scorecardresearch
 

Goa Election: कांग्रेस ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची की जारी, जानिए किन्हें मिला मौका

गोवा चुनाव के लिए कांग्रेस की तरफ से अपने उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट भी जारी कर दी गई है. पार्टी ने दूसरी सूची में कुल सात उम्मीदवारों का ऐलान किया है. अभी तक पार्टी 17 सीटों पर अपने उम्मीदवार फाइनल कर चुकी है.

X
Goa Election: कांग्रेस ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची की जारी Goa Election: कांग्रेस ने उम्मीदवारों की दूसरी सूची की जारी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गोवा कांग्रेस ने 17 सीटों पर अपने उम्मीदवार किए फाइनल
  • शिवसेना संग गठबंधन पर सस्पेंस कायम
  • आप-टीएमसी के आने से पार्टी की राह हुई मुश्किल

गोवा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने अपनी उम्मीदवारों की दूसरी सूची भी जारी कर दी है. रविवार को पार्टी की तरफ से सात और उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी गई. ऐसा कर अभी तक कांग्रेस अपने कुल 17 उम्मीदवारों का चयन कर चुकी है. इससे पहले कांग्रेस ने 10 उम्मीदवारों की घोषणा की थी.

जानकारी के लिए बता दें कि गोवा में 14 फरवरी को एक ही चरण में वोट पड़ने वाले हैं. इस बार देश के सबसे छोटे राज्य में बीजेपी-कांग्रेस के अलावा आम आदमी पार्टी और तृणमूल कांग्रेस भी चुनावी मैदान में हैं. आप द्वारा भी चुनाव के लिए 20 उम्मीदवारों को फाइनल कर दिया गया है.

कांग्रेस की दूसरी सूची की बात करें तो उनकी तरफ से चुनावी मैदान में जितेंद्र गांवकर, लुई फर्नांडीज, मनीषा शेनवी उसगांवकर, राजेश फलदेसाई, कैप्टन विराटो फर्नांडीज, Avertano Furtado और Olencio Simoes को उतारा गया है. वहीं क्योंकि इस चुनाव में कांग्रेस ने गोवा फॉरवर्ड पार्टी संग गठबंधन कर रखा है, ऐसे में नॉर्थ गोवा की Mayem और साउथ गोवा की Fatorda सीट से कांग्रेस कोई उम्मीदवार खड़ा नहीं करने वाली है.

वैसे अभी तक इस बात पर सस्पेंस बना हुआ है कि शिवसेना गोवा के रण में कांग्रेस संग मिलकर चुनाव लड़ने वाली है या नहीं. कुछ दिन पहले ही संजय राउत ने गोवा कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की थी. बैठक के बाद उन्होंने कहा था कि राज्य में एक संभावित गठबंधन को लेकर लंबी बातचीत हुई. अभी के लिए शिवसेना राकांपा संग मिलकर चुनावी मैदान में उतरने जा रही है.

लेकिन इस सब के बाजवूद भी गोवा रण कांग्रेस के लिए खासा मुश्किल साबित होने वाला है. कई विधायक पार्टी पहले ही छोड़ चुके हैं और जब से टीएमसी मैदान में उतरी है, जमीन पर कई समीकरण भी बदले हैं. केजरीवाल की आम आदमी पार्टी के आने से भी कांग्रेस की राह मुश्किल हुई है. अब पार्टी इससे पार पा पाती है या नहीं, ये 10 मार्च को नतीजों वाले दिन स्पष्ट हो जाएगा. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें