scorecardresearch
 

लद्दाख गतिरोध पर बोले शाह- हमारे एक इंच हिस्से पर भी कोई कब्जा नहीं कर सकता

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि सरकार चीन में लद्दाख के साथ गतिरोध को सुलझाने के लिए हरसंभव सैन्य और कूटनीतिक कदम उठा रही है. 

लद्दाख गतिरोध पर क्या बोले अमित शाह? (फाइल फोटो) लद्दाख गतिरोध पर क्या बोले अमित शाह? (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मोदी सरकार एक-एक इंच जमीन बचाने के लिए सजग
  • गतिरोध सुलझाने के लिए कूटनीतिक कदम उठा रही सरकार
  • सरकार देश की संप्रभुता और सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध

लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध जारी है. इस बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा कि मोदी सरकार देश की एक-एक इंच जमीन बचाने के लिए पूरी तरह सजग है और कोई इस पर कब्जा नहीं कर सकता. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार चीन में लद्दाख के साथ गतिरोध को सुलझाने के लिए हरसंभव सैन्य और कूटनीतिक कदम उठा रही है. 

क्या चीनी सैनिकों ने भारतीय क्षेत्र में प्रवेश किया है? इस प्रश्न के जवाब में शाह ने कहा, 'हम अपने एक-एक इंच भूभाग को लेकर चौकन्ना हैं, कोई इस पर कब्जा नहीं कर सकता. हमारे रक्षा बल और नेतृत्व देश की संप्रभुता और सीमा की रक्षा करने में सक्षम हैं.' गृह मंत्री ने यह भी कहा कि सरकार देश की संप्रभुता और सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है. 

आगामी बिहार विधानसभा चुनाव के संदर्भ में शाह ने कहा कि राजग दो-तिहाई बहुमत हासिल करेगा. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार चुनाव के बाद राज्य के अगले मुख्यमंत्री होंगे. 

वहीं पश्चिम बंगाल को लेकर गृह मंत्री ने कहा कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के बाद वहां सरकार बदलेगी और बीजेपी वहां सत्ता में आएगी. उन्होंने कहा, 'हमें लगता है कि हम पश्चिम बंगाल में मजबूती से लड़ेंगे और सरकार बनाएंगे.' उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था की स्थिति गंभीर है और बीजेपी जैसे राजनीतिक दलों को वहां राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग करने का हर अधिकार है.

देखें: आजतक LIVE TV

बिहार में यदि बीजेपी की सीटें जेडीयू से अधिक आती हैं तो क्या पार्टी मुख्यमंत्री पद पर दावेदारी करेगी, इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'केंद्र सरकार संविधान को ध्यान में रखते हुए और राज्यपाल की रिपोर्ट के आधार पर उचित निर्णय लेगी.' 

उन्होंने कहा, 'कोई अगर, मगर की बात नहीं है. नीतीश कुमार बिहार के अगले मुख्यमंत्री होंगे. हमने सार्वजनिक घोषणा की है और हम इसे लेकर प्रतिबद्ध हैं.' 

बिहार में सत्तारूढ़ गठजोड़ से लोक जनशक्ति पार्टी के अलग होने का जिक्र करते हुए शाह ने कहा कि पार्टी को पर्याप्त संख्या में सीटों की पेशकश की गयी लेकिन फिर भी वह गठबंधन से अलग हो गयी. उन्होंने कहा, 'यह उनका फैसला था, हमारा नहीं.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें