें 76 फीसदी पुरुष और 24 फीसदी महिलाएं शामिल थीं. जाति के आधार पर बात करें तो इनमें एसटी (हिंदू) 20, एसटी (क्रिश्चिन) 6, एससी 15, मुस्लिम 14, ओबीसी 19, कुर्मी/महतो 9, यादव 7, जनरल के 7 और अन्य के 3 फीसदी लोग शामिल थे. इनमें 77 फीसदी लोग ग्रामीण और 23 फीसदी शहरी इलाकों से थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें