scorecardresearch
 

सिख दंगे...पेरिफेरल एक्सप्रेसवे...संसद से ऐसे दिल्ली चुनाव को साध गए पीएम मोदी

बीजेपी दिल्ली चुनाव में अपनी 22 साल के सत्ता के वनवास को खत्म करने की कवायद में है. बीजेपी नेताओं की पूरी फौज दिल्ली में डेरा जमाए हुए है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा से दिल्ली के चुनावी समीकरण को साधने की कवायद की है.

Delhi election 2020: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटोो-PTI) Delhi election 2020: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटोो-PTI)

  • दिल्ली की सत्ता से बीजेपी 22 सालों से है दूर
  • मोदी ने संसद में किया सिख दंगे का जिक्र

गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण प्रस्ताव पर लाए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर करीब पौने दो घंटे बोले. पीएम मोदी ने जिस तरह से अपनी सरकार के कार्यों की चर्चा के साथ-साथ सिख दंगा, पेरिफेरल एक्सप्रेसवे, अनाधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने और सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन का जिक्र किया वह दिल्ली विधानसभा चुनाव के समीकरण को साधने की कवायद के तहत देखा जा रहा है.

1984 के सिख विरोधी दंगों का जिक्र

पीएम मोदी ने संसद में कहा कि कांग्रेस अल्पसंख्यकों के नाम पर अपनी रोटियां सेंकती रहती है. क्या कांग्रेस को दिल्ली के सिख विरोधी दंगे याद नहीं हैं. पीएम ने कहा कि क्या सिख अल्पसंख्यक नहीं थे, तब सिख भाइयों के गले में टायर बांधकर जला दिया गया था. सिख दंगे के आरोपियों को जेल नहीं भेजा गया. जिन पर सिख दंगों को भड़काने का आरोप है, उन्हें मुख्यमंत्री बना दिया गया है. क्या अल्पसंख्यकों के लिए दो तराजू होंगे?

पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे

पीएम ने कहा, 'देश की अर्थव्यवस्था को ताकत देने में इंफ्रास्ट्रक्चर का बहुत बड़ा महत्व होता है. जितना ज्यादा बल हम इंफ्राफ्ट्रक्चर को देते हैं, वो अर्थव्यवस्था, रोजगार और नए उद्योगों को गति देता है. इसलिए हम इंफ्रास्ट्रक्चर के कामों में गति लाए हैं. इरिगेशन से लेकर इंडस्ट्री तक, रोड से लेकर पोर्ट्स तक और एयर वे से लेकर वाटर वे तक हमने अनेक फैसले लिए हैं.

ये भी पढ़ें: संसद में राहुल गांधी पर PM मोदी का तंज- ट्यूबलाइट के साथ ऐसा ही होता है

पीएम मोदी ने कहा कि दिल्ली में हर रोज ट्रैफिक से हजारों ट्रक गुजरते थे. पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे को पूरा करने का 2009 में यूपीए सरकार का संकल्प था, जिसे 2014 तक उन्होंने कागजों तक ही सीमित रखा था. 2014 में आने के बाद हमने मिशन मोड पर काम किया और आज ये काम पूरा हो गया है. इससे दिल्ली के लोगों को जाम से छुटकारा मिला और प्रदूषण में भी कमी आई.

CAA के खिलाफ प्रदर्शन पर निशाना

सीएए के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन को पीएम मोदी ने निशाने पर लेते हुए कहा कि संविधान के नाम पर दिल्ली में जो हो रहा है उसे दिल्ली देख रहा है. देशवासियों की चुप्पी कभी तो रंग लाएगी. सुप्रीम कोर्ट संविधान में वर्णित एक महत्वपूर्ण अंग है. सुप्रीम कोर्ट बार-बार ये कह रहा कि आंदोलन ऐसा न हो जो सामान्य मानव को तकलीफ दे और  हिंसा के रास्ते पर न चले, लेकिन वामपंथी और कांग्रेस के लोग वहां जाकर लोगों को उकसा रहे हैं और भड़काऊ बातें कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: BJP में परवेश वर्मा बनाम मनोज तिवारी, दिल्ली में वोटिंग से पहले CM की दावेदारी

1700 कॉलोनियों को नियमित करने का जिक्र

सरकार के काम गिनाते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अगर हमारी सरकार के काम करने की गति तेज ना होती तो 11 करोड़ लोगों के घरों में शौचालय न बनते, 13 करोड़ गरीब लोगों के घरों में गैस का चूल्हा नहीं पहुंचता. दिल्ली में लंबे समय से अटकी 1,700 अनाधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने का काम पूरा नहीं हो पाता. इस काम को हमारी सरकार ने करके दिखाया है, जिसे दिल्ली के इन कॉलोनियों का विकास हो सकेगा और उन्हें मूलभूत सुविधाएं मिलेंगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें