scorecardresearch
 

हरियाणा का दंगल: कांग्रेस का पुराना किला BJP से वापस छीनने उतरेंगे राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी हरियाणा के ऐसे इलाके में चुनावी प्रचार करेंगे जो एक दौर में कांग्रेस का मजबूत गढ़ हुआ करता था. यह इलाका हरियाणा का महेंद्रगढ़ है, जहां की चारों विधानसभा सीटों पर बीजेपी काबिज है. जबकि पहले इस रैली को संबोधित करने के लिए सोनिया गांधी को जाना था.

हरियाणा का रण: राहुल गांधी और कुमारी शैलजा हरियाणा का रण: राहुल गांधी और कुमारी शैलजा

  • राहुल गांधी की हरियाणा के महेंद्रगढ़ में रैली
  • महेंद्रगढ़ कभी कांग्रेस का मजबूत गढ़ रहा है
  • महेंद्रगढ़ की चारों सीटों पर बीजेपी का कब्जा

हरियाणा विधानसभा चुनाव प्रचार के आखिरी दौर में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी उतर रहे हैं. राहुल ऐसे इलाके में चुनावी प्रचार करेंगे जो एक दौर में कांग्रेस का मजबूत गढ़ हुआ करता था. यह इलाका हरियाणा का महेंद्रगढ़ है, जहां की चारों विधानसभा सीटों पर बीजेपी काबिज है. ऐसे में बीजेपी के हाथों से यह किला वापस छीनने के लिए राहुल गांधी महेंद्रगढ़ के गवर्नमेंट कॉलेज खेल परिसर में शुक्रवार को जनसभा करके कांग्रेस के पक्ष में माहौल बनाने की कवायद करेंगी.

हालांकि इस रैली में राहुल गांधी से पहले सोनिया गांधी को पहुंचना था. लेकिन उनका कार्यक्रम कैंसिल हो गया है, जिसके बाद राहुल गांधी रैली को संबोधित करने का प्रोग्राम तय हुआ है.

महेंद्रगढ़ की चारों सीट पर BJP का कब्जा

महेंद्रगढ़ जिले के तहत कुल चार विधानसभा सीटें आती हैं, जिनमें  महेंद्रगढ़, अटेली, नांगल चौधरी और नारनौल सीट शामिल हैं. इन सभी चारों सीटों पर बीजेपी का कब्जा है. इस बार के विधानसभा चुनाव में महेंद्रगढ़ जिले की चारों विधानसभा सीटों पर कुल 46 उम्मीदवार किस्मत आजमा रहे हैं. 2014 के चुनाव में महेंद्रगढ़ जिले में कांग्रेस से बेहतर प्रदर्शन इनेलो का रहा था.

महज महेंद्रगढ़ सीट ही ऐसी थी जहां कांग्रेस दूसरे नंबर रही थी और बाकी सीटों पर चौथे नंबर व पांचवें पर रही थी. जबकि एक दौर में इस इलाका में चौधरी बंसीलाल की तूती बोलती थी. यह पूरा इलाका अहिरवाल क्षेत्र के तहत आता है और यादव समुदाय का वर्चस्व है. 2014 में राव इंद्रजीत के कांग्रेस छोड़ देने के चलते पार्टी के पास महज कैप्टन अजय यादव ही अकेले यादव नेता बचे हैं.

हरियाणा की हाई प्रोफाइल सीट महेंद्रगढ़

महेंद्रगढ़ विधानसभा सीट हरियाणा की हाई प्रोफाइल सीट मानी जाती है. यहां से बीजेपी के कद्दावर नेता रामविलास शर्मा विधायक हैं और दूसरे नंबर पर कांग्रेस के दान सिंह राव रहे थे. 1990 के बाद यही दोनों नेता जीतते आ रहे हैं. इसके बार के चुनाव में बीजेपी से रामविलास शर्मा और कांग्रेस से दान सिंह राव एक बार फिर मैदान में है. महेंद्रगढ़ सीट से कुल 15 प्रत्याशी मैदान में है.

महेंद्रगढ़ जिले की अटेली विधानसभा सीट पर मौजूदा समय बीजेपी के संतोष यादव विधायक हैं और दूसरे नंबर पर इनेलो के सतबीर रहे थे. इस बार के अटेली सीट पर बीजेपी ने अपने मौजूदा विधायक का टिकट सीताराम  यादव को उतारा है तो कांग्रेस ने राव अर्जुन सिंह को उतारकर मुकाबले के दिलचस्प बना दिया है. अटेली सीट पर कुल 15 प्रत्याशी मैदान में है.

महेंद्रगढ़ जिले की नांगल चौधरी विधानसभा सीट पर फिलहाल बीजेपी के अभय सिंह विधायक हैं और जबकि दूसरे नंबर पर इनेलो की मंजू थीं. इस बार के विधानसभा चुनाव में नांगल चौधरी सीट पर कुल सात उम्मीदवार मैदान में है. बीजेपी ने अपने मौजूदा विधायक अभय सिंह को उतारा है तो कांग्रेस ने राजा राम गोलवा पर दांव लगाया है.

नारनौल विधानसभा सीट हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले के तहत आती है. नारनौल सीट से बीजेपी के ओम प्रकाश विधायक हैं. जबकि दूसरे नंबर पर रहे इनेलो के कमलेश थे. इस बार के विधानसभा चुनाव में नारनौल सीट पर कुल 9 प्रत्याशी मैदान में उतरे हैं. बीजेपी ने अपने मौजूदा विधायक ओम प्रकाश को उतारा है तो कांग्रेस ने नरेंद्र सिंह पर दांव लगाया है. ऐसे में अब सवाल है कि राहुल गांधी महेंद्रगढ़ के सियासी रण में उतरकर क्या कांग्रेस की नैया पार लगा पाएंगे?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें